पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Business
  • Elon Musk's Company Will Open First Manufacturing Unit In Bengaluru, About 3 Lakh Jobs To Be Created Through Industrial Corridor

भारत में टेस्ला:एलन मस्क की कंपनी बेंगलुरु में खोलेगी पहली मैन्युफैक्चरिंग यूनिट, इंडस्ट्रियल कॉरिडोर से पैदा होंगे करीब 3 लाख रोजगार

मुंबई4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
टेस्ला ने भारत में टेस्ला इंडिया मोटर्स एंड एनर्जी प्रा. लि. नाम से रजिस्टर करवाया है।    -फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
टेस्ला ने भारत में टेस्ला इंडिया मोटर्स एंड एनर्जी प्रा. लि. नाम से रजिस्टर करवाया है। -फाइल फोटो

इलेक्ट्रिक कार बनाने वाली कंपनी टेस्ला भारत में गाड़ियों का निर्माण जल्द शुरु करने की तैयारी में है। इसकी शुरुआत कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु से होगी। कंपनी यहां इलेक्ट्रिक गाड़ियों के निर्माण के लिए यूनिट खोलेगी। यह जानकारी मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने दी है।

टुमकुर जिले में इंडस्ट्रियल कॉरिडोर बनाने की योजना

बीएस येदियुरप्पा ने कहा कि राज्य के टुमकुर जिले में इंडस्ट्रियल कॉरिडोर भी बनाया जाएगा। इसकी लागत करीब 7,725 करोड़ रुपए होगी। इसके जरिए लगभग 2.8 लाख नए रोजगार भी पैदा होंगे। उन्होंने केंद्रीय बजट को ऐतिहासिक बताया और कहा कि यह देश की अर्थव्यवस्था में सुधार लाएगा। इससे 2025 तक देश की GDP 5 ट्रिलियन डॉलर पहुंचने में मदद मिलेगी।

भारत में टेस्ला ने जनवरी में ली इंट्री

अमेरिकी कंपनी टेस्ला ने 2021 में जनवरी में भारत में इंट्री ली। कंपनी ने देश में टेस्ला इंडिया मोटर्स एंड एनर्जी प्रा. लि. नाम से रजिस्टर करवाया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक वैभव तनेजा, वेंकटरंगम श्रीराम और डेविड जॉन फिस्टीन को टेस्ला इंडिया का निदेशक नियुक्त किया गया है। पिछले साल कंपनी CEO एलन मस्क ने सोशल मीडिया पर कहा था कि हमारी योजना भारत में 2021 में इंट्री करने की है। कंपनी भारत में मॉडल 3 सेडान कार के साथ दस्तक देने की तैयारी में है। इसकी कीमत करीब 60 लाख रुपए होगी।

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने सबसे पहले दी थी जानकारी

हालांकि भारत में टेस्ला के आने की जानकारी सबसे पहले केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने दी थी। उन्होंने कहा था कि 2021 की शुरुआत में टेस्ला भारत में ऑपरेशन शुरु कर देगी। खास बात यह है कि देश में टेस्ला की इंट्री ऐसे समय में हो रही है, जब केंद्र और राज्य सरकारें वायु प्रदूषण कम करने की कोशिश में हैं।