पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Business
  • Foreign Investment In Indian Share Market | FII Investment In Insurance Increased 3 Times

बंपर विदेशी निवेश:शेयरों में निवेश का नया रिकॉर्ड, बाजार में आए 2.77 लाख करोड़, FDI सीमा बढ़ने से बीमा में 3 गुना इन्वेस्टमेंट

मुंबई6 महीने पहलेलेखक: अजीत सिंह
  • कॉपी लिंक
  • बीमा में अचानक निवेश को बढ़ाकर 3 गुना कर दिया है। बीमा में एफडीआई की सीमा बजट में 74 पर्सेंट बढ़ा कर कर दी गई थी
  • एफआईआई का पहली बार साल 200-910 में एक लाख करोड़ रुपए के निवेश का आंकड़ा पार हुआ था

वित्त वर्ष 2020-21 खत्म होने को है। विदेशी संस्थागत निवेशकों (FII) ने भारतीय इक्विटी बाजार में निवेश का नया रिकॉर्ड बनाया है। चालू वित्त वर्ष में कुल 2.77 लाख करोड़ रुपए का शुद्ध निवेश किया है। बजट में बीमा में FDI यानी विदेशों से आने वाले निवेश की सीमा को 3 गुना कर दिया गया। बीमा सेक्टर की कंपनियों में FDI 49% से बढ़ाकर 74% कर दिया गया। इस फैसले से विदेशी निवेशकों का भरोसा भारतीय बाजारों पर बढ़ा है।

5 बार 1 लाख करोड़ के पार का आंकड़ा

आंकड़े बताते हैं कि अब तक 5 बार ऐसा हुआ है जब शेयर बाजार में विदेशी निवेशकों यानी FII ने एक लाख करोड़ रुपए से ज्यादा पैसा लगाया। इनमें 2009-10 में 1.10 लाख करोड़, 2010-11 में 1.10 लाख करोड़ रुपए, 2012-13 में 1.40 लाख करोड़, 2014-15 में 1.11 लाख करोड़ रुपए और चालू वित्त वर्ष में 2.77 लाख करो़ड़ रुपए का शुद्ध निवेश हुआ। अभी तक भारतीय इक्विटी बाजार में इनका नेट इन्वेस्टमेंट 11.70 लाख करोड़ रुपए रहा है।

जनवरी से दिसंबर के बीच 1.70 लाख करोड़ का निवेश

जनवरी से दिसंबर 2020 के दौरान यानी कोरोना काल में विदेशी निवेशकों ने कुल 1.70 लाख करोड़ रुपए का शुद्ध निवेश किया था। यह किसी भी एक कैलेंडर वर्ष में अब तक का रिकॉर्ड है। पिछले 6 महीनों से लगातार विदेशी निवेशक भारतीय बाजार में शुद्ध निवेश कर रहे हैं। अक्टूबर में 19,541 करोड़ रुपए का निवेश हुआ तो नवंबर में 60 हजार 358 करोड़ रुपए का निवेश किया गया। दिसंबर में 62 हजार 16 करोड़, जनवरी 2021 में 19,473 करोड़ और फरवरी में 25,787 करोड़ रुपए का निवेश किया गया है। मार्च में अब तक 14,202 करोड़ रुपए का निवेश किया गया है।

ये हैं पसंदीदा सेक्टर

सेक्टर की बात करें तो इनके पसंदीदा सेक्टर फाइनेंशियल, बीमा, ऑयल एवं गैस आदि रहे हैं। फरवरी के अंतिम 15 दिन में इन्होंने टोटल फाइनेंशियल में 2805 करोड़ रुपए का निवेश किया, मार्च में 661 करोड़ रुपए इस सेक्टर से निकाल लिए। दूसरे फाइनेंशियल सेक्टर में फरवरी में 2336 करोड़ का शुद्ध निवेश आया। पर मार्च में 141 करोड़ रुपए निकाल लिए।

ऑटोमोबाइल सेक्टर में बढ़ा निवेश

ऑटोमोबाइल सेक्टर से विदेशी निवेशकों ने फरवरी में 1192 करोड़ रुपए निकाले थे। मार्च में इसमें 965 करोड़ रुपए निवेश किए। इसी तरह फूड, बेवरेजेज और तंबाकू से जुड़े सेक्टर से फरवरी में 1198 करोड़ रुपए निकालने के बाद मार्च में 1015 करोड़ रुपए निकाले गए। बीमा में फरवरी में 1243 करोड़ रुपए का निवेश था पर मार्च में यह तीन गुना बढ़कर 3661 करोड़ रुपए हो गया है। ऑयल एवं गैस की बात करें तो इसमें भी निवेश बढ़ा है। फरवरी के 2982 करोड़ की तुलना में मार्च में यह 3566 करोड़ रुपए हो गया।

1992-93 में 13 करोड़ से शुरू हुआ निवेश

एफआईआई ने भारतीय इक्विटी बाजार में 1992-93 में निवेश शुरू किया था। उस समय पहले वित्त वर्ष में केवल 13 करोड़ रुपए का निवेश किया गया था। बाजार के जानकारों का कहना है कि दरअसल भारतीय शेयर बाजार इस समय तेजी में है। लगातार विदेशी निवेशक निवेश कर रहे हैं। बाजार में तरलता भी अच्छी है। यही कारण है कि इनका निवेश आगे भी जारी रह सकता है।