पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

HDFC बैंक की डिजिटल सर्विस का मामला:RBI ने IT के इंफ्रा ऑडिट के लिए प्रोफेशनल नियुक्त किया, जल्द मिलेगी रिपोर्ट

मुंबई5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हाल में कई बार बैंक की IT सेवाएं बंद हो गई थीं। इसी के बाद रिजर्व बैंक ने HDFC बैंक पर नए क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड जैसी डिजिटल सेवाओं को लांच करने पर रोक लगा दी थी। यह रोक अभी भी जारी है - Dainik Bhaskar
हाल में कई बार बैंक की IT सेवाएं बंद हो गई थीं। इसी के बाद रिजर्व बैंक ने HDFC बैंक पर नए क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड जैसी डिजिटल सेवाओं को लांच करने पर रोक लगा दी थी। यह रोक अभी भी जारी है
  • दिसंबर में बैंक की डिजिटल सेवाओं में गड़बड़ी आई थी
  • रिजर्व बैंक ने नई डिजिटल सेवाओं पर रोक लगा दी थी

देश में निजी क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक HDFC बैंक की डिजिटल सर्विस को लेकर नया मामला सामने आया है। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने बैंक के IT इंफ्रा के ऑडिट के लिए प्रोफेशनल ऑडिट कंपनी की नियुक्त कर दी है। ऐसा इसलिए क्योंकि हाल में बैंक का IT प्लेटफॉर्म कई बार बंद हो गया था।

RBI ने मांगी थी रिपोर्ट

जानकारी के मुताबिक, RBI ने पहले ही IT इंफ्रास्ट्रक्चर पर एक रिपोर्ट मांगी थी। इसी रिपोर्ट के बाद बैंक के इंफ्रास्ट्रक्चर की जांच के लिए एक थर्ड पार्टी को नियुक्त किया गया है। बता दें कि हाल में कई बार बैंक की IT सेवाएं बंद हो गई थीं। इसी के बाद रिजर्व बैंक ने HDFC बैंक पर नए क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड जैसी डिजिटल सेवाओं को लांच करने पर रोक लगा दी थी। यह रोक अभी भी जारी है।

संतुष्ट होने के बाद रिजर्व बैंक हटा सकता है रोक

RBI इस रोक को तब हटाएगा, जब वह बैंक की सेवाओं से संतुष्ट होगा। रिजर्व बैंक इस बात की जांच कर रहा है कि हालिया मामलों के बाद क्या बैंक ने अपने IT इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करके डिजिटल क्षमता बढ़ाई है। 21 नवंबर 2020 को भी बैंक के प्राइमरी डाटा सेंटर में बिजली चले जाने के कारण ग्राहकों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था। 3 दिसंबर को रिजर्व बैंक ने नई डिजिटल सेवाओं पर रोक लगा दी थी।

स्टॉक एक्सचेंज को दी जानकारी

HDFC बैंक ने इसकी जानकारी स्टॉक एक्सचेंज को भी दी है। बैंक ने बताया कि पिछले दो साल में इंटरनेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग, ऑनलाइन पेमेंट में आई दिक्कत की वजह से RBI ने यह कदम उठाया है। बैंक डिजिटल दिक्कतों से निपटने के लिए शॉर्ट टर्म प्लान ला सकता है। इस प्लान का मकसद तकनीकी दिक्कतों से निपटना है। ऐसा होता है तो नए डिजिटल लॉन्च के लिए रिजर्व बैंक से इसे मंजूरी मिल सकती है।

IT प्लेटफॉर्म में ज्यादा निवेश करें बैंक

हाल में रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा था कि बैंकों को IT प्लेटफॉर्म को मजबूत करने के लिए ज्यादा निवेश इस सेगमेंट में करना चाहिए ताकि लोगों को कोई दिक्कत नहीं हो। दास ने कहा था कि भारत के इकोनॉमिक नजरिए से डिजिटल टेक्नोलॉजी एक मजबूत सेक्टर है।

SBI की भी डिजिटल सेवा रुकी थी

बता दें कि हाल के समय में केवल HDFC बैंक की ही डिजिटल सेवा नहीं रुकी है। दिसंबर में ही देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) की भी डिजिटल सेवा योनो एक दिन पूरी तरह से रुक गई थी। SBI की सभी डिजिटल सेवा योनो पर ही मिलती है। योनो को एक अलग कंपनी बनाकर इसे शेयर बाजार में लिस्ट कराने की योजना बैंक की है।

बैंक डिजिटल बैंकिंग पर कर रहे हैं फोकस

हाल में छोटे बैंकों को बड़े बैंकों में मिलाए जाने के बाद अब ज्यादातर बैंक डिजिटल बैंकिंग चैनल को बढ़ा रहे हैं। शाखाओं या फिजिकल बैंकिंग पर ग्राहकों की निर्भरता कम कर रहे हैं। हाल में रिजर्व बैंक ने रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (RTGS) को 24 घंटे कर दिया था। इससे भारत कुछ उन गिने-चुने देशों में शामिल हो गया जहां यह सुविधा 24 घंटे है।