पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रेगुलेटरी फाइलिंग:वित्त वर्ष 2020 में गूगल इंडिया का रेवेन्यू 35% बढ़कर 5,593.8 करोड़ रुपए रहा, मुनाफा 24% बढ़ा

नई दिल्ली10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गूगल इंडिया के कुल रेवेन्यू में एडवरटाइजिंग की 27% हिस्सेदारी रही है। IT आधारित सेवाओं की 32% और IT सेवाओं की 41% हिस्सेदारी रही है। - Dainik Bhaskar
गूगल इंडिया के कुल रेवेन्यू में एडवरटाइजिंग की 27% हिस्सेदारी रही है। IT आधारित सेवाओं की 32% और IT सेवाओं की 41% हिस्सेदारी रही है।
  • 31 मार्च को समाप्त हुए वित्त वर्ष में कंपनी का शुद्ध मुनाफा 586 करोड़ रुपए रहा
  • बीते वित्त वर्ष में कंपनी का खर्च भी 30% बढ़कर 4,455 करोड़ रुपए रहा

अमेरिका की दिग्गज टेक कंपनी गूगल की भारतीय इकाई गूगल इंडिया का वित्त वर्ष 2020 में कुल रेवेन्यू 34.8% बढ़कर 5,593.8 करोड़ रुपए रहा है। वित्त वर्ष 2019 में कंपनी का कुल रेवेन्यू 4,147 करोड़ रुपए रहा था। रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज फाइलिंग के हवाले से मार्केट इंटेलीजेंस फर्म टॉफलर ने यह जानकारी दी है।

586.2 करोड़ रुपए का मुनाफा रहा

फाइलिंग के मुताबिक, वित्त वर्ष 2020 में गूगल इंडिया का शुद्ध मुनाफा 586.2 करोड़ रुपए रहा है। एक साल पहले की समान अवधि के 472.8 करोड़ रुपए के मुकाबले यह 23.9% ज्यादा है। 31 मार्च 2020 को समाप्त हुए वित्त वर्ष में कंपनी का ऑपरेशन से रेवेन्यू 5384.7 करोड़ रुपए रहा है। एक साल पहले समान अवधि में यह रेवेन्यू 3992.8 करोड़ रुपए रहा था।

खर्च में 30% की बढ़ोतरी

वित्त वर्ष 2020 में गूगल इंडिया के खर्च में 30.4% की बढ़ोतरी हुई है। इस अवधि में कुल खर्च 4,455.5 करोड़ रुपए रहा है। वित्त वर्ष 2019 में कंपनी का कुल खर्च 3,416.5 करोड़ रुपए रहा है। गूगल इंडिया के प्रवक्ता ने कहा कि वित्त वर्ष 2019-20 गूगल का प्री-टैक्स प्रॉफिट 1,138.3 करोड़ रुपए रहा है। इसमें 302 करोड़ रुपए कॉरपोरेट टैक्स भी शामिल हैं। इस अवधि में कंपनी ने करीब 400 करोड़ रुपए का निवेश भारतीय ऑपरेशन पर किया है।

IT और IT आधारित सेवाएं देती है कंपनी

गूगल इंडिया इंटरनेट इंडस्ट्री को IT और IT आधारित सेवाएं देती है। इसके अलावा कंपनी गूगल एड-वर्ड्स कार्यक्रम के जरिए एडवरटाइजिंग स्पेस में थर्ड पार्टी री-सेलर के तौर पर भी कार्य करती है। फाइलिंग के मुताबिक, गूगल इंडिया के कुल रेवेन्यू में एडवरटाइजिंग की 27% हिस्सेदारी रही है। IT आधारित सेवाओं की 32% और IT सेवाओं की 41% हिस्सेदारी रही है।

खबरें और भी हैं...