• Hindi News
  • Business
  • Income Tax Saving Options; Which Is Better ELSS Fund Schemes Vs Fixed Deposit (FD) TO Invest In

आपके फायदे की बात:टैक्स बचाने के लिए FD करें या इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम में लगाएं पैसा, एक्सपर्ट से जानें कौन-सा विकल्प रहेगा बेहतर

नई दिल्ली4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इन दिनों अगर आप टैक्स बचाने के लिए निवेश करना चाहते हैं तो टैक्स सेविंग फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) या म्यूचुअल फंड की इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम (ELSS) में निवेश कर सकते हैं। इन दोनों ही स्कीम में निवेश करके आप इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80C के तहत 1.5 लाख तक के निवेश पर टैक्स छूट का फायदा ले सकते हैं। आज हम आपको इन दोनों स्कीम्स के बारे में बता रहे हैं, ताकि आप अपने हिसाब से सही जगह निवेश कर सकें।

टैक्स सेविंग FD
5 साल वाली FD को टैक्स सेविंग FD कहा जाता है। इसमें निवेश पर इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80C के तहत 1.5 लाख रुपए तक टैक्स छूट ली जा सकती है। ऐसे में आप इनमें निवेश कर सकते हैं। यहां देखें कौन से बैंक में टैक्स सेविंग FD पर कितना ब्याज मिल रहा है।

देश में 42 म्युचुअल फंड कंपनियां टैक्स सेविंग स्कीम चलाती हैं। हर कंपनी के पास इनकम टैक्स बचाने के लिए ELSS है। इसे ऑनलाइन घर बैठे-बैठे या किसी एजेंट के माध्यम से खरीदा जा सकता है।ELSS में रहता है 3 साल का लॉक-इन पीरियड

  • इसमें 1.5 लाख रुपए की अधिकतम टैक्स छूट ली जा सकती है, लेकिन अधिकतम निवेश की इसमें कोई सीमा नहीं है।
  • इस इनकम टैक्स बचाने वाली स्कीम में निवेश 3 साल के लिए लॉक-इन रहता है। इसके बाद निवेशक चाहे तो यह पैसा निकाल सकता है। तीन साल के बाद चाहे तो पूरा निकाल लें या जितनी जरूरत हो, उतना पैसा निकाल लें और बाकी पैसा इस ELSS में जब तक चाहे बना रहने दें।
  • ELSS केवल 3 साल के लिए लॉकइन होती है, लेकिन अगर निवेशक इसमें डिविडेंट पे-आउट का ऑप्शन लेता है तो उन्हें बीच-बीच में पैसा मिलता रहेगा। हालांकि इनकम टैक्स बचाने वाली ELSS स्कीम से बीच में पैसा निकाला नहीं जा सकता है। इससे जुड़ी अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

कहां करें निवेश?

पर्सनल फाइनेंस एक्सपर्ट और ऑप्टिमा मनी मैनेजर्स के संस्थापक व सीईओ पंकज मठपाल कहते हैं कि दोनों ही जगह निवेश करके इनकम टैक्स बचाया जा सकता है, लेकिन टैक्स बचाने के लिए टैक्स सेविंग FD सही विकल्प नहीं है, क्योंकि बढ़ती महंगाई के बीच इससे आपको काफी कम रिटर्न मिलेगा। इसके अलावा इससे मिलने वाला ब्याज भी टैक्स फ्री नहीं होता है। ऐसे में अगर आप हाई टैक्स ब्रैकेट में आते हैं तो आपको FD से मिलने वाले रिटर्न पर 30% टैक्स चुकाना होगा। ऐसे में इससे मिलने वाला रिटर्न और ज्यादा कम हो जाता है।

वहीं अगर ELSS की बात करें तो इसने बीते कुछ सालों में शानदार रिटर्न दिया है और इसमें निवेश करके भी आप टैक्स बचा सकते हैं। बढ़ती महंगाई को देखते हुए ELSS में निवेश करना सही रहेगा।

खबरें और भी हैं...