OTP से चार्ज होती हैं गाड़ियां:देश में EV का बड़ा बाजार बनेगा, निवेश के साथ रोजगार और कमाई भी होगी

मुंबई4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 2030 तक इलेक्ट्रिक व्हीकल फाइनेंस इंडस्ट्री का साइज 3.7 लाख करोड़ रुपए का होगा
  • वाहनों के चार्जिंग इंफ्रा और बैटरियों में 19.7 लाख करोड़ रुपए के निवेश की जरूरत होगी

देश में आने वाले समय में इलेक्ट्रिक व्हीकल (EV) का एक बहुत बड़ा बाजार बनने वाला है। इसके जरिए निवेश का एक अवसर खुलेगा। साथ ही रोजगार के लिए मौके बनेंगे। हालांकि एक बड़े बाजार के लिए अभी भी कम से कम 2 सालों का इंतजार करना होगा।

2030 तक 30% गाड़ियों को इलेक्ट्रिक से चलने का लक्ष्य

दरअसल, 2030 तक सरकार चाहती है कि 30% गाड़ियां इलेक्ट्रिक की हों। हाल में सरकार के थिंक टैंक नीति आयोग और रॉकी माउंटेन ने एक रिपोर्ट जारी की है। इसके मुताबिक, 2030 तक देश में इलेक्ट्रिक व्हीकल फाइनेंस इंडस्ट्री का साइज 3.7 लाख करोड़ रुपए का होगा। इसी के साथ अगले दस सालों में इलेक्ट्रिक वाहनों के चार्जिंग इंफ्रा और बैटरियों में 19.7 लाख करोड़ रुपए के निवेश की जरूरत होगी।

व्यक्तिगत स्तर पर नहीं खोल सकते हैं चार्जिंग स्टेशन

हालांकि, अभी भी किसी व्यक्ति को अगर चार्जिंग स्टेशन खोलना हो तो इसके लिए मंजूरी नहीं है। सरकार अभी इसके लिए गाइडलाइंस लाएगी। सरकारी कंपनी भारत पेट्रोलियम कॉर्प के एक अधिकारी के मुताबिक, सरकार जब तक इस पर गाइडलाइंस नहीं लाती है, तब तक व्यक्तिगत स्तर पर कोई चार्जिंग स्टेशन नहीं खोल पाएगा।

सरकारी कंपनियों का बड़ा दांव

वैसे देखा जाए तो, इस सेगमेंट में हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन, भारत पेट्रोलियम कॉर्प, इंडियन ऑयल कॉर्प, पावर ग्रिड जैसी सरकारी कंपनियां तेजी से काम कर रही हैं। इसके अलावा जो कंपनियां गाड़ियां बना रही हैं, वे भी अपनी EV मोबिलिटी के तहत स्टेशन लगा रही हैं। जैसे महिंद्रा एंड महिंद्रा, हीरो मोटो, टाटा आदि हैं। टाटा पावर तो इस सेगमेंट में एक बड़ा दांव खेल रही है। टाटा पावर ने सरकारी तेल कंपनियों के साथ इंद्रप्रस्थ गैस से भी करार किया है।

देश में EV मैन्युफैक्चरर्स, चार्जिंग सोल्यूशन और चार्जिंग नेटवर्क की सुविधा देनेवाली कंपनियों में डेल्टा इलेक्ट्रॉनिक्स, मास टेक, एबीबी इंडिया, पी2पावर सोल्यूशंस, ओकाया पावर ग्रुप आदि हैं।

6 महीने में हीरो लॉन्च करेगी इलेक्ट्रिक स्कूटर

हीरो ग्रुप के पवन मुंजाल कहते हैं कि अगले 6 महीनों में कंपनी इलेक्ट्रिक स्कूटर लॉन्च कर देगी। हर साल कंपनी 10 स्कूटर या तो लॉन्च करेगी या अपग्रेड करेगी। कंपनी खुद चुनिंदा शहरों में अपने EV स्टेशन लगाने की योजना बना रही है। वड़ोदरा की चार्ज जोन कंपनी इस समय डीलर्स नियुक्त कर रही है। इसकी योजना अगले 8 सालों में 1 लाख चार्जिंग स्टेशन लगाने की है।

कंपनी का कहना है कि डीलर्स के लिए कम से कम 150 वर्ग मीटर की जगह होनी चाहिए। साथ ही 75 लाख रुपए का निवेश का बजट होना चाहिए। कंपनी का दावा है कि इसके हिसाब से निवेशक को सालाना 18% का फायदा हो सकता है।

5 लाख से ज्यादा इलेक्ट्रिक व्हीकल बिके

आंकड़े बताते हैं कि वित्त वर्ष 2017 से अब तक 5 लाख से ज्यादा इलेक्ट्रिक व्हीकल की बिक्री हो चुकी है। इसमें दो पहिया और तीन पहिया वाहनों की हिस्सेदारी 98% है। इंटरनेशनल एनर्जी एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक, देश में दो पहिया और तीन पहिया वाहनों की ज्यादा संख्या EV सेगमेंट में होगी। रिपोर्ट के अनुसार, 2026 तक भारत में 4 लाख EV चार्जिंग स्टेशन की जरूरत होगी। इससे 20 लाख इलेक्ट्रिक वाहन चार्ज हो सकेंगे।

सोसाइटी ऑफ मैन्युफैक्चरर्स ऑफ इलेक्ट्रिक व्हीकल्स की रिपोर्ट के मुताबिक, देश में मार्च 2021 तक केवल 1,800 चार्जिंग स्टेशन थे। इससे केवल 16,200 कारें ही चार्ज हो सकती हैं। वैसे देश में ऐसी कई कंपनियां हैं, जो डीलर्स की नियुक्ति कर रही हैं। कुछ कंपनियां बहुत ही कम निवेश पर भी यह सुविधा दे रही हैं।

ओला का हाइपर चार्जर नेटवर्क

दोपहिया EV के चार्जिंग स्टेशन की बात करें तो इसमें ओला हाइपर चार्जर नेटवर्क चार्जिंग प्वाइंट लेकर आई है। 400 शहरों में इसे शुरू करने की योजना है। 1 लाख से ज्यादा चार्जिंग पॉइंट लगाने की योजना है। ओला स्कूटर 18 मिनट में 50% चार्ज हो सकता है। इससे यह 75 किलोमीटर तक जा सकता है। यह चार्जिंग स्टेशन आईटी पार्क, ऑफिस कॉप्लेक्स, कैफे और मॉल्स के साथ बिजनेस वाले हब में होगा।

40-50 मिनट में 80% चार्ज हो सकती हैं गाड़ियां

किसी भी EV चार्जिंग स्टेशन के जरिए 40-50 मिनट में गाड़ियों को 80% तक चार्ज किया जा सकता है। भारत के ऑटोमोटिव इंडस्ट्री में टाटा पावर सबसे आगे है। टाटा का EV चार्जिंग नेटवर्क 9 राज्यों में है। इसमें मुंबई, दिल्ली और हैदराबाद प्रमुख शहर हैं। 40 शहरों में इसके 300 चार्जिंग पॉइंट हैं। टाटा पावर ने इसी के साथ महाराष्ट्र सरकार, टाटा मोटर्स, एमजी मोटर्स और जगुआर लैंड रोवर के साथ भी EV चार्जिंग सोल्यूशंस को डेवलप करने के लिए भागीदारी की है। इसने पहला पब्लिक इलेक्ट्रिक व्हीकल चार्जिंग स्टेशंस मुंबई में शुरू किया था।

घर में भी लगा सकते हैं चार्जर

इसी तरह एक ऐसी कंपनी है जो घर में चार्जर लगाने की सुविधा देती है। बंगलुरू का स्टार्टअप चार्जर कंपनी इसे बनाती है। यह एक पोर्टेबल किराना चार्जर होता है। यह चार्जर माल्स, सोसाइटीज, छोटी दुकानों, रेस्टोरेंट आदि में लगा सकते हैं। यह केवल 15 हजार रुपए में मिलता है। इसका फायदा यह है कि आप किसी भी तरह की अपनी दुकान में इसे लगा सकते हैं और ग्राहक चार्जिंग के लिए पैसा देंगे। यह आपकी अलग से कमाई हो सकती है। इससे आपकी दुकान पर ग्राहकों की संख्या बढ़ सकती है।

OTP से कंट्रोल कर सकते हैं मिसयूज

EV चार्जर्स को आप कंट्रोल भी कर सकते हैं। इसमें OTP की सुविधा होती है। यानी कोई और व्यक्ति इससे अपनी गाड़ी को चार्ज नहीं कर सकता है। आपने अपनी पार्किंग एरिया में अगर चार्जिंग पॉइंट लगाया है तो बिना आपकी मंजूरी के कोई इसका उपयोग नहीं कर पाएगा। ज्यादातर EV चार्जर्स रिमोट एक्सेस, स्मार्ट चार्जिंग और कंट्रोल के साथ आते हैं। अगर आपके घर से पार्किंग एरिया दूर है तो आप इसे कनेक्टिंग केबल के जरिए वहां तक घर से ही चार्ज कर सकते हैं।

1800 चार्जिंग स्टेशन की योजना

इंडियन ऑयल ने चालू वित्त वर्ष में 1,800 चार्जिंग स्टेशन लगाने की योजना बनाई है। इससे पहले रिलायंस बीपी मोबिलिटी ने स्विगी के साथ भागीदारी की है। इसके जरिए हाइवे पर कंपनी चार्जिंग स्टेशन लगाएगी। रिलायंस बीपी के पास 1,400 पेट्रोल पंप हैं और इसे बढ़ाकर 5,000 करने की योजना है। इसके जरिए हजारों बैटर स्वैप स्टेशन तैयार करने की योजना है। मोर्गन स्टेनली रिसर्च के मुताबिक, भारत में दो पहिया EV की पहुंच अभी तक 1% तक ही है। 2025 तक यह 15% तक जा सकती है।

खबरें और भी हैं...