• Hindi News
  • Business
  • Home Loan Benefits; What Will Be The Effect Of Reserve Bank Repo Rate Unchanged Decisions

नहीं घटी ब्याज दर:आप लोन लेने वाले हैं तो जानिए कैसे फायदा मिलेगा, रिजर्व बैंक के फैसलों का क्या असर होगा

मुंबई4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ब्याज दर में थोड़ा सा भी बदलाव ग्राहकों के लिए काफी मायने रखता है
  • अधिकांश होम लोन फ्लोटिंग रेट के आधार पर दिए जाते हैं

अब जबकि रिजर्व बैंक ने दरों को जस का तस रखा है, उम्मीद की जा रही है कि बैंक किसी भी स्थिति में अपने ब्याज की दरों को नहीं बढ़ाएंगे। मौजूदा स्थिति में मौजूदा कर्जदार और जो भविष्य में लोन लेने वाले हैं उन्हें इसका किस तरह से लाभ मिल सकता है, यह हम आपको बता रहे हैं।

ब्याज दर सबसे महत्वपूर्ण फैक्टर है

ब्याज दर सबसे महत्वपूर्ण फैक्टर है जो यह तय करता है कि आप लोन के लिए कितना ब्याज का पेमेंट करते हैं। होम लोन एक ऐसा कर्ज होता है जिसे काफी सालों तक चुकाना पड़ता है। इसलिए ब्याज दर में थोड़ा सा भी बदलाव ऐसे ग्राहकों के लिए काफी मायने रखता है।

लोन लोने वाले नए ग्राहक के लिए

अधिकांश होम लोन फ्लोटिंग रेट के आधार पर दिए जाते हैं। फ्लोटिंग मतलब समय-समय पर दरों में बदलाव। आरबीआई ने 1 अक्टूबर, 2019 से बैंकों से सभी फ्लोटिंग रेट रिटेल लोन को रेपो रेट जैसे एक्सटर्नल बेंचमार्क से लिंक करना अनिवार्य कर दिया था। ज्यादातर बैंकों ने रेपो रेट को अपने लोन के लिए बेंचमार्क के तौर पर इस्तेमाल किया है। रेपो रेट पिछले दो दशकों में सबसे निचले स्तर पर रहे हैं और इसका लाभ लोन लेने वालों को मिलता रहा है।

रेपो रेट में कोई बढ़ोतरी नहीं होने से नए ग्राहक जो निकट भविष्य में होम लेने की योजना बना रहे हैं, उन्हें अपने घर खरीदने की प्रक्रिया के लिए अधिक समय मिलेगा और अभी भी कम दरों पर लोन प्राप्त कर सकते हैं।

पुराने ग्राहकों को समीक्षा और कार्य करने का समय

रेपो दर में कोई बदलाव नहीं करने का मतलब है कि मौजूदा होम लोन ले चुके लोग उसी ब्याज दर पर अपनी किस्त देते रहेंगे। हालांकि, अगर आपका लोन 5 साल से ज्यादा पुराना है, तो आपके लिए इंटरेस्ट रेट रिजीम (यानी बीपीएलआर, बेस रेट, एमसीएलआर या एक्सटर्नल बेंचमार्क रेट (ईबीआर) की जांच करना आपके लिए समझदारी होगी। जिसके तहत आपका लोन मंजूर किया गया है।

अधिक ब्याज का पेमेंट कर रहे हैं तो जानिए

यदि आपने अपने लोन को एक्सटर्नल बेंचमार्क लिंक्ड लोन में शिफ्ट नहीं किया है, तो काफी संभावना है कि आप नए एक्सटर्नल बेंचमार्क लिंक किए गए होम लोन पर अधिक ब्याज दर का पेमेंट कर सकते हैं। यदि आप ज्यादा ब्याज दर का भुगतान कर रहे हैं तो आप अपने मौजूदा बैंक से ईबीआर से जुड़े लोन पर अपने लोन को स्विच करने के लिए कह सकते हैं। इसके लिए आपको मामूली स्विचिंग फीस का पेमेंट करना पड़ सकता है।

बैंक सुविधा नहीं दे रहा है तो दूसरे बैंक में जाएं

हालांकि, यदि आपका बैंक यह सुविधा नहीं दे रहा है या ईबीआर से जुड़े होम लोन पर भी ज्यादा दर चार्ज कर रहा है तो आप अपने लोन को दूसरे बैंक में स्विच करने पर विचार कर सकते हैं। फ्लोटिंग रेट लोन होने के कारण स्विच करने के लिए कोई जुर्माना नहीं है। इसका मतलब यह है कि आपको केवल प्रोसेसिंग फीस और नए बैंक के अन्य चार्जेज की चिंता करनी है।

यदि इससे फायदा दिखाई देता है तो आप यह कदम उठा सकते हैं। विशेषज्ञों का सुझाव है कि ग्राहकों को बैलेंस ट्रांसफर पर विचार करना चाहिए जब ब्याज दर में कमी 0.5 % या उससे अधिक है।

ऑटो लोन वाले ग्राहक

ऑटो लोन की अधिकतम अवधि 5 साल से 7 साल के बीच होती है। यह इस बात पर निर्भर करता है कि क्या आप नया लोन लेने की योजना बना रहे हैं या आपने लोन लिया है। आप अपने फायदे के लिए रेपो दर में इस ठहराव का सही इस्तेमाल कर सकते हैं।

ऑटो लोन के नए ग्राहक

भारत में ज्यादातर कार लोन की फाइनेंसिंग अभी भी फिक्स्ड इंटरेस्ट रेट के आधार पर होती रही है। यानी लोन के समय आपको जो भी ब्याज दर मिलती है वही लोन की पूरी अवधि के दौरान रहेगी। इसलिए, जब कोई कार के लिए लोन लेता है तो मामला और भी महत्वपूर्ण हो जाता है। इसलिए यदि आप कम ब्याज दर के दौर में लोन लेते हैं तो आप बैंक द्वारा ब्याज दर को बढ़ाने के बावजूद भी लोन की अवधि के दौरान कम किस्त भुगतान का लाभ उठा सकते हैं।

सबसे कम ब्याज दर का समय

उदाहरण के लिए वर्तमान में, आप 7.75% से 7.95% प्रति वर्ष की सबसे कम दर पर कर लोन ले सकते हैं। इसलिए यदि आप अभी तक इस बारे में अपना मन बना रहे हैं कि कौन सी कार खरीदनी है, तो ब्याज दरों पर आरबीआई के फैसले से आपको अंतिम फैसला लेने के लिए कुछ और समय मिल गया है। क्योंकि बैंक हाल फिलहाल अपनी ब्याज दरों में कोई बढ़ोतरी नहीं करने वाले हैं।

ऑटो लोन के वर्तमान ग्राहक

यदि आपने 2 साल पहले लोन लिया और आज सबसे कम दरों पर लोन उपलब्ध है तो यही मौका है जब आप अपने लोन को किसी दूसरे बैंक में स्विच कर सकते हैं। लेकिन ऐसा करने से पहले, फोरक्लोजर चार्ज के बारे में भी पता कर लें। यह आमतौर पर फिक्स्ड रेट वाले लोन पर लिया जाता है। यदि फोरक्लोजर चार्ज कम है और किसी अन्य बैंक से कम दर प्राप्त करने का लाभ अधिक है, तो आपको इस बारे में अवश्य सोचना चाहिए।

नए ग्राहकों को नए रास्ते को तलाशना चाहिए

यदि आप एक नया लोन लेने की योजना बना रहे थे तो आपके पास मौजूदा कम दर पर ऐसा करने के लिए अधिक समय होगा। क्योंकि बैंकों द्वारा निकट अवधि में दरों को बढ़ाये जाने की संभावना नहीं है। बैंक का चुनाव करने से पहले, यह सुनिश्चित करें कि आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा है ताकि आप अपने क्रेडिट स्कोर के आधार पर सर्वोत्तम दर की जांच कर सकें।

लागत में बचत कीजिए

यदि आपने पर्सनल लोन ले रखा है तो आप बहुत कुछ नहीं कर सकते हैं क्योंकि पर्सनल लोन आमतौर पर फिक्स्ड रेट के साथ टर्म लोन के रूप में दिया जाता है। हालांकि, यदि आप बहुत अधिक या 16% से ऊपर की दर से ब्याज का पेमेंट कर रहे हैं तो अच्छा होगा कि आप अन्य बैंकों की दरों की जांच कर लें कि कहीं उनकी दरें और भी कम तो नहीं है।

पर्सनल लोन कम समय के लिए होते हैं

पसर्नल लोन आमतौर पर कम समय के लिए या यूं कहें कि अक्सर 3-5 साल के लिए होते हैं। इसलिए, जब आप इसे अपने रीपेमेंट को पहले हाफ में ही स्विच करते हैं तो यह अच्छी खासी बचत कर सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि आपके रीपेमेंट समय की पहले हाफ में आपकी किस्त में ज्यादातर ब्याज ही लिया जाता है, इसलिए किसी भी प्रकार का स्विच करने से ब्याज की दरों में या इंटरेस्ट रेट में कवि ही होती है।