• Hindi News
  • Business
  • Franklin Templeton Supreme Court Hearing Update; Orders Return Of Rs 9122 Crore To Investors

निवेशकों के पक्ष में फैसला:फ्रैंकलिन टेंपल्टन के निवेशकों को 9,122 करोड़ रुपए लौटाने का आदेश

मुंबई10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बता दें कि इन स्कीम्स को पिछले साल अप्रैल में फ्रैंकलिन टेंपल्टन ने अचानक बंद कर दिया था।फ्रैंकलिन टेंपल्टन ने बांड बाजार में पैसों की कमी की वजह से इस स्कीम को बंद किया था - Dainik Bhaskar
बता दें कि इन स्कीम्स को पिछले साल अप्रैल में फ्रैंकलिन टेंपल्टन ने अचानक बंद कर दिया था।फ्रैंकलिन टेंपल्टन ने बांड बाजार में पैसों की कमी की वजह से इस स्कीम को बंद किया था
  • फ्रैंकलिन टेंपल्टन का एयूएम 1 लाख करोड़ से घट कर 80 हजार करोड़ रुपए हो गया है
  • इसकी अप्रैल में 6 बंद स्कीम का कुल AUM उस समय 28 हजार करोड़ रुपए था

सुप्रीम कोर्ट ने फ्रैंकलिन टेंपल्टन म्यूचुअल फंड से कहा है कि वह निवेशकों के 9,122 करोड़ रुपए वापस लौटाए। यह पैसा 20 दिन के अंदर निवेशकों को मिलना चाहिए। यह पैसा 6 डेट स्कीम के यूनिट धारकों को मिलेगा।

पिछले साल अप्रैल में बंद हुई थी स्कीम

बता दें कि इन स्कीम्स को पिछले साल अप्रैल में फ्रैंकलिन टेंपल्टन ने अचानक बंद कर दिया था।फ्रैंकलिन टेंपल्टन ने बांड बाजार में पैसों की कमी की वजह से इस स्कीम को बंद किया था।सुप्रीम कोर्ट ने आदेश में कहा है कि देश की सबसे बड़ी म्यूचुअल फंड कंपनी SBI म्यूचुअल फंड इस रकम को देने के मामले को देखेगी।

20 दिन का पहला दिन आज से शुरू होगा

20 दिन का पहला दिन मंगलवार से ही माना जाएगा। इससे पहले फ्रैंकलिन टेंपल्टन म्यूचुअल फंड ने अपने निवेशकों से कहा था कि वह बंद स्कीम्स से 14,931 करोड़ रुपए मैच्योरिटी पर पाई है। फ्रैंकलिन टेंपल्टन ने जिन स्कीम को बंद किया था उसमें अल्ट्रा शॉर्ट बांड फँड, इंडिया लोन ड्यूरेशन फंड, इंडिया डायनॉमिक अक्रूअल फंड, इंडिया क्रेडिट रिस्क फंड और इंडिया शॉर्ट टर्म इनकम प्लान था।

ये हैं 6 स्कीम

कंपनी के कुल असेट अंडर मैनेजमेंट (AUM) में इनका हिस्सा 65%, 53%, 41%, 27% और 11% था। AUM उसे कहते हैं जो म्यूचुअल फँड कंपनियां निवेशकों से पैसे लेकर उसको निवेश करती हैं। बता दें कि फ्रैंकलिन टेंपल्टन का AUM 1 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा था। पर हाल के दिनों में इसका AUM 80 हजार करोड़ रुपए हो गया है। 6 बंद स्कीम का कुल AUM 28 हजार करोड़ रुपए था। कंपनी ने जब बंद किया था, तब काफी सारे निवेशकों ने इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट सहित अन्य कोर्ट में याचिका दायर किया था।

दूसरी ओर चेन्नई फाइनेंशियल एसोसिएशन ने कहा है कि फ्रैंकलिन टेंपल्टन के रास्ते पर 10 म्यूचुअल फंड हाउस हैं। इनकी कई स्कीम डिफॉल्ट कर सकती हैं। अगर ऐसा हुआ तो इससे फंड इंडस्ट्री को 15 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हो सकता है।

खबरें और भी हैं...