पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Business
  • Indian Railways Rolls Out Swanky New AC, Non AC Train Coaches For Post COVID Travel; Top Features

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

महामारी से बचाएंगे नए रेल कोच:डिब्बों में पैर से बंद होगा टॉयलेट का गेट, नल भी पैर से करेगा काम; वायरस खत्म करने लगाई कॉपर कोटेड हैंड्रिल्स

नई दिल्ली10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भारतीय रेलवे का मानना ​​है कि इन कोचों में दी जाने वाली सुविधाएं यात्रियों के विश्वास को बढ़ाकर अधिक मजबूत बनाएंगी - Dainik Bhaskar
भारतीय रेलवे का मानना ​​है कि इन कोचों में दी जाने वाली सुविधाएं यात्रियों के विश्वास को बढ़ाकर अधिक मजबूत बनाएंगी
  • रेलवे ने कोविड-19 से बचने नए एसी और नॉन-एसी कोच तैयार किए हैं
  • एक कोच को तैयार करने में करीब 6 से 7 लाख रुपए का खर्च आया है

भारतीय रेलवे ने कोविड-19 महामारी के दौर में ट्रैवल करने के लिए नए कोच रोल आउट किए हैं। ये एसी और नॉन एसी दोनों तरह के कोच हैं। इन कोच को कपूरथला फैक्ट्री में तैयार किया गया है।

नेशनल ट्रांसपोर्टर के अनुसार, इन दो पोस्ट कोविड-19 कोच को एक जैसा डिजाइन किया गया है, ताकि कोविड-19 महामारी को फैलने से रोका जा सके। भारतीय रेलवे का मानना ​​है कि इन कोचों में दी जाने वाली सुविधाएं यात्रियों के विश्वास को बढ़ाकर अधिक मजबूत बनाएंगी। ऐसे एक कोच को तैयार करने में करीब 6 से 7 लाख रुपए का खर्च आया है।

नए एसी और नॉन-एसी कोच की खासिएयत

हैंड्सफ्री सुविधाएं: इन कोच कई चीजों को पैर से ऑपरेट किया जा सकेगा। जैसे, नल से पानी और साबुन निकालने वाली मशीन को पैर से काम करेगी। शौचालय के दरवाजे पैर की मदद से खुलेंगे और उसका लॉक भी पैर से ही लगा पाएंगे। इसका फ्लश वाल्व, पानी का नल भी पैर से ऑपरेट कर पाएंगे।

कॉपर कोटेड हैंड्रिल्स और लैचेस: कोच के अंदर कॉपर कोटेड हैंड्रिल्स और लैचेस का इस्तेमाल किया गया है। भारतीय रेलवे के अनुसार, कॉपर कुछ समय के अंदर सतह पर से वायरस को खत्म कर देता है, क्योंकि कॉपर में एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं। यदि कॉपर पर वायरस है, तो आयन वायरस के अंदर के डीएनए और आरएनए को नष्ट कर देता है।

टाइटेनियम डी-ऑक्साइड कोटिंग: टाइटेनियम डाइऑक्साइड द्वारा निर्मित कोटिंग जो कि नैनोकंस्ट्रक्चर है, फोटोएक्टिव सामग्री के रूप में कार्य करती है। पानी आधारित कोटिंग पर्यावरण के अनुकूल है जो वायरस, बैक्टीरिया, मोल्ड, साथ ही फंगल का खत्म करता है। ये इनडोर एयर क्वालिटी को बेहतर बनाता है। टाइटेनियम डी-ऑक्साइड ह्यूमन के लिए एक सुरक्षित पदार्थ माना जाता है।

इसका लेप वॉशबेसिन, सीट और बर्थ, लैवेटरी, ग्लास विंडो, स्नैक टेबल, फ्लोर जैसी कई उन सतहों पर लगाया गया है, जो मानव संपर्क में आते हैं। टाइटेनियम डी-ऑक्साइड कोटिंग की लाइफ 12 महीने यानी एक साल की है।

कोरोना से देश में मौतें
देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 9,07,645 हो गई है। इनमें 3,11,422 की रिपोर्ट पॉजीटिव है। वहीं 5,72,112 संक्रमित ठीक हो गए हैं। देश में अब तक कोरोना से मरने वालों की संख्या 23,727 हो चुकी है। ये आंकड़े covid19india.org के अनुसार हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

और पढ़ें