HDFC बैंक की नई योजना:छोटे दुकानदारों को मिलेगा 10 लाख रुपए का ओवरड्राफ्ट, केवल 6 महीने का बैंक स्टेटमेंट देना होगा

मुंबई6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इस सुविधा को लेने के लिए कम से कम 3 साल का बिजनेस रिकॉर्ड होना चाहिए
  • इसके सुविधा के लिए बैंक की 600 से ज्यादा शाखाएं सपोर्ट करेंगी

निजी सेक्टर के सबसे बड़े बैंक HDFC बैंक ने छोटे रिटेलर्स के लिए एक नई स्कीम लांच किया है। इसके तहत छोटे दुकानदार 6 महीने के बैंक स्टेटमेंट के आधार पर 10 लाख रुपए तक की ओवरड्राफ्ट की सुविधा ले सकते हैं। इसके लिए उसने सीएससी एसपीवी के साथ भागीदारी की है।

दुकानदार ओवरड्राफ्ट स्कीम नाम दिया गया

बैंक ने एक बयान में बताया कि इस स्कीम को दुकानदार ओवरड्राफ्ट स्कीम नाम दिया गया है। इस सुविधा से छोटे दुकानदारों और मर्चेंट्स को उनके कैश के संकट के समय फायदा मिलेगा। यह सुविधा उन रिटेलर्स को मिलेगी, जो कम से कम 3 सालों से बिजनेस को चला रहे हैं। 6 महीने के स्टेटमेंट के आधार पर बैंक कम से कम 50 हजार और अधिक से अधिक 10 लाख रुपए की ओवरड्राफ्ट की सीमा को मंजूर कर सकता है।

किसी तरह की गारंटी की जरूरत नहीं

बैंक ने कहा कि इसके लिए किसी तरह की गारंटी या सिक्योरिटी नहीं चाहिए। न ही इसके लिए बिजनेस फाइनेंशियल और इनकम टैक्स रिटर्न की जरूरत होगी। बैंक ने कहा कि रिटेलर्स, दुकानदार और गांवों के उद्यमी इस सुविधा के लिए योग्य होंगे। बैंक ने इसके प्रोसेस के लिए कम से कम पेपर वर्क भी रखा है। कम समय में इस सुविधा को दिया जाएगा।

छोटे दुकानदारों को मदद मिलेगी

नई स्कीम छोटे दुकानदारों को मदद करने के लिए लांच की गई है। जिन दुकानदारों को 6 साल से कम हुआ है, उन्हें 7.5 लाख रुपए की सुविधा मिलेगी। जो 6 साल से ज्यादा समय से बिजनेस में हैं, उन्हें 10 लाख की सुविधा मिलेगी। इसके लिए बैंक की 600 से ज्यादा शाखाएं और वर्चुअल रिलेशनशिप मैनेजमेंट सपोर्ट करेंगे।

प्रोपराइटर और बिजनेस पार्टनर अप्लाई कर सकते हैं

बैंक ने कहा कि इसके लिए केवल प्रोपराइटर और बिजनेस भागीदार ही अप्लाई कर सकते हैं। इस बारे में बैंक की गवर्नमेंट और इंस्टीट्यूशनल बिजनेस हेड स्मिता भगत ने कहा कि पिछले एक साल से ग्लोबल इकोनॉमी कोविड-19 की वजह से खराब माहौल से गुजर रही है। इस माहौल में छोटे दुकानदार ज्यादा प्रभावित हुए हैँ। HDFC बैंक ने सीएससी के साथ मिलकर इस पहल को लांच किया है।

इससे पहले रिजर्व बैंक ने कहा था कि बैंक छोटी रकम की ओवरड्राफ्ट सुविधा को ब्रांच मैनेजर लेवल पर मंजूरी दे सकते हैं। खासकर उन ग्राहकों को, जिनका पिछला इतिहास संतोषजनक रहा है। यह सुविधा करेंट अकाउंट वालों के लिए थी।