• Hindi News
  • Business
  • Chinese Devices Are Major Force Behind Digital Payment Growth, Four Out Of Every Five Brands Used In UPI Transactions Are From China

चीनी फोन से देसी पेमेंट:चाइनीज डिवाइस से मिल रहा डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा, ट्रांजैक्शन में यूज हो रहे हर पांच में से चार ब्रांड चीन के

नई दिल्ली7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

देश में डिजिटल पेमेंट्स को बढ़ावा देने में सीधे तौर पर तो नहीं परोक्ष रूप से जरूर चीन का बड़ा हाथ रहा है। दरअसल, यहां ज्यादातर डिजिटल लेन-देन जिन टॉप 5 ब्रांड्स के हैंडसेट से हो रहे हैं, उनमें से चार चीन के हैं। 2021 की सितंबर तिमाही में इस काम के लिए यूज हो रहे हैंडसेट में से लगभग 45% शाओमी और वीवो के थे। इन बातों का पता यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) ऐप फोनपे की पल्स रिपोर्ट के आंकड़ों से चला है।

शाओमी का फोन इस्तेमाल कर रहे हैं फोनपे के 8.07 करोड़ यूजर

पिछली तिमाही में UPI ऐप फोनपे के 8.07 करोड़ यूजर शाओमी, 6.53 करोड़ यूजर वीवो जबकि 6.13 करोड़ यूजर सैमसंग के हैंडसेट यूज कर रहे थे। इन तीनों दिग्गज ब्रांड के अलावा फोनपे के 4.21 करोड़ यूजर ओपो और 2.42 करोड़ यूजर रियलमी के हैंडसेट यूज कर रहे थे। इस हिसाब से डिजिटल पेमेंट के लिए जिन स्मार्टफोन का इस्तेमाल ज्यादा हो रहा है, उनमें ओपो चौथे और रियलमी पांचवें नंबर का ब्रांड रहा है।

वॉलमार्ट के फोनपे के जरिए हो रहे हैं 45% UPI ट्रांजैक्शन

देश में 45% UPI ट्रांजैक्शन वॉलमार्ट के मालिकाना हक वाली फोनपे के जरिए होते हैं। लगभग 32 करोड़ रजिस्टर्ड यूजर्स वाली फोनपे ने रिपोर्ट के लिए कुल 726 में से 720 जिलों से डेटा जुटाए हैं। ये आंकड़े तब आए हैं, जब सरकार ने कथित तौर पर चीनी ब्रांड्स से उनके स्मार्टफोन में यूज होने वाले कंपोनेंट और डेटा के इस्तेमाल से जुड़े डिटेल मांगे हैं। इसको वहां की स्मार्टफोन कंपनियों पर अंकुश लगाने की कवायद के तौर पर देखा जा रहा है।

फोनपे के रियलमी यूजर्स की संख्या में सबसे तेज उछाल

मंगलवार को जारी फोनपे पल्स रिपोर्ट के मुताबिक, इस UPI ऐप के सबसे ज्यादा यानी 25% यूजर शाओमी के मोबाइल डिवाइस इस्तेमाल करते हैं। इसके अलावा 20% यूजर्स वीवो के फोन यूज कर रहे हैं, लेकिन सितंबर क्वॉर्टर में एक इंट्रेस्टिंग ट्रेंड नजर आया। फोनपे के शाओमी (6.4%) यूजर्स के मुकाबले रियलमी (17.8%), वनप्लस (17.0%) और वीवो (11.2%) यूज करने वालों की संख्या तेजी से बढ़ी है। एक अनुमान के मुताबिक, आधे से ज्यादा इंडियन स्मार्टफोन मार्केट पर वीवो, ओपो, शाओमी और वनप्लस का कब्जा है।

ट्रांजैक्शन की टोटल पेमेंट वैल्यू 23.3% बढ़कर 9.21 लाख करोड़ रुपए हुई

इधर, फोनपे की रिपोर्ट में डिजिटल, खासतौर पर UPI के जरिए होनेवाले पेमेंट सितंबर तिमाही में तेजी से बढ़ने का जिक्र किया गया है। इस दौरान हुए ट्रांजैक्शन की टोटल पेमेंट वैल्यू (TPV) तिमाही आधार पर 23.3% बढ़कर 9.21 लाख करोड़ रुपए हो गई। पल्स रिपोर्ट के मुताबिक, सितंबर तिमाही में ट्रांजैक्शन की संख्या तिमाही आधार पर 33.6% उछलकर 526.5 करोड़ रही।

ऑफलाइन पेमेंट में तिमाही आधार पर आया 65% का उछाल

दूसरा इंट्रेस्टिंग ट्रेंड यह रहा कि ऑनलाइन पेमेंट के मुकाबले ऑफलाइन मर्चेंट पेमेंट में बढ़ोतरी ज्यादा रही। ऑफलाइन पेमेंट में तिमाही आधार पर आया 65% का उछाल इस बात का संकेत है कि दूसरी लहर से इकोनॉमी तेजी से उबरी है और दुकानें भी तेजी से खुल रही हैं। सितंबर तिमाही में फोनपे के रजिस्टर्ड यूजर्स की संख्या 30.5 करोड़ से बढ़कर 32.8 करोड़ हो गई है।

चंडीगढ़ में UPI ट्रांजैक्शन वॉल्यूम में तिमाही आधार पर 50% का उछाल

अगर डिजिटल ट्रांजैक्शन में होनेवाली बढ़ोतरी को इलाके के हिसाब से देखें तो इसकी ग्रोथ सबसे ज्यादा चंडीगढ़ में रही है। वहां फोनपे के जरिए होने वाले UPI ट्रांजैक्शन वॉल्यूम में तिमाही आधार पर 50% की बढ़ोतरी हुई है। जहां तक राज्यों की बात है, तो कर्नाटक और महाराष्ट्र दोनों ट्रांजैक्शन वॉल्यूम में 22 करोड़ की बढ़ोतरी के साथ अव्वल रहे हैं।

खबरें और भी हैं...