• Hindi News
  • Business
  • Gross Domestic Product , GDP India, Indian Economy, Growth Rate India, Gross Domestic July sep

हमारी विकास दर दुनिया में सबसे तेज:8.4% हुई विकास दर, कोविडकाल से पहले जितनी GDP थी, अब उससे भी ज्यादा हुई

मुंबई2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • हमारी अर्थव्यवस्था अब 35.73 लाख करोड़ की हुई, कोरोना से पहले 2019 में 35.61 लाख करोड़ की थी
  • भारत के बाद दूसरे नंबर पर तुर्की, जिसकी विकास दर 6.9%, अमेरिका-चीन की विकास दर अभी केवल 4.9%

देश की अर्थव्यवस्था दूसरी तिमाही में 8.4% की दर से बढ़ी है। यह विकास दर सभी अनुमानों के मुताबिक ही रही। अर्थव्यवस्था में सुधार का सबसे बड़ा कारण खपत और निवेश में सुधार रहा। वैक्सीनेशन, कम ब्याज दरों की वजह से सेंटिमेंट में भी सुधार दिखा। यह लगातार चौथी तिमाही है जब सकल घरेलू उत्पाद (GDP) की विकास दर पॉजिटिव जोन में रही है।

फिस्कल डेफिसिट 5.47 लाख करोड़ रुपए रहा
फिस्कल डेफिसिट पूरे साल के लक्ष्य की तुलना में अप्रैल से अक्टूबर के बीच 36.3% या 5.47 लाख करोड़ रुपए रहा। कुल खर्च 18.27 लाख करोड़ रुपए रहा। पिछले साल की समान अवधि में फिस्कल डेफिसिट 2020-21 के बजट आकलन का 119.7% रहा था। फिस्कल डेफिसिट का मतलब सरकार का जितना खर्च है उसकी तुलना में इनकम में कमी से है।

पूरे साल के लिए फिस्कल डेफिसिट का लक्ष्य 6.8%
इस साल के लिए सरकार ने फिस्कल डेफिसिट का लक्ष्य 6.8% रखा है। हालांकि सरकार के लिए यह संभव नहीं है, क्योंकि उसने हाल में मुफ्त राशन का समय बढ़ा दिया है। इससे फिस्कल डेफिसिट बढ़ सकता है। मंगलवार को राज्यसभा में सरकार ने कहा कि पेट्रोल और डीजल पर एक्साइज ड्यूटी लगाकर 2020-21 में 3.72 लाख करोड़ रुपए उसने जुटाए थे। इसमें से राज्यों को केवल 20 हजार करोड़ रुपए ही दिए गए।

8 प्रमुख सेक्टर की ग्रोथ ठीक रही
8 प्रमुख इंडस्ट्रीज की ग्रोथ अक्टूबर में 7.5% पर रही। इसमें सबसे ज्यादा ग्रोथ नेचुरल गैस की रही जो 25.8% थी। कोयले की ग्रोथ 14.6%, रिफाइनरी प्रोडक्ट्स की 14.4 और सीमेंट की 11.3% ग्रोथ रही। इलेक्ट्रिसिटी, स्टील और फर्टिलाइजर्स में भी ग्रोथ रही। हालांकि कच्चे तेल की ग्रोथ में 2.2% की गिरावट रही।

24.4% की दर से गिरी थी अर्थव्यवस्था
2020 में अप्रैल से जून के दौरान देश की अर्थव्यवस्था 24.4% की दर से गिरी थी जबकि तीसरी तिमाही यानी अक्टूबर से नवंबर के दौरान इसमें 0.4% की बढ़त दिखी थी। जनवरी से मार्च 2021 में GDP 1.6% की दर से बढ़ी जबकि अप्रैल से जून 2021 के दौरान इसमें 20.1% की दर से बढ़त दिखी थी। अप्रैल 2020 से मार्च 2021 के दौरान विकास दर में 7.3% की गिरावट आई थी।

RBI ने 7.9% की विकास दर का अनुमान जताया था
भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने कहा था कि रियल GDP ग्रोथ 7.9% रह सकती है। UBS का मानना था कि भारत की GDP ग्रोथ 8 से 9% के बीच में रह सकती है। ब्रोकरेज हाउस निर्मल जैन ने दूसरी तिमाही में देश की GDP 7% की दर से बढ़ने की संभावना जताई थी।

8.1% रह सकती है विकास दर : SBI
देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) का अनुमान था कि GDP की विकास दर 8.1% रह सकती है। वहीं डच बैंक और बैंक ऑफ अमेरिका का मानना था कि भारत की ग्रोथ रेट 8% रह सकती है। कोटक सिक्योरिटीज ने 7% की ग्रोथ रेट की उम्मीद जताई थी।