• Hindi News
  • Business
  • India Inflation Rate 2022: Ways In Which You Can Protect Yourself Financially

काम की बात:बढ़ती महंगाई से आप भी हैं परेशान तो बजट तैयार करने और कमाई बढ़ाने की कोशिश जैसी इन 4 बातों का रखें ध्यान

नई दिल्ली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बढ़ती महंगाई से कई लोगों का बजट बिगाड़ दिया है। ऐसे में लोग कमाई का नया जरिया तलाश रहे हैं, लेकिन नया काम मिलना आसान नहीं है। इसीलिए इस मुश्किल समय से निपटने के लिए सबसे जरूरी है कि आप अपने खर्चों को कंट्रोल करें और जितना ज्यादा हो सके पैसे बचाने की कोशिश करें। क्योंकि आपकी बचत भी आपकी कमाई ही है।

इस मुश्किल समय में बेहतर कल के लिए आज से ही वित्तीय स्थिति संभालनी होगी ताकि भविष्य में होने वाले नुकसान और पैसों की तंगी से निपटा जा सके। ऐसे में हम आपको बता रहे हैं आप कुछ आसान तरीके अपनाकर खुद को वित्तीय रूप से सुरक्षित रख सकते हैं।

खर्चों को कंट्रोल करें
इस मुश्किल समय से निपटने के लिए सबसे जरूरी है कि आप अपने खर्चों को कंट्रोल करें और फालतू खर्च पर रोक लगाएं। अगर पिछले 1-2 महीनों के खर्च को देखेंगे कि आपने कहां ज्यादा या फिजूल खर्च किया है तो आप आसानी से खर्च को कंट्रोल कर सकेंगे। इस दौर में अपने घर का काम खुद करने की आदत डालनी चाहिए। जिन कामों का अभी तक आप मोल चुकाते थे, उन्हें अगर खुद कर सकते हैं तो करें और पैसे बचाएं। क्योंकि हर बचत आपकी कमाई ही है।

बजट तैयार करके उसका पालन करें
किसी भी तरह की वित्तीय समस्या से निपटने के लिए वित्तीय अनुशासन बहुत जरूरी है। वित्तीय अनुशासन के लिए आपको अपने मासिक खर्चों के लिए एक बजट तैयार करना चाहिए और महीने के अंत में वास्तविक खर्चों के साथ बजट की तुलना करनी चाहिए। यह तुलना आपको एहसास कराएगी कि आपने उस महीने में क्या फिजूल खर्च किया है। इससे आप अपने फिजूल खर्चों को कंट्रोल कर सकेंगे।

कमाई बढ़ाने की कोशिश करते रहें
भविष्य में खर्चों को पूरा करने के लिए अपनी हॉबी को कमाई का जरिया बनाएं। अगर वित्तीय ज्ञान है तो सलाहकार बने या कोई कला है तो उसका उपयोग भी कर सकते हैं। इससे अपना शौक भी पूरा होगा और कमाई भी हो जाएगी।

50-20-30 नियम का पालन करें
यह नियम उतना ही स्पष्ट है, जितना इसके नंबर। आपको अपनी कमाई को तीन हिस्सों में बांटना होगा। 50% सैलरी को घरेलू खर्चों के लिए रखना होगा। 20% को थोड़े-थोड़े समय पर पड़ने वाली जरूरतों के लिए रखना होगा और 30% का निवेश भविष्य में पड़ने वाली जरूरतों के लिए रखना होगा।