पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

क्रूड अपडेट:9 महीने के टॉप पर पहुंचा क्रूड ऑयल, लगातार सातवें सप्ताह रही तेजी, अप्रैल 2019 के बाद साप्ताहिक उछाल का सबसे लंबा ट्रेंड

नई दिल्ली6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोनावायरस वैक्सीन का उपयोग शुरू होने के कारण महामारी थमने, आर्थिक तेजी आने और क्रूड की मांग बढ़ने की उम्मीद की जा रही है - Dainik Bhaskar
कोरोनावायरस वैक्सीन का उपयोग शुरू होने के कारण महामारी थमने, आर्थिक तेजी आने और क्रूड की मांग बढ़ने की उम्मीद की जा रही है
  • ब्रेंट क्रूड शुक्रवार को 1.5% उछलकर 52.26 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ, जो मार्च के बाद का टॉप लेवल है
  • WTI 1.5% उछलकर 49.10 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ, फरवरी के बाद का ऊपरी स्तर है

क्रूड ऑयल शुक्रवार को गत 9 महीने के सर्वोच्च स्तर पर बंद हुआ। कोरोनावायरस वैक्सीन का उपयोग शुरू होने के बाद ग्लोबल इकॉनोमी में तेज रिकवरी की उम्मीद के बीच दोनों कच्चा तेल लगातार सातवें सप्ताह तेजी के दायरे में बंद हुए। अप्रैल 2019 के बाद क्रूड ऑयल में सबसे लंबे समय तक साप्ताहिक तेजी दर्ज की गई है।

प्रमुख क्रूड ऑयल ब्रेंट क्रूड शुक्रवार को 1.5 फीसदी उछलकर 52.26 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ। यह मार्च के बाद का टॉप लेवल है। प्रमुख अमेरिकी क्रूड वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिए (WTI) 1.5 फीसदी उछलकर 49.10 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ। यह WTI के लिए फरवरी के बाद का ऊपरी स्तर है।

अमेरिका ने मॉडर्ना के वैक्सीन को भी मंजूरी दी

कोरोनावायरस वैक्सीन का उपयोग शुरू होने के कारण महामारी थमने, आर्थिक तेजी आने और क्रूड की मांग बढ़ने की उम्मीद की जा रही है। फाइजर ने अपनी वैक्सीन के उपयोग के लिए जापान में भी आवेदन दाखिल कर दिया है। इस वैक्सीन का उपयोग अमेरिका और ब्रिटेन में पहले ही शुरू हो चुका है। शुक्रवार को अमेरिका ने मॉडर्ना इंक ओर नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के द्वारा विकसित वैक्सीन के इमर्जेंसी उपयोग को भी मंजूरी दे दी, जिकी आपूर्ति सोमवार से शुरू हो जाएगी।

अमेरिका में नई राहत पैकेज की संभावना से भी कीमत को मिल रहा सपोर्ट

अमेरिका में 900 अरब डॉलर के नए राहत पैकेज की घोषणा होने की उम्मीद से भी आर्थिक रिकवरी की प्रक्रिया तेज होने की उम्मीद है। अमेरिका में क्रूड भंडार में गिरावट आने की खबर भी क्रूड प्राइस को सपोर्ट कर रही है। ओपेक प्लस ग्रुप अगले साल तेल उत्पादन बढ़ाने की योजना की रफ्तार को धीमा कर भी तेल प्राइस को बढ़ाने की कोशिश कर रहा है। ओपेक प्लस जनवरी में दैनिक तेल उत्पादन में 5 लाख बैरल की बढ़ोतरी करना चाहता है और अगले कदम पर फैसला लेने के लिए जनवरी के शुरू में एक बैठक करने वाला है।