• Hindi News
  • Business
  • Foreign Portfolio Investors | FPI's Turn Net Buyers In Year 2020, Invest Rs 1.64 Lakh Crore In Indian Markets

FII का पॉजिटिव रुझान:इस कैलेंडर साल में विदेशी निवेशकों ने 1.64 लाख करोड़ रुपए इक्विटी में निवेश किया

मुंबई10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 2019 में कुल निवेश 1.01 लाख करोड़ रुपए का निवेश किया गया था
  • इस साल नवंबर में 60 हजार 358 करोड़ रुपए का शुद्ध निवेश था

इस साल जनवरी से दिसंबर में अभी तक विदेशी संस्थागत निवेशकों (FII) ने भारतीय इक्विटी बाजार में कुल 1.64 लाख करोड़ रुपए का शुद्ध निवेश किया है। 2019 की तुलना में यह 63 हजार करोड़ रुपए ज्यादा है। उस साल में कुल निवेश 1.01 लाख करोड़ रुपए का निवेश किया गया था।

इस महीने में 56 हजार करोड़ का निवेश

जानकारी के मुताबिक, दिसंबर महीने में अभी तक FII का कुल निवेश 56 हजार 643 करोड़ रुपए रहा है। नवंबर में यह 60 हजार 358 करोड़ रुपए का निवेश था। इस साल में मार्च में सबसे ज्यादा पैसे की निकासी की गई। इस महीने में 61,973 करोड़ रुपए के शेयर इन निवेशकों ने बेच डाले। यह वह महीना था, जब भारत में लॉकडाउन लगा था। इसी महीने में भारतीय शेयर बाजार ने हाल के सालों का अपना निचला स्तर भी बनाया था।

बीएसई का निचला स्तर

मार्च के अंतिम सप्ताह में बीएसई का सेंसेक्स 25 हजार 981 पर चला गया था। जबकि ज्यादातर शेयरों ने भी 23 और 24 मार्च को अपना एक साल का ऐतिहासिक निचला स्तर भी बनाया था। हालांकि यहां से बाजार ने और गिरावट वाले शेयरों ने वापस अच्छी रिकवरी की है। डेट की बात करें तो 2019 में कुल 25 हजार 882 करोड़ रुपए का निवेश FII ने किया था। हालांकि 2020 में इन्होंने 1.06 लाख करोड़ रुपए की भारी-भरकम निकासी की है।

अगस्त में 47 हजार करोड़ का निवेश

नवंबर से पहले इस साल में सबसे ज्यादा निवेश अगस्त में था। उस महीने में कुल 47 हजार 80 करोड़ रुपए का निवेश किया गया था। ऐसा इसलिए क्योंकि मई के बाद से बाजार में रिकवरी शुरू हो गई थी और अर्थव्यवस्था भी आंशिक रूप से खुलनी शुरू हो गई थी। पिछले हफ्ते तक इन निवेशकों ने 45,937 करोड़ रुपए का शुद्ध निवेश किया था।

किसी एक महीने में सबसे ज्यादा निवेश

बता दें कि जब से भारतीय बाजार में FII निवेश कर रहे हैं, किसी एक महीने में सबसे ज्यादा निवेश का रिकॉर्ड नवंबर में बना है। नवंबर महीने में इन्होंने 60 हजार करोड़ रुपए का निवेश किया है। यही नहीं, किसी भी कैलेंडर साल, किसी भी वित्त वर्ष में भी इसी साल रिकॉर्ड टूटा है। दिसंबर की बात करें तो सबसे ज्यादा शुद्ध निवेश पहली दिसंबर को हुआ है जो 9,132 करोड़ रुपए का था।

हर दिन खरीदी की है

नवंबर से लेकर पिछले हफ्ते तक लगातार हर दिन खरीदारी की गई। हालांकि इसमें जिस दिन बाजार में 1400 अंकों की गिरावट थी, उस दिन 323 करोड़ रुपए की निकासी की गई थी। इसके अलावा सभी दिन निवेश किया गया था। आंकड़े बताते हैं कि इन निवेशकों ने सबसे ज्यादा खरीदी फाइनेंशियल सेवाओं के सेक्टर्स में की है। इसमें 15 हजार 867 करोड़ रुपए की शुद्ध खरीदी की है। अन्य फाइनेंशियल सेवाओं के सेक्टर्स में 4,544 करोड़ रुपए की खरीदी की गई है। बैंक सेक्टर में 11,324 करोड़ रुपए की खरीदी हुई है। कैपिटल गुड्स सेक्टर में 1,709 करोड़ रुपए की खरीदी की गई है।

कंज्यूमर ड्यूरेबल में 1,532 करोड़ का निवेश

कंज्यूमर ड्यूरेबल की बात करें तो 1,532 करोड़ और बेवरेजेस, तंबाकू जैसे सेक्टर में 928 करोड़ रुपए की खरीदी की गई है। हालांकि डेट से लगातार निकासी यह निवेशक कर रहे हैं। दिसंबर में अब तक 18 हजार 625 करोड़ रुपए की निकासी की गई है।

पसंदीदा बाजार है भारत

टॉप के 6 बाजारों की बात करें तो इस साल में अब तक केवल भारत में ही FII का पॉजिटिव निवेश रहा है। भारत में 1500 करोड़ डॉलर इस साल में शुद्ध निवेश रहा है। जबकि दक्षिण कोरिया में FII ने 1722 करोड़ डॉलर निकाले हैं तो ताइवान से 1672 करोड़ डॉलर की निकासी की गई है। थाइलैंड से 822 करोड़ डॉलर और इंडोनेशिया से 270 करोड़ डॉलर की रकम निकाली है। जापान से 7158 करोड़ डॉलर की निकासी FII ने की है।