पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Business
  • Ex Nissan Chairman Ghosn Says Left Japan For Lebanon Escaping From Political Persecution

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पूर्व सीईओ कार्लोस घोन जापान से भागकर लेबनान पहुंचे, जापानी मीडिया ने उन्हें कायर कहा

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कार्लोस घोन। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
कार्लोस घोन। (फाइल फोटो)
  • नाम बदलकर प्राइवेट जेट से बेरुत पहुंचे घोन ने कहा, अब मीडिया से खुलकर बात करूंगा
  • निसान में भ्रष्टाचार के आरोप में नवंबर 2018 में टोक्यो में घोन की गिरफ्तारी हुई थी, फिलहाल जमानत पर थे

1) जापान की न्याय व्यवस्था दोषपूर्ण: घोन

घोन ने कहा, 'मैं अब लेबनान में हूं और जापान की दोषपूर्ण न्याय व्यवस्था की गिरफ्त से बाहर हूं। जापान की न्याय व्यवस्था में दोष पहले तय कर दिया जाता है, भेदभाव चरम पर है और वहां मानवाधिकार से वंचित किया जाता है। मैं न्याय से भागा नहीं हूं, मैंने अन्याय और राजनीतिक उत्पीड़न से पीछा छुड़ाया है। आखिरकार अब मैं खुल कर मीडिया के साथ बात करता हूं। अगले सप्ताह से मैं इसकी शुरुआत करूंगा।' इस बारे में पूछे जाने पर घोन के वकील, आरोप लगाने वाला पक्ष और निसान ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

65 वर्षीय घोन के अचानक जापान से निकलने से करीब एक साल पुराने मामले में नया मोड़ आ गया। निसान में कथित फ्रॉड के मामले ने ग्लोबल ऑटो इंडस्ट्री को तगड़ा झटका दिया था। साथ ही निसान के मुख्य शेयरहोल्डर रेनॉ एसए के साथ साझेदारी को उलझा दिया था। इसने जापान की न्याय प्रणाली पर भी सवाल खड़े किए।

घोन के पास फ्रांस, ब्राजील और लेबनान की नागरिकता है। अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है कि जापान में निगरानी के बीच रखे गए घोन भागने में सफल कैसे रहे। खास बात यह है कि उनका पासपोर्ट भी जब्त कर लिया गया था। जापानी मीडिया ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि घोन एक अन्य नाम से बेरुत इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर दिखे। उन्होंने प्राइवेट जेट का इस्तेमाल किया था। वहीं, जापान की इमिग्रेशन अथॉरिटी के पास घोन के देश छोड़ने की कोई जानकारी नहीं थी। वित्तीय हेराफेरी के आरोप में गिरफ्तार होने के बाद जापान में घोन की प्रतिष्ठा काफी धूमिल हुई थी। हालांकि, लेबनान में वे लोकप्रिय बने रहे। वहां, उनके समर्थन में कई ऐसे बैनर, पोस्टर लगाए गए जिनमें लिखा था, 'हम सभी कार्लोस घोन हैं।'

निसान में वित्तीय हेराफेरी के आरोप में घोन को 19 नवंबर, 2018 को टोक्यो एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया गया था। वे हमेशा आरोपों से इनकार करते रहे हैं। निसान ने उन्हें चेयरमैन पद से हटा दिया था। मार्च 2019 में घोन को 90 लाख डॉलर के मुचलके पर जमानत मिली थी। यह जापान के इतिहास में सबसे महंगी जमानत है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय चुनौतीपूर्ण है। परंतु फिर भी आप अपनी योग्यता और मेहनत द्वारा हर परिस्थिति का सामना करने में सक्षम रहेंगे। लोग आपके कार्यों की सराहना करेंगे। भविष्य संबंधी योजनाओं को लेकर भी परिवार के साथ...

    और पढ़ें