पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Business
  • India's Economic Recovery Faces Turbulence As States Mull Actions To Curtail Second Covid Wave

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोविड-19 की दूसरी लहर:संक्रमण को रोकने के लिए कई तरह के प्रतिबंध लगा रहे हैं राज्य, इससे इकोनॉमिक रिकवरी को झटका लग सकता है

नई दिल्ली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पिछले महीने यानी फरवरी में देश में कंजम्पशन डिमांड और कारोबारी गतिविधियां पटरी पर लौट आई थीं। बीते पांच महीने से देश में कारोबारी गतिविधियों में लगातार सुधार हो रहा था। लेकिन कोविड-19 संक्रमण के बढ़ते मामलों और राज्यों में लॉकडाउन जैसे प्रतिबंधों का जोखिम बढ़ने से मजबूत रिकवरी को लेकर संशय पैदा हो गया है।

बीते कुछ सप्ताहों में बदले हालात

फरवरी में जब कोविड-19 संक्रमण के कम मामले सामने आ रहे थे, तब इकोनॉमी में मजबूती दिख रही थी। हालांकि, बीते कुछ हफ्तों में हालात बदल गए हैं और यह ट्रेंड उल्टा हो गया है। स्थानीय स्तर पर लॉकडाउन की घटनाएं बढ़ गई हैं। इससे कंज्यूमर मोबिलिटी और इकोनॉमी में डिमांड प्रभावित हो सकती है। ग्रॉस डॉमेस्टिक प्रोडक्ट यानी जीडीपी में कंजम्पशन की करीब 60% हिस्सेदारी है।

कारोबारी गतिविधियों पर तुरंत असर पड़ने की संभावना नहीं

कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण के बावजूद भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर शक्तिकांत का कहना है कि इसका कारोबारी गतिविधियों पर तुरंत असर पड़ने की संभावना नहीं है। हालांकि, इकोनॉमिस्ट का मानना है कि महाराष्ट्र में तेजी से बढ़ते संक्रमण के कारण इकोनॉमिक रिकवरी पर ब्रेक लगेगा। इसका कारण यह है कि देश की कुल जीडीपी में महाराष्ट्र का 14.5% योगदान है। यह राज्य कोविड-19 संक्रमण से सबसे ज्यादा प्रभावित है और नए मामले भी महाराष्ट्र से ज्यादा आ रहे हैं। महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में संक्रमण को रोकने के लिए नाइट कर्फ्यू जैसे प्रतिबंध भी लगाए गए हैं।

कारोबारी गतिविधियों में हो रहा है सुधार

देश की कारोबारी गतिविधियों में फरवरी में सर्विस सेक्टर में सबसे ज्यादा सुधार रहा है। नए ऑर्डर बढ़ने और वैक्सीन के कारण बेहतर भविष्य की संभावनाओं को देखते हुए यह सुधार हुआ है। फरवरी में आईएचएस मार्किट सर्विसेज का पर्चेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (PMI) भी 55.3 पॉइंट रहा है। इसका 50 पॉइंट से ज्यादा रहने कारोबारी गतिविधियों में सुधार का सूचक है। इससे पहले आए एक सर्वे में भी कहा गया था कि देश में मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर का विस्तार हो रहा है।

निर्यात में भी हुई बढ़ोतरी

फरवरी महीने में निर्यात में भी वार्षिक आधार पर 0.7% की बढ़ोतरी रही है। हालांकि, यह जनवरी की 6.2% ग्रोथ के मुकाबले कम थी। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि फरवरी में आयात में भी 7% का इजाफा हुआ है। इसमें नॉन-ऑयल और नॉन-गोल्ड उत्पादों का आयात बढ़ा है। यह देश में बढ़ती घरेलू डिमांड का संकेत देता है।

उपभोक्ता गतिविधियों में भी आया उछाल

मांग बढ़ने के प्रमुख संकेतकों में शुमार पैसेंजर व्हीकल सेल्स भी फरवरी में एक साल पहले के मुकाबले 18% ज्यादा रही है। इसमें दोपहिया और ट्रैक्टर की बिक्री की अहम भूमिका रही है। लोन की मांग भी बढ़ी है। फरवरी में वार्षिक आधार पर बैंक क्रेडिट में 6.6% का उछाल रहा है। लिक्विडिटी के हालातों में भी थोड़ा बदलाव आया है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा व्यवहारिक गतिविधियों में बेहतरीन व्यवस्था बनी रहेगी। नई-नई जानकारियां हासिल करने में भी उचित समय व्यतीत होगा। अपने मनपसंद कार्यों में कुछ समय व्यतीत करने से मन प्रफुल्लित रहेगा ...

और पढ़ें