• Hindi News
  • Business
  • Future And Scope Of Edtech Sector In India Byjus Unacademy Vedantu Online Education

उभरता हुआ सेक्टर:बड़े-बड़े निवेशकों को लुभा रहा है एडटेक सेक्टर, 2020 में मिला 16 हजार करोड़ रुपए का निवेश

नई दिल्ली9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 2025 तक 16.5 लाख करोड़ रुपए का हो सकता है भारत का एडटेक सेक्टर
  • भविष्य में बेहतर संभावनाओं को देखते हुए अमेजन ने भी इसमें कदम रखा

देश का एडटेक यानी एजुकेशन टेक्नोलॉजी सेक्टर तेजी से ग्रोथ कर रहा है। यही कारण है कि इस सेक्टर में हर रोज नया डेवलपमेंट हो रहा है। हाल ही में इस सेक्टर में तीन बड़ी घटनाएं हुई हैं। इनसे इस सेक्टर में आने वाले समय में बड़ा बदलाव आ सकता है। सबसे पहले आपको इन तीन बड़ी घटनाओं के बारे में बताते हैं...

घटना-1: दिग्गज इंटरनेट कंपनी अमेजन ने देश के तेजी से बढ़ते एडटेक सेक्टर में कदम रख दिया है। कंपनी ने नई सब्सिडियरी अमेजन एकेडमी लॉन्च करने की घोषणा की है। अमेजन की यह सब्सिडियरी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराएगी। हालांकि, अमेजन ने 2019 में भी JEE रेडी ऐप लॉन्च किया था। इस ऐप पर IIT-JEE परीक्षा की कोचिंग मिलती थी।

घटना-2: भारत के सबसे बड़े ऑनलाइन स्टार्टअप में शुमार बायजूस ने प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराने वाले आकाश एजुकेशनल सर्विसेज लिमिटेड को खरीद लिया है। यह सौदा 1 बिलियन डॉलर करीब 7300 करोड़ रुपए में हुआ है। इसको लेकर दोनों कंपनियों के बीच समझौता हो गया है। यह सौदा अगले दो या तीन महीनों में पूरा हो जाएगा। आकाश के पूरे देश में करीब 200 आउटलेट हैं।

घटना-3: ऑनलाइन एडटेक प्लेटफॉर्म अनएकेडमी ने 50 मिलियन डॉलर (करीब 365 करोड़ रुपए) की हिस्सेदारी बेची है। यह हिस्सेदारी टाइगर ग्लोबल, ड्रेगनीर इन्वेस्टमेंट ग्रुप, स्टीडव्यू कैपिटल और जनरल अटलांटिक जैसी कंपनियों ने खरीदी है। यह हिस्सेदारी बिक्री अनएकेडमी की 2 बिलियन डॉलर की वैल्यू के आधार पर हुई है।

एडटेक सेक्टर में लगातार बढ़ रहा निवेश

इन तीनों घटनाओं से पता चलता है कि देश के एडटेक सेक्टर में लगातार निवेश बढ़ रहा है। इंडियन प्राइवेट इक्विटी एंड वेंचर कैपिटल एसोसिएशन (IVCA) और PGA लैब्स डाटा की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 2020 में भारत के एडटेक स्टार्टअप्स में 2.22 बिलियन डॉलर (करीब 16 हजार करोड़ रुपए) का निवेश हुआ है। 2019 में केवल 553 मिलियन डॉलर (करीब 4 हजार करोड़ रुपए) का निवेश हुआ था। रिपोर्ट के मुताबिक, 2020 में 92 स्टार्टअप्स में फंडिंग हुई। इनमें से 61 स्टार्टअप्स को सीड फंडिंग मिली।

देश में 4,450 एडटेक स्टार्टअप हैं

INC42 की एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में करीब 4,450 एडटेक स्टार्टअप्स हैं। इसमें बायजूस और अनएकेडमी यूनिकॉर्न स्टार्टअप हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, 2014 से 2020 के दौरान एडटेक स्टार्टअप्स को 220 करोड़ डॉलर की फंडिंग मिली है। 475 से ज्यादा इन्वेस्टर इन स्टार्टअप्स को फंड कर रहे हैं। मौजूदा समय में देश में करीब 1.5 करोड़ छात्र प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे हैं।

2025 में 16.5 लाख करोड़ रुपए का होगा एजुकेशन मार्केट

एक रिपोर्ट के मुताबिक, 2019-20 में भारत का एजुकेशन मार्केट 117 बिलियन डॉलर का था। अगले पांच साल तक एडटेक सेक्टर हर साल 39% की दर से आगे बढ़ेगा। रिपोर्ट में अनुमान जताया गया है कि देश का एजुकेशन मार्केट दोगुना ग्रोथ के साथ वित्त वर्ष 2025 में 225 बिलियन डॉलर (16.5 लाख करोड़ रुपए) का हो सकता है।

कोविड-19 के कारण एडटेक ऐप्स का डाउनलोड 88% बढ़ा

बार्क इंडिया नील्सन की एक रिपोर्ट के मुताबिक, कोविड-19 के कारण लगाए गए लॉकडाउन के दौरान एडटेक प्लेटफॉर्म्स को काफी बढ़ावा मिला है। इस दौरान एडटेक ऐप्स के डाउनलोड में रिकॉर्ड 88% का इजाफा रहा है। कोविड-19 के दौरान एडटेक प्लेटफॉर्म पर औसत समय बिताने में 30% की बढ़ोतरी देखने को मिली है। एक रिसर्च के मुताबिक, एडटेक प्लेटफॉर्म्स के सब्सक्राइबर बेस में भी उछाल आया है। के-12 सेगमेंट का सब्सक्राइबर बेस 45 मिलियन से बढ़कर 9 करोड़ हो गया है। जबकि पेड यूजर बेस में 83% का उछाल आया है।

नई शिक्षा नीति से भी मिलेगा बढ़ावा

अपग्रैड के को-फाउंडर रॉनी स्क्रूवाला का कहना है कि सरकार की नई शिक्षा नीति से एडटेक प्लेटफॉर्म्स को बढ़ावा मिलेगा। यह एक बड़ा अवसर है। नई शिक्षा नीति से विश्वविद्यालयों, छात्रों और नियोक्ताओं की मानसिकता में बदलाव आएगा और ऑनलाइन शिक्षा को वैलेडिटी मिलेगी। एडटेक इंडस्ट्री के लिए यह एक बड़ी सफलता है।

खबरें और भी हैं...