• Hindi News
  • Business
  • Corona; Coronavirus ;COVID 19 ; Lockdown ; ESIC ; ESI Beneficiaries Will Now Be Able To Deposit February's Contribution, 3.49 Crore People Will Benefit

पर्सनल फाइनेंस:ESI लाभार्थी अब 15 मई तक जमा कर सकेंगे फरवरी का अंशदान, 3.49 करोड़ लोगों को होगा फायदा

नई दिल्ली2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
श्रम मंत्रालय ने कहा कि कई कंपनियां या इकाइयां अस्थायी रूप से बंद हैं। वहीं लॉकडाउन के चलते श्रमिकों के लिए भी काम पर जाना मुश्किल है। इसी को ध्यान में रखते हुए ये फैसला लिया गया है। - Dainik Bhaskar
श्रम मंत्रालय ने कहा कि कई कंपनियां या इकाइयां अस्थायी रूप से बंद हैं। वहीं लॉकडाउन के चलते श्रमिकों के लिए भी काम पर जाना मुश्किल है। इसी को ध्यान में रखते हुए ये फैसला लिया गया है।
  • इससे पहले इसे जमा करने की आखिरी को बढ़ाकर 15 अप्रैल किया गया था।
  • ESI का फायदा निजी कंपनियों, फैक्ट्रियों और कारखानों में काम करने वाले कर्मचारियों को मिलता है।

कोरोनावायरस महामारी के कारण देश में लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ाया गया है। इसे देखते हुए राज्य बीमा निगम (ESIC) ने अपने अंशदाताओं को अपनी किस्त जमा करने को लेकर रहत दी है। इसके तहत ESIC ने फरवरी महीने के लिए ESI अंशदान जमा कराने की समयसीमा को 15 मई तक बढ़ा दिया है। इससे पहले इसे जमा करने की आखिरी तारीख को बढ़ाकर 15 अप्रैल किया गया था। श्रम मंत्रालय ने कहा कि कई कंपनियां या इकाइयां अस्थायी रूप से बंद हैं। वहीं लॉकडाउन के चलते श्रमिकों के लिए भी काम पर जाना मुश्किल है। इसी को ध्यान में रखते हुए ये फैसला लिया गया है।

कंपनियों को मिलेगी राहत
ESI अंशदान दाखिल करने के लिए कंपनियों को एक्स्ट्रा टाइम दिया गया है उस समयावधि के लिए कंपनियों या इकाइयों पर कोई जुर्माना या ब्याज नहीं लगाया जाएगा। इस फैसले से 3.49 करोड़ बीमित व्यक्तियों (आईपी) और 12,11,174 एंप्लॉयर (नियोक्ता) को राहत मिलेगी। इसके अलावा ESIC ने लाभार्थियों के लिए कुछ दूसरे राहत उपाय भी किए हैं।

21000 रु तक सैलरी पर मिलता है फायदा
ESI का फायदा निजी कंपनियों, फैक्ट्रियों और कारखानों में काम करने वाले कर्मचारियों को मिलता है। ESI के तहत मुफ्त इलाज का लाभ लेने के लिए ESI डिस्पेंसरी अथवा हॉस्पिटल जाना होता है। इसके लिए ESI कार्ड बनता है। कर्मचारी इस कार्ड या फिर कंपनी से लाए गए दस्तावेज के आधार पर स्कीम का फायदा ले सकते हैं। ESI का लाभ उन कर्मचारियों को उपलब्ध है, जिनकी मासिक आय 21 हजार रुपए या इससे कम है। हालांकि दिव्यांगजनों के मामले में आय सीमा 25000 रुपए है।

प्राइवेट मेडिकल से दवा भी खरीद सकेंगे ESI लाभार्थी
लॉकडाउन अवधि के दौरान ईएसआई लाभार्थियों की कठिनाई को कम करने के लिए, ईएसआई लाभार्थियों को प्राइवेट मेडिकल से दवाओं की खरीद करने की अनुमति दी गई है। बीमित व्‍यक्तियों को चिकित्‍सा का लाभ, नियम 60-61 के अंतर्गत प्रदान किया जाता है जो स्‍थायी विकलांगता के कारण बीमित होने लायक रोजगार में नहीं है या फिर सेवानिवृत्‍त बीमित व्‍यक्ति हैं। ऐसे व्‍यक्ति 10 रुपए प्रति महीने की दर से पूरे वर्ष के लिए अग्रिम धनराशि जमा करके चिकित्‍सा लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं।

अटल पेंशन योजना का लाभ लेने वालों को भी दी राहत
इसके तहत अटल पेंशन योजना में अब 30 जून 2020 तक अंशदान अपने आप  (ऑटो डेबिट) नहीं कटेगा। भारत सरकार की खास स्कीम अटल पेंशन योजना में करीब 2.23 करोड़ अंशधारक हैं। इसमें ज्यादातर संख्या असंगठित क्षेत्र के कामगारों की है। इसमें अंशदान कैश या नगदी की जगह ऑटो डेबिट के जरिए की जाती है। पीएफआरडीए के सर्कुलर के मुताबिक, लॉकडाउन के दौरान टाले गए अंशदान का योगदान 1 जुलाई से 30 सितंबर 2020 के बीच किया जा सकता है। अंशधारकों को कोई पेनाल्टी स्वरूप ब्याज भी नहीं देना है। आमतौर पर 1 प्रतिशत का ब्याज देना होता है। इसके साथ ही जुलाई, अगस्त और सितंबर महीने का योगदान भी साथ में किया जाए।