पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अंडों की डिमांड फिर बढ़ी:बर्ड फ्लू से जनवरी और फरवरी में अंडे की खपत घटी, लेकिन कोरोना की वापसी से डिमांड के साथ कीमत भी बढ़ी

मुंबई2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

देश में कोरोना महामारी की वापसी से अंडे की डिमांड एक बार फिर बढ़ गई है। इससे एक अंडे की रिटेल कीमत बढ़कर 6-7 रुपए हो गई है, जो जनवरी और फरवरी के दौरान 5 रुपए के करीब बिक रहा था। क्योंकि उस दौरान बर्ड फ्लू से अंडे की खपत और उत्पादन दोनों प्रभावित हुई।

कम कीमत में हाई प्रोटीन आइटम मिलने से डिमांड तेजी से बढ़ी
पोल्ट्री एंड डेयरी मिनिस्ट्री के जॉइंट सेक्रेटरी OP चौधरी ने कहते हैं कि कोविड-19 के संक्रमितों के लिए भरपूर प्रोटीन वाले फूड अंडे को भोजन में शामिल करने की सलाह दी जाती है। क्योंकि अंडे में 11% प्रोटीन कंटेंट होता है, तो लोग कम कीमत पर मिलने वाले इस हाई प्रोटीन आइटम को जमकर खरीद रहे। इसका नतीजा यह रहा कि पिछले कुछ महीनों में अंडे की खपत में तेजी आई है।

बर्ड फ्लू से डिमांड घटी, लेकिन महामारी के वापसी से खपत फिर बढ़ी
सरकार ने मासिक आधार पर अंडे की खपत को लेकर कोई अनुमान नहीं दिया है। हालांकि इंडियन ब्रॉइलर ग्रुप के मैनेजिंग डायरेक्टर गुलरेज आलम ने कहा कि जून में मासिक आधार पर प्रति व्यक्ति अंडे की खपत औसतन 7 थी, जो बर्ड फ्लू के चलते घटकर 4 हो गई। हालांकि कोरोना की दूसरी लहर में अंडे की डिमांड बढ़ी और मार्च 2021 में प्रति व्यक्ति अंडे की खपत 7 हो गई।

उन्होंने कहा कि डिमांड में पॉजिटिव ग्रोथ ग्रामीण क्षेत्रों के बजाय शहरी क्षेत्रों में ज्यादा रही। अंडे के कारोबार से जुड़ी कंपनी वेंकीज के जनरल मैनेजर प्रसन्ना पडगांवकर कहते हैं कि अंडा अभी भी सबसे कम कीमत पर मिलने वाला प्रोटीन आइटम है।

फाइनेंशियल इयर 2018-19 के दौरान प्रति व्यक्ति अंडे की खपत 79 रही
भारत में 2019-20 के दौरान प्रति व्यक्ति ने 86 अंडे खाए। इसके पिछले साल प्रति व्यक्ति 79 अंडों की खपत रही थी। आलम ने कहा कि पिछले लॉकडाउन में अप्रैल-मई के दौरान अंडे और चिकन की डिमांड घटी थी। हालांकि जून से दिसंबर के दौरान इसमें सुधार दिखने लगी। लेकिन 2021 में जनवरी-फरवरी के दौरान बर्ड फ्लू से डिमांड पर बुरा असर पड़ा।

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 2019-20 के दौरान भारत में अंडे का प्रोडक्शन 140 अरब रहा, जो 2018-19 में 103 अरब था। कुल उत्पादन का 98% अंडा देश में ही खपता है। फाइनेंशियल इयर 1985-86 में 16.1 अरब अंडों का प्रोडक्शन हुआ था। कोरोना महामारी से अंडे का कारोबार करने वाली कंपनियों का बिजनेस भी मासिक आधार पर पिछले कुछ महीने में 100% यानी दोगुना बढ़ा है। क्योंकि ग्राहकों में हेल्थ और इम्युनिटी को लेकर सतर्कता बढ़ी है।

एक अंडे की कीमत की बात करें तो बिना पैकिंग किए अंडे का रिटेल भाव 7 से 8 रुपए है। पैक्ड ब्रांडेड अंडे की कीमत 10 रुपए या उससे ज्यादा है। हालांकि कीमत एरिया वाइस भी निर्भर करती है।

खबरें और भी हैं...