पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Business
  • Due To A Limit Of 50 Guests, The Wedding Industry May Lose One Lakh Crore

कारोबार का बजा बैंड:50 मेहमानों की लिमिट से देश में शादी इंडस्ट्री को एक लाख करोड़ रुपए का नुकसान संभव, अब तक 20 हजार करोड़ का नुकसान हो चुका

नई दिल्ली (प्रमोद शर्मा)11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • दस कराेड़ श्रमिकों काे राेजगार से धाेना पड़ सकता है हाथ

काेराेना महामारी की रोकथाम के लिए शादी-समारोह में केवल 50 लाेगाें की अनुमति के चलते देश की करीब 2.5 लाख कराेड़ रुपए के सालाना काराेबार करने वाले शादी उद्योग पर संकट गहरा गया है। शादी उद्योग से जुड़े कारोबारियों के मुताबिक अगर सरकार ने शादी-समाराेह में शामिल हाेने वालाें की संख्या में ढील नहीं दी ताे 25 नवंबर से शुरू हाेने वाले वेडिंग सीजन के दाैरान लगभग करोड़ों मजदूरों और कारोबारियों को रोजगार से हाथ धाेना पड़ सकता है। इसके अलावा करीब एक लाख कराेड़ रुपए के काराेबार का नुकसान हाे सकता है।

सालाना करीब 12-13 कराेड़ लाेगाें काे मिलता है राेजगार

आल इंडिया टैंट डेकोरेटर वेलफेयर एसोसिएशन के सीनियर वाइस चेयरमैन रवि जिंदल कहते हैं, शादी समारोह नहीं होने से आर्थिक हालात और खराब हाे सकते हैं, क्योंकि मार्केट में पैसा नहीं आएगा। वेडिंग इंडस्ट्री से देश में टेंट, मैरिज गार्डन, केटरिंग, डेकोरेशन और इवेंट समेत करीब तीन कराेड़ कारोबारी जुड़े हैं। इस इंडस्ट्री से हर साल करीब 12-13 कराेड़ लाेगाें काे राेजगार मिलता है, जाे देश की कुल आबादी का लगभग 10 फीसदी है।

वेडिंग इंडस्ट्री काे 15-20 हजार करोड़ रुपए का नुकसान हाे चुका है

आल इंडिया टेंट डेकोरेटर वेलफेयर एसोसिएशन के मुताबिक इस साल लॉकडाउन की वजह से मार्च से जुलाई के दाैरान शादी-समाराेह टलने या सीमित दायरे में हाेने से वेडिंग इंडस्ट्री काे 15-20 हजार करोड़ रुपए का नुकसान हाे चुका है। जिंदल ने कहा कि हमने 19 अगस्त को गृह मंत्रालय की संसदीय समिति और केंद्रीय पर्यटन मंत्री प्रह्लाद पटेल काे ज्ञापन दिया गया है। हमने सरकार से शादी समारोह में 300-400 लाेगाें के शामिल होने की छूट देने, बिजली के बिलों में स्थायी शुल्क हटाने, मध्यम वर्ग के टेंट व्यवसायियों को बिना ब्याज 25 लाख रुपए के कर्ज और बड़े कारोबारियों के लिए 1 करोड़ की बैंक लिमिट जारी करने की मांग की है। इधर, सरकार से राहत मिलती न देख राजस्थान टेंट डीलर्स किराया व्यवसायी समिति इस मामले में काेर्ट का दरवाजा खटखटाने की तैयारी कर रही है।

इतने क्षेत्र जुड़े हैं वेडिंग इंडस्ट्री से-

इवेंट, फूल, लाईट, जनरेटर, डीजे साउंड, बैंड, फोटोग्राफर, आर्केस्ट्रा, केटरिंग, हलवाई, विवाह स्थल।

बाजार काे चलाने में भी मददगार-

शादियों से कपड़ा, ज्वैलरी, फुटवियर, किराना समेत कई उद्याेग जुड़े हैं। वेडिंग सीजन चलने से बाजार में काराेबार भी बढ़ता है।

देश की शादी इंडस्ट्री

  • 03 करोड़ व्यापारी शादी उद्योग से जुड़े हैं
  • 12 करोड़ के लगभग लोगों को राेजगार देता है
  • 01 करोड़ से ज्यादा शादियां होती हैं सालभर में

यह भी पढ़ें -

कोरोना में 7 फेरों का ट्रेंड:लॉकडाउन में शादी टलने के बाद नवंबर में जमकर होंगी शादियां; शुभ मुहूर्त में नहीं मिल रहा वेडिंग वेन्यू तो बिना मुहूर्त में ही शादी को तैयार हैं कपल्स

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन पारिवारिक व आर्थिक दोनों दृष्टि से शुभ फलदाई है। व्यक्तिगत कार्यों में सफलता मिलने से मानसिक शांति अनुभव करेंगे। कठिन से कठिन कार्य को आप अपने दृढ़ विश्वास से पूरा करने की क्षमता रखे...

और पढ़ें