• Hindi News
  • Business
  • Government Aims To Double Farm Mechanisation In Next 10 Years: Narendra Singh Tomar

नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा:अगले 10 सालों में कृषि प्लांट मैकेनाइजेशन को दोगुना करने का है लक्ष्य; देश के किसानों को होगा फायदा

नई दिल्ली10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 10 साल के भीतर प्रति हेक्टेयर मैकेनाइजेशन दोगुना करने का लक्ष्य है
  • करीब 95 फीसदी मशीनें देश में ही बनाई जा रही हैं

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास, पंचायत राज और फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्री के मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने सोमवार को कहा कि 95 फीसदी कृषि डिवाइस देश में ही बनाए जा रहे हैं और कृषि क्षेत्र के विकास के लिए 10 साल के भीतर प्रति हेक्टेयर मैकेनाइजेशन दोगुना करने का लक्ष्य है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर देश में वोकल फॉर लोकल के प्रति उत्साह का माहौल बना हुआ है। ऐसे में फार्म मशीनीकरण का क्षेत्र पहले से ही स्थानीय उत्पादन में जुटा हुआ है और करीब 95 फीसदी मशीनें देश में ही बनाई जा रही हैं।

देश के 86 फीसदी किसानों की आय बढ़ेगी

ट्रैक्टर एंड मैकेनाइजेशन एसोसिएशन ( टीएमए) की सालाना आम बैठक यानी एजीएम में बतौर मुख्य अतिथि कृषि मंत्री तोमर ने फार्म मशीनीकरण के विषय पर अपने संबोधन में कहा कि सरकार का जोर किसानों के खेत तक महंगे व बड़े एडवांस्ड कृषि यंत्र उपलब्ध कराने पर है। उन्होंने एसोसिएशन के सदस्यों से छोटे रकबे वाले किसानों को छोटी उपयोगी मशीनें उपलब्ध कराने का आग्रह किया, ताकि उनका लाभ देश के 86 फीसदी छोटे किसान उठा सकें और उनकी आमदनी में बढ़ोतरी हो।

कृषि शक्ति के अनुपात को बढ़ाने में मदद मिलेगी

उन्होंने बताया कि सबमिशन ऑन एग्रीकल्चरल मैकेनाइजेशन की योजना सभी राज्यों में लागू की गई है, ताकि कृषि मशीनीकरण के उपयोग को बढ़ावा मिले और कृषि शक्ति के अनुपात को बढ़ाया जा सके। तोमर ने कहा कि किराए के आधार पर किसानों के खेत तक महंगे व बड़े एडवांस्ड कृषि यंत्र उपलब्ध कराने पर भी सरकार इस स्कीम के माध्यम से जोर दिया है. व्यक्तिगत किसान को परियोजना लागत में 40 फीसदी तक सब्सिडी का प्रावधान है, वहीं किसानों के समूह को प्रोजेक्ट में 80 फीसदी तक की सब्सिडी दी जाती है, जिसकी अधिकतम राशि 10 लाख रुपये तक हो सकती है।

खबरें और भी हैं...