• Hindi News
  • Business
  • Fixed Deposit ; Loan On FD ; SBI FD ; Corona Crisis ; In The Corona Period, If The Money Is Needed, The FD Should Be Broken Or Take A Loan On It, Know Which Option Will Be Right Here.

पर्सनल फाइनेंस:कोरोना काल में पैसों की जरूरत पड़ने पर FD तुड़वाएं या उस पर लोन लें, यहां जानें कौन-सा ऑप्शन रहेगा सही

नई दिल्ली6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अगर कोरोना क्राइसिस के कारण आपको भी पैसों की समस्या का सामना करना पड़ रहा है तो आपकी फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) आपको इस समस्या से निकाल सकती है। आप जरूरत पड़ने पर समय से पहले भी इसके पैसे निकाल सकते हैं। हालांकि इस पर कुछ पेनल्टी भी देनी होती है। इसके अलावा आप FD पर लोन लेकर भी अपनी समस्या को दूर कर सकते हैं। हम आपको बता रहे हैं आपके लिए कौन-सा विकल्प सही रहेगा।

FD पर आसानी से और कम ब्याज पर मिलता है लोन
अगर आप FD पर लोन लेते हैं तो आपको फिक्स्ड डिपॉजिट पर मिलने वाले ब्याज से 1-2% ज्यादा ब्याज देना होगा। जैसे मान लीजिए की आपकी FD पर 4% ब्याज मिल रहा है तो आपको 6% ब्याज दर पर लोन मिल सकता है। FD की वैल्यू का 90% तक आप लोन ले सकते हैं। मान लीजिए आपकी FD की कीमत 1.5 लाख रुपए है तो आपको 1 लाख 35 हजार रुपए लोन मिल सकता है।

देश का सबसे बड़ा बैंक SBI सहित कई बैंक इसके लिए ऑनलाइन सुविधा भी देते हैं। इसके अलावा आप बैंक जाकर भी लोन ले सकते हैं। ये लोन एक सिक्योर्ड लोन है इस कारण ये लोन आसानी से मिलता है।

बैंक किस ब्याज दर पर दे रहा लोन

बैंकलोन की ब्याज दर (%)अधिकतम लोन
SBIFD रेट + 1%FD के 90% तक
पंजाब नेशनल बैंकFD रेट + 1%FD के 95% तक
एक्सिस बैंकFD रेट + 2%FD के 85% तक
HDFC बैंकFD रेट + 2%FD के 90% तक
बैंक ऑफ बड़ौदाFD रेट + 2%FD के 90% तक

इंडियन बैंक

FD रेट + 2%FD के 90% तक
ICICI बैंकFD रेट + 2-3%FD के 90% तक

समय से पहले FD तुड़वाने पर कितना कम मिलेगा ब्याज?
अगर आप समय से पहले FD तुड़वा रहे हैं तो आपको उस दर से जिस पर आपने एफडी की है वह ब्याज नहीं मिलता है। जैसे मान लीजिए कि आपने 1 लाख रुपए की एफडी 1 साल के लिए 6% की दर से की, लेकिन आप उसे 6 महीने बाद ही तोड़ देते हैं और 6 महीने की एफडी पर 5% सालाना की दर से ब्याज मिल रहा है, तो ऐसे में बैंक आपके पैसों पर 5% की दर से ब्याज देगा, ना कि 6% की दर से।

पेनल्टी भी देनी होगी: देश के सबसे बड़े बैंक SBI के नियम के अनुसार अगर कोई व्यक्ति 5 लाख रुपए तक की FD कराता है, तो उसे FD मेच्योर होने से पहले उसे ब्रेक करने पर 0.50% पेनल्टी देनी पड़ेगी। इसी तरह 5 लाख से ज्यादा और एक करोड़ से कम की FD पर 1% पेनल्टी समय से पहले ब्रेक करने पर देनी होगी। अवधि के हिसाब से ब्याज सुनिश्चित करने के बाद (जैसा कि ऊपर बताया गया है) उसमे से FD की रकम के हिसाब से 0.50 या 1% ब्याज की कटौती करके आपको आपका पैसा दिया जाता है। ज्यादातर बैंक 1% तक ही पैनाल्टी वसूलते हैं।

उदाहरण के लिए अगर आप 1 लाख की FD 1 साल के लिए कराते हैं जिस पर आपको 6% सालाना ब्याज मिलना है। ऐसे में एक साल पूरा होने पर आपको 106,167 रुपए मिलेंगे। वहीं अगर आप 6 महीने बाद पैसे निकालते हैं तो इस पर 5 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा इसके अलावा 0.50% की पेनल्टी भी वसूली जाएगी। ऐसे में आपको 6 महीने बाद पैसा निकालने पर कुल 102,469 रुपए मिलेंगे।

कौन-सा ऑप्शन रहेगा सही?
अगर आपकी FD 1 लाख रुपए की है और आपको 50 हजार रुपए की जरूरत है तो आपका FD पर लोन लेना सही रहेगा। क्योंकि इससे आपकी सेविंग्स भी बची रहेगी और आपकी पैसों की जरूरत भी पूरी हो जाएगी। वहीं अगर आपको FD के पूरे रुपयों की जरूरत है तो आपका समय से पहले FD तुड़वाना सही रहेगा क्योंकि इससे आपको आपका पैसा थोड़ी पैनल्टी के बाद मिल जाएगा। FD पर लोन में 80 से 90% पैसा लोन के रूप में मिलता है।