• Hindi News
  • Business
  • Nirmala Sitharaman Says Banks Should Focus More On Export Related Industry

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा:एक्सपोर्ट से जुड़ी इंडस्ट्री पर बैंक ज्यादा फोकस करें, सिडबी और एक्जिम बैंक कॉमन इंफ्रा प्लेटफॉर्म तैयार करें

मुंबई5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 2020-21 में धोखाधड़ी की घटनाओं की संख्या घट कर 2,903 पर आ गई है

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि एक्सपोर्ट से जुड़ी इंडस्ट्री पर बैंक ज्यादा फोकस करेंगे। साथ ही इसके लिए सिडबी और एक्जिम बैंक को इंफ्रास्ट्रक्चर प्लेटफॉर्म तैयार करने को कहा गया है। यह दोनों बैंक छोटे और मध्यम उद्योगों और एक्सपोर्ट के लिए अच्छा काम करते हैं।

अधिकारियों के साथ अच्छी चर्चा हुई

वित्तमंत्री ने मुंबई में प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि मुंबई में इनकम टैक्स, जीएसटी और कस्टम अधिकारियों के साथ अच्छी चर्चा हुई है। इसी के साथ इंडस्ट्री के लीडर से भी अच्छी चर्चा हुई है। आज सरकारी बैंकों के अधिकारियों के साथ बातचीत की गई। उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर भारत से जुड़े जो भी ऐलान किए गए हैं, उनकी समीक्षा की गई है।

बैंकों को दिया गया है निर्देश

निर्मला सीतारमण ने कहा कि बैंकों को एक्सपोर्टर्स की समस्याओं को सुलझाने का निर्देश दिया गया है। इसके लिए वे फियो (फेडरेशन ऑफ इंपोर्ट एक्सपोर्ट ऑर्गनाइजेशन) के साथ तालमेल बनाएंगे। उन्होंने इस बात पर खुशी जताई कि सरकारी बैंकों ने अच्छा प्रदर्शन किया है। सभी सरकारी बैंक PCA यानी (प्राम्पट करेक्टिव एक्शन) से बाहर आ गए हैं। दरअसल जब बैंक कुछ पैरामीटर्स पर खरे नहीं उतरते हैं तो रिजर्व बैंक (RBI) उन्हें PCA में डाल देता है। PCA में जाने के बाद बैंक नई शाखा नहीं खोल पाते हैं और न ही नया लोन दे पाते हैं।

फिटनेस सेक्टर्स को मदद की जरूरत

वित्तमंत्री ने कहा कि फिटनेस सेक्टर्स को भी मदद देने के लिए बैंकों को कहा गया है। इसके साथ सनराइज सेक्टर को बैंकिंग मदद की जरूरत है। उन्होंने कहा कि सरकारी बैंक लगातार पांच साल से घाटे में चल रहे थे। पर मार्च 2021 को खत्म वित्त वर्ष में इन्होंने 31,817 करोड़ रुपए का फायदा कमाया है। इसी तरह बुरे फंसे कर्ज मार्च 2021 में 6.16 लाख करोड़ रुपए रहे, जो एक साल में 62 हजार करोड रुपए घटे हैं।

बैंकों के साथ धोखाधड़ी की घटनाओं में भी कमी आई है। 2020-21 में धोखाधड़ी की घटनाओं की संख्या घट कर 2,903 पर आ गई है।

खबरें और भी हैं...