पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सुधर रहे हालात:देश में कर्मचारियों की बढ़ने लगी हायरिंग, सितंबर में पिछले साल के मुकाबले 30% की हुई बढ़ोतरी: लिंक्डइन

नई दिल्ली7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अप्रैल में हायरिंग एक्टिविट में साल-दर-साल आधार पर 50% की गिरावट दर्ज की गई थी - Dainik Bhaskar
अप्रैल में हायरिंग एक्टिविट में साल-दर-साल आधार पर 50% की गिरावट दर्ज की गई थी
  • अप्रैल के बाद हायरिंग धीरे-धीरे बढ़ा, जुलाई में यह 0 (शून्य)% के ऊपर आया
  • अगस्त में साल-दर-साल आधार पर 12% ज्यादा हायरिंग हुई थी

कारोबार और कंपनियों के खुलने से देश में हायरिंग एक्टिविटी बढ़ने लगी है। ग्लोबल प्रोफेशनल सर्विसेज प्लेटफॉर्म लिंक्डइन ने मंगलवार को एक रिपोर्ट में कहा कि इस साल सितंबर में पिछले साल के सितंबर महीने की तुलना में 30 फीसदी ज्यादा हायरिंग हुई। अप्रैल में हायरिंग एक्टिविट में साल-दर-साल आधार पर 50 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई थी।

अप्रैल के बाद हायरिंग में धीरे-धीरे सुधार होता रहा। जुलाई में हायरिंग 0 (शून्य) फीसदी के ऊपर आया। अगस्त में इसमें 12 फीसदी की बढ़ोतरी हुई और सितंबर में साल-दर-साल आधार पर 30 फीसदी का उछाल दर्ज किया गया।

नौकरी का कंपिटीशन घटा, लेकिन पिछले साल से अब भी 30% ज्यादा

रिपोर्ट में कहा गया कि नौकरी के लिए कंपिटीशन आज कुछ महीने पहले के मुकाबले कम रह गया है, लेकिन एक साल पहले के मुकाबले अब भी कंपिटीशन 30 फीसदी ज्यादा है। 2020 के मध्य में नौकरी के लिए कंपिटीशन करीब दोगुना हो गया था। अगस्त में इसमें गिरावट आई और हर एक नौकरी के लिए औसतन 1.3 गुना आवेदन आए। सितंबर में कंपिटीशन का यही स्तर बना रहा।

कोरोना से ज्यादा प्रभावित सेक्टर्स के कर्मचारी दूसरे सेक्टर में खोज रहे हैं काम

रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना से ज्यादा प्रभावित क्षेत्रों (जैसे मनोरंजन और यात्रा) में काम करने वाले कर्मचारियों में दूसरे सेक्टर्स में नौकरी खोजने की संभावना प्री-कोविड स्तर के मुकाबले 4.2 गुना बढ़ी है। हालांकि जून में यह तनाव और भी ज्यादा था, जब अन्य सेक्टर्स में नौकरी खोजने की संभावना 6.8 गुना थी। इस दौरान रिटेल सेक्टर में यह तनाव 2.4 गुना से घटकर 1.1 गुना पर आ गया है। अन्य सेक्टर्स में हालांकि ज्यादा बदलाव नहीं हुआ है।