• Hindi News
  • Business
  • Franklin Templeton Mutual Fund Received Rs 8302 Crore Till Date From Closed 6 Debt Schemes

फंड हाउस का बयान:फ्रैंकलिन टेंपलटन म्यूचुअल फंड को अब तक 8302 करोड़ रुपए मिले, अप्रैल में बंद हो गई थीं 6 डेट स्कीम

नई दिल्लीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
फंड हाउस का कहना है कि 6 स्कीमों को बंद करने को लेकर कोर्ट में सुनवाई पूरी हो चुकी है। अब उसे कोर्ट के फैसले का इंतजार है। - Dainik Bhaskar
फंड हाउस का कहना है कि 6 स्कीमों को बंद करने को लेकर कोर्ट में सुनवाई पूरी हो चुकी है। अब उसे कोर्ट के फैसले का इंतजार है।
  • मैच्योरिटी, प्री-पेमेंट और कूपन पेमेंट के जरिए मिली राशि
  • करीब 26 हजार करोड़ रुपए है बंद 6 डेट स्कीम्स का एयूएम

फ्रैंकलिन टेंपलटन म्यूचुअल फंड ने कहा है कि उसे बंद 6 डेट स्कीम्स से अब तक 8302 रुपए मिल चुके हैं। यह धनराशि मैच्योरिटी, प्री-पेमेंट और कूपन पेमेंट के जरिए मिली है। फ्रैकलिन टेंपलटन ने 23 अप्रैल को इन 6 डेट स्कीम्स को बंद करने की घोषणा की थी। बंद की गई सभी स्कीम्स का एयूएम 26 हजार करोड़ के आसपास बताया जा रहा है।

उधार चुकाने में काम आएगी राशि

फ्रैंकलिन टेंपलटन ने बयान में कहा है कि उसे 24 अप्रैल से लेकर 15 अक्टूबर तक 8302 करोड़ रुपए मिले हैं। इस राशि का इस्तेमाल उधार चुकाने और पोस्ट री-पेमेंट में किया जाएगा। फ्रैंकलिन के मुताबिक, चार कैश पॉजिटिव स्कीम्स के यूनिटहोल्डर्स को भुगतान के लिए 5116 करोड़ रुपए उपलब्ध हैं। यह भुगतान फ्रैंकलिन इंडिया अल्ट्रा शॉर्ट बॉन्ड फंड, फ्रैंकलिन इंडिया डायनामिक एक्यूरल फंड, फ्रैंकलिन इंडिया लो ड्यूरेशन फंड और फ्रैंकलिन इंडिया क्रेडिट रिस्क फंड स्कीम के यूनिटहोल्डर्स को किया जाएगा।

चार डेट स्कीम के लिए इतना एयूएम उपलब्ध

फ्रैंकलिन टेंपलटन ने कहा कि फ्रैंकलिन इंडिया अल्ट्रा शॉर्ट बॉन्ड फंड, फ्रैंकलिन इंडिया डायनामिक एक्यूरल फंड, फ्रैंकलिन इंडिया लो ड्यूरेशन फंड और फ्रैंकलिन इंडिया क्रेडिट रिस्क फंड स्कीम के यूनिटहोल्डर्स को भुगतान के लिए कुल एयूएम का क्रमश: 40%, 19%, 19% और 4% एयूम उपलब्ध है। हालांकि, यह भुगतान यूनिटहोल्डर्स की वोट पर निर्भर है।

कोर्ट के फैसले का इंतजार

फंड हाउस का कहना है कि 6 स्कीमों को बंद करने को लेकर कोर्ट में सुनवाई पूरी हो चुकी है। अब उसे कोर्ट के फैसले का इंतजार है। फंड हाउस का कहना है कि वह निवेशकों को ज्यादा से ज्यादा पैसा लौटाने पर फोकस कर रहा है। हालांकि, यह सब कर्नाटक हाईकोर्ट के फैसले पर निर्भर करेगा।

खबरें और भी हैं...