देश में टेलीकॉम उपकरणों का बढ़ेगा उत्पादन:कैबिनेट ने टेलीकॉम उपकरण बनाने वाली कंपनियों को 12,195 करोड़ रुपए का प्रोत्साहन दिया

नई दिल्ली8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • PLI स्कीम से अगले 5 साल में देश में 2,44,200 करोड़ रुपए के अतिरिक्त टेलीकॉम उपकरण बनेंगे
  • जल्द ही लैपटॉप और PC के उत्पादन को प्रोत्साहित करने के लिए भी एक PLI योजना आएगी

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार को टेलीकॉम उपकरण बनाने वाली कंपनियों के लिए प्रॉडक्शन-लिंक्ड इंसेंटिव (PLI) स्कीम को मंजूरी दी। इसके तहत इन कंपनियों को उत्पादन बढ़ाने के लिए 12,195 करोड़ रुपए का प्रोत्साहन मिलेगा। यह जानकारी केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बुधवार को दी।

कैबिनेट बैठक के बाद मंत्री ने कहा कि इस PLI स्कीम से अगले 5 साल में देश में 2,44,200 करोड़ रुपए के अतिरिक्त टेलीकॉम उपकरण बनेंगे। जल्द ही लैपटॉप और PC के उत्पादन को प्रोत्साहित करने के लिए भी एक PLI योजना आएगी। सरकार भारत को मैन्यूफैक्चरिंग का ग्लोबल हब बनाना चाहती है। इसके लिए कारोबारी सहूलियत का माहौल बनाया गया है।

आयात पर घटेगी निर्भरता

इस स्कीम से टेलीकॉम और नेटवर्किंग उपकरणों का घरेलू उत्पादन बढ़ेगा और इसमें बड़े पैमाने पर निवेश भी होगा। इसका एक अन्य फायदा यह भी होगा कि इन उत्पादों के आयात पर देश की निर्भरता घटेगी। साथ ही टेलीकॉम और नेटवर्किंग सेक्टर के मेड इन इंडिया उत्पादों के निर्यात को भी बढ़ावा मिलेगा।

निवेश और बिक्री का टार्गेट हासिल करने वाली कंपनियों को ही मिलेगी सहायता

एक आधिकारिक बयान के मुताबिक इस स्कीम के तहत सरकार द्वारा निर्धारित टेलीकॉम व नेटवर्किंग उत्पाद बनाने वाली कंपनियों को सहायता दी जाएगी। अगले 4 साल में कम से कम एक निश्चित राशि का निवेश करने वाली कंपनियों को ही यह सहायता मिलेगी। कंपनियों को कर बाद बिक्री का भी एक न्यूनतम लक्ष्य हासिल करना होगा। इसके लिए 2019-2020 को बेस इयर बनाया गया है। चार साल के लिए तय किया गया न्यूनतम निवेश एक बार में भी किया जा सकता है।

3,000 करोड़ रुपए से ज्यादा निवेश मिलने की उम्मीद

नवंबर 2020 में सरकार ने विभिन्न मंत्रालयों और विभागों के अंदर PLI स्कीम शुरू करने की घोषणा की थी। कैबिनेट का ताजा फैसला उसी की एक अगली कड़ी है। उम्मीद की गई है कि इस योजना से सेक्टर को 3,000 करोड़ रुपए से ज्यादा का निवेश मिलेगा। साथ ही सीधे और अप्रत्यक्ष तौर पर बेशुमार रोजगार खुलेंगे।

खबरें और भी हैं...