• Hindi News
  • Business
  • Coal India Consolidated Profit Fell By 55 Pc To Rs 2080 Crore In April June Quarter

कॉरपोरेट रीजल्ट:कोल इंडिया का कंसॉलिडेटेड प्रॉफिट 55% घटा, अप्रैल-जून तिमाही में 2,080 करोड़ रुपए का हुआ मुनाफा

नई दिल्लीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पिछले साल पहले की समान तिमाही में कोल इंडिया का कंसॉलिडेटेड नेट प्रॉफिट 4,629.67 करोड़ रुपए था - Dainik Bhaskar
पिछले साल पहले की समान तिमाही में कोल इंडिया का कंसॉलिडेटेड नेट प्रॉफिट 4,629.67 करोड़ रुपए था
  • जून तिमाही में कंपनी की बिक्री 17,007.10 करोड़ रुपए रही, जो एक साल पहले की समान तिमाही में 23,223 करोड़ रुपए थी
  • पिछली तिमाही में कंपनी का कंसॉलिडेटेड कोल आउटपुट 13.694 करोड़ टन से घटकर 12.104 करोड़ टन पर आ गया

सरकारी कंपनी कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल) ने बुधवार को कहा कि इस कारोबारी साल की पहली तिमाही (अप्रैल-जून) में उसका कंसॉलिडेटेड नेट प्रॉफिट 55 फीसदी घटकर 2,079.60 करोड़ रुपए रहा। कंपनी ने शेयर बाजारों को दी गई सूचना में कहा कि एक साल पहले की समान तिमाही में कंपनी का कंसॉलिडेटेड प्रॉफिट 4,629.67 करोड़ रुपए था। इस दौरान कंपनी की बिक्री 17,007.10 करोड़ रुपए रही, जो एक साल पहले की समान तिमाही में 23,223 करोड़ रुपए थी।

कुल खर्च 19,077.44 करोड़ रुपए से घटकर 16,470.64 करोड़ रुपए पर आ गया

जून तिमाही में कंपनी का कुल खर्च घटकर 16,470.64 करोड़ रुपए पर आ गया, जो एक साल पहले की समान तिमाही में 19,077.44 करोड़ रुपए था। इस दौरान कंपनी का कंसॉलिडेटेड कोल आउटपुट 13.694 करोड़ टन से घटकर 12.104 करोड़ टन पर आ गया। कोल ऑफटेक इस दौरान 15.349 करोड़ टन से घटकर 120.42 करोड़ टन पर आ गया।

देश के कुल कोयला उत्पादन में कोल इंडिया का 80% से ज्यादा योगदान

देश के कुल कोयला उत्पादन में कोल इंडिया 80 फीसदी से ज्यादा योगदान करती है। कंपनी 2023-24 तक सालाना एक अरब टन उत्पादन का लक्ष्य हासिल करना चाहती है। कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी ने मंगलवार को कहा था कि कोल इंडिया लिमिटेड 2023-24 तक एक अरब टन उत्पादन का लक्ष्य हासिल करने के लिए कोल इवैक्युएशन, एक्स्प्लोरेशन और क्लीन कोल टेक्नोलॉजीज से जुड़ी परियोजनाओं पर 1.22 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा निवेश करना चाहती है।

कंपनी 500 परियोजनाओं पर करेगी 1.22 लाख करोड़ रुपए का निवेश

मंत्री ने कहा था कि कंपनी 1.22 लाख करोड़ रुपए के प्रस्तावित खर्च में से 32,696 करोड़ रुपए कोल इवैक्युएशन पर, 25,117 करोड़ रुपए माइन इंफ्रास्ट्रक्चर पर और 29,461 करोड़ रुपए प्रॉजेक्ट डेवलपमेंट पर निवेश करना चाहती है। इसके अलावा कंपनी डायवर्सिफिकेशन और क्लीन कोल टेक्नोलॉजीज पर 32,199 करोड़ रुपए, सोशल इंफ्रास्ट्रक्चर पर 1,495 करोड़ रुपए और एक्स्प्लोरेशन कार्य पर 1,893 करोड़ रुपए खर्च करना चाहती है। 1.22 लाख करोड़ रुपए का निवेश कुल 500 परियोजनाओं पर किया जाएगा।

दिवाली तक गोल्ड दे सकता है करीब 10% रिटर्न

खबरें और भी हैं...