पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Business
  • FII Investment, Foreign Institutional Investors In Indian Stock Market In November 2020

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जापान भी पीछे छूटा:टॉप के 6 बाजारों में भारत एफआईआई का सबसे पसंदीदा बाजार, इस साल सबसे ज्यादा निवेश

मुंबई2 महीने पहलेलेखक: अजीत सिंह
  • कॉपी लिंक
  • इस वित्त वर्ष में भी अब तक का किसी एक वित्त वर्ष में निवेश का रिकॉर्ड बना है। 1.67 लाख करोड़ रुपए का शुद्ध निवेश हुआ है
  • जब कोरोना में FII ने रिकॉर्ड निवेश किया है तो अब तो कोरोना से बाहर देश निकल रहा है। ऐसे में अगले चार महीने में बेहतरीन निवेश FII से आएगा

एफआईआई ने इस साल में जनवरी से अब तक भारत को सबसे पसंदीदा बाजार के रूप में रखा है। टॉप के 6 बाजारों की बात करें तो इस साल में अब तक केवल भारत में ही एफआईआई का पॉजिटिव निवेश रहा है। भारत में 1500 करोड़ डॉलर इस साल में शुद्ध निवेश रहा है। जबकि दक्षिण कोरिया में एफआईआई ने 1722 करोड़ डॉलर निकाले हैं तो ताइवान से 1672 करोड़ डॉलर की निकासी की गई है।

थाइलैंड से 822 करोड़ डॉलर और इंडोनेशिया से 270 करोड़ डॉलर की रकम निकाली है। जापान से 7158 करोड़ डॉलर की निकासी एफआईआई ने की है।

नवंबर में भी भारत में ही सबसे अधिक निवेश

नवंबर की बात करें तो भारत में 900 करोड़ डॉलर से ज्यादा शुद्ध निवेश हुआ है। हालांकि नवंबर में जापान से 679 करोड़ डॉलर की निकासी हुई है। बाकी बाजारों में पैसा लगाया गया है। इसमें दक्षिण कोरिया के बाजार में 744 करोड़ डॉलर, ताइवान में 567 करोड़ डॉलर, थाइलैंड में 122 करोड़ डॉलर और इंडोनेशिया में 47 करोड़ डॉलर का निवेश किया गया है।

ऐतिहासिक रिकॉर्ड भारत में

विदेशी संस्थागत निवेशकों (FII) ने नवंबर में अब तक 65,317 करोड़ रुपए का इक्विटी बाजार में शुद्ध निवेश किया है। ऐतिहासिक रूप से जब से FII भारत में निवेश कर रहे हैं, यह किसी एक महीने में सबसे ज्यादा शुद्ध निवेश रहा है। यही नहीं, इस वित्त वर्ष में भी अब तक का किसी एक वित्त वर्ष में निवेश का रिकॉर्ड बना है। इस वित्त वर्ष में अब तक 1.67 लाख करोड़ रुपए का शुद्ध निवेश हुआ है।

विश्लेषकों का मानना है कि दिसंबर में भी यह रुझान जारी रह सकता है। भारतीय शेयर बाजार में FII का कुल निवेश 10.55 लाख करोड़ रुपए के पार पहुंच गया है।

अर्थव्यवस्था खुलने का फायदा

विश्लेषकों के मुताबिक अब लॉकडाउन नाम मात्र का है। अर्थव्यवस्था पूरी तरह खुल चुकी है। वैक्सीन आने की उम्मीद जल्दी है। साथ ही दूसरी तिमाही में कंपनियों की अर्निंग अच्छी रही है। किसी भी एक तिमाही में सबसे ज्यादा मुनाफा दूसरी तिमाही में हुआ है जो 1.50 लाख करोड़ रुपए रहा है। दूसरी तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (GDP) अनुमानों को गलत बता दिया है। ऐसे में यह सभी कारण FII के लिए पॉजिटिव माहौल का निर्माण करते हैं।

तीसरी तिमाही में स्थितियां और अच्छी रहेंगी

विश्लेषक कहते हैं कि दूसरी तिमाही के बाद तीसरी तिमाही में रिजल्ट और अच्छा रहेगा। त्यौहारी सीजन का रिजल्ट तीसरी तिमाही में दिखेगा। कंपनियों की अर्निंग अच्छी रहेगी। GDP की ग्रोथ पॉजिटिव हो सकती है। वैक्सीन आ चुकी होगी और साथ ही अर्थव्यवस्था में और तेजी आएगी। ऐसे में विदेशी निवेशकों के लिए भारतीय इक्विटी बाजार एक पसंदीदा बाजार बना रहेगा। जब कोरोना में FII ने रिकॉर्ड निवेश किया है तो अब तो कोरोना से बाहर देश निकल रहा है। ऐसे में वत्त वर्ष के बाकी बचे अगले चार महीने में बेहतरीन निवेश FII से आएगा।

नवंबर में कुल 2.59 लाख करोड़ के शेयर खरीदे एफआईआई ने

विदेशी निवेशकों ने नवंबर में कुल 2 लाख 59 हजार 779 करोड़ रुपए का निवेश किया जबकि 1लाख 94 हजार 462 करोड़ रुपए के शेयर बेचे हैं। सबसे ज्यादा खरीदारी 27 नवंबर को हुई जिसमें 7,712 करोड़ रुपए के शेयर खरीदे। इसी दिन GDP के आंकड़े भी आए। 11 नवंबर को 6,207 करोड़ रुपए, 10 नवंबर को 5,627 और 5 नवंबर को 5,368 करोड़ रुपए की शुद्ध खरीदी की गई है।

डीआईआई ने पैसे की निकासी की

इसके ठीक उलट घरेलू संस्थागत निवेशकों (DII) ने भारी बिकवाली इक्विटी बाजार में की है। बाजार ऊपर जा रहा है तो DII भारी मुनाफा कमा कर शेयर बेच रहे हैं। DII ने अब तक कुल 48 हजार 319 करोड़ रुपए के शुद्ध शेयर बेचे हैं। इसमें उन्होंने 71 हजार 778 करोड़ रुपए के मूल्य के शेयरों की खरीदी की जबकि 1 लाख 20 हजार 97 करोड़ रुपए के शेयरों की बिक्री की। सबसे ज्यादा बिक्री 27 नवंबर को की गई जिसमें 4,968 करोड़ रुपए के शेयरों को बेचा गया।

FII की बदौलत भारतीय शेयर बाजार भी इस समय अपने ऐतिहासिक उंचाई पर है। यह साल जहां कोरोना के लिए याद किया जाएगा, वहीं विदेशी निवेशकों के निवेश के लिए भी रिकॉर्ड वाला होगा।

1992-93 से हुई थी एफआईआई निवेश की शुरुआत

डिपॉजिटरी कंपनियों NSDL और CDSL के आंकड़ों के मुताबिक विदेशी निवेशकों ने 1992-93 में 13 करोड़ रुपए से निवेश की शुरुआत की थी।1993-94 में यह निवेश बढ़कर 5,127 करोड़ रुपए हो गया। 2003-04 में यह निवेश 39 हजार करोड़ रुपए हुआ तो 2007-8 में यह पहली बार 50 हजार करोड़ रुपए के पार पहुंच गया। 2009-10 में यह आंकड़ा 1.10 लाख करोड़ रुपए हो गया। 2012-13 में सबसे ज्यादा निवेश किया गया जो 1.40 लाख करोड़ रुपए था। पर उस रिकॉर्ड को अब इस वित्त वर्ष में तोड़ दिया गया है।

2010 में सबसे ज्यादा निवेश

कैलेंडर साल की बात करें यानी जनवरी से दिसंबर के बीच तो FII ने सबसे ज्यादा 2010 में निवेश किया है। इस साल में 133,266 करोड़ रुपए का निवेश किया गया था। 2019 में 101,120 करोड़ रुपए तो 2014 में 97 हजार करोड़ रुपए का निवेश किया गया। 2013 में 1.13 लाख करोड़ का निवेश किया गया तो 2012 में 1.28 लाख करोड़ रुपए का निवेश किया गया।

देखिए भारतीय बाजार में क्या खरीद रहे हैं FII

सेक्टर्स की बात करें तो FII ने सॉफ्टवेयर सर्विसेस को पसंदीदा माना है। इस सेक्टर में अक्टूबर के दूसरे पखवाड़े (16-31 अक्टूबर) में 3,858 करोड़ रुपए का निवेश किया था। हालांकि ऑयल एवं गैस सेक्टर से इन्होंने 1,912 करोड़ रुपए निकाला है। इसी दौरान कंज्यूमर ड्यूरेबल में 723 करोड़, फूड बेवरेजेस और टोबैको सेक्टर में 734 करोड़ रुपए का निवेश किया है। कैपिटल गुड्स में 760 करोड़ रुपए का निवेश किया गया है।

बैंक सेक्टर में 2,601 करोड़ और टोटल फाइनेंशियल सर्विसेस में 4,166 करोड़ रुपए का निवेश हुआ है। ऑटो मोबाइल और ऑटो कंपनियों में 337 करोड़ रुपए का निवेश है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आप में काम करने की इच्छा शक्ति कम होगी, परंतु फिर भी जरूरी कामकाज आप समय पर पूरे कर लेंगे। किसी मांगलिक कार्य संबंधी व्यवस्था में आप व्यस्त रह सकते हैं। आपकी छवि में निखार आएगा। आप अपने अच...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser