सरकार का GDP अनुमान:FY22 में GDP ग्रोथ 9.2% रहने की उम्मीद, मैन्युफैक्चरिंग के बढ़ने की दर 12.5% रह सकती है

नई दिल्ली9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

वित्त वर्ष 2021-22 की शुरुआत में ही दूसरी लहर का झटका झेलने के बावजूद भारतीय अर्थव्यवस्था इस साल दुनिया में सबसे तेज ग्रोथ वाली अर्थव्यवस्था बनेगी। यह दावा केंद्र सरकार की ओर से शुक्रवार को जारी 2021-22 के जीडीपी अनुमान में किया गया है। वित्त वर्ष 2021-22 (FY22) में भारत की रियल GDP 9.2% की दर से बढ़ सकती है, जबकि पिछले वित्त वर्ष में इसमें 7.3% का कॉन्ट्रेक्शन दिखा था।

शुक्रवार को सरकार ने अनुमानित आंकड़े (एडवांस एस्टीमेट) जारी किए हैं। कोरोना संक्रमण की वजह से साल 2020-21 में भारत की अर्थव्यवस्था पर गहरा असर पड़ा था, लेकिन अब इकोनॉमी धीरे-धीरे सामान्य स्थिति में लौट रही है।

नेशनल स्टैटिस्टिक्स ऑफिस (NSO) की ओर से जारी किए अनुमानित आंकड़ें रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) की ओर से जारी किए आंकड़ों से कम है। रिजर्व बैंक ने दिसंबर 2021 में हुई मॉनिटरी पॉलिसी मीटिंग में 9.5% की ग्रोथ का अनुमान लगाया था। FY22 की पहली तिमाही में भारत की GDP 20.1% और दूसरी तिमाही में 8.4% बढ़ी थी।

FY21 में 3% की गिरावट की तुलना में FY22 में नॉमिनल GDP के 17.6% की दर से बढ़ने का अनुमान है। नॉमिनल GDP को बजट के लिए बेस के रूप में इस्तेमाल किया जाएगा। वहीं ग्रॉस वैल्यू ऐडेड (GVA) का भी FY22 में 8.6% की दर से बढ़ने का अनुमान है। FY21 में इसमें 6.2% का कॉन्ट्रेक्शन दिखा था।

अलग-अलग सेक्टर का अनुमान

  • FY22 में एग्रीकल्चर के 3.9% की दर से बढ़ने की संभावना है। FY21 में यह 3.6% की दर से बढ़ा था।
  • मैन्युफैक्चरिंग के 12.5% की दर से बढ़ने का अनुमान है। FY21 में इसमें 7.2% कॉन्ट्रेक्शन दिखा था।
  • माइनिंग और क्वैरिंग में 14.3% के दर से बढ़ने का अनुमान है। FY21 में 8.5% का कॉन्ट्रेक्शन रहा था।
  • इलेक्ट्रिसिटी और दूसरे यूटिलिटी का ग्रोथ रेट 8.5% रह सकता है। FY21 में इसमें 1.9% की ग्रोथ दिखी थी।
  • कंस्ट्रक्शन सेक्टर 10.7% के दर से बढ़ सकता है। FY21 में इसमें 8.6% का कॉन्ट्रेक्शन दिखा था।

अभी तक कोविड से हुए नुकसान की भरपाई हुई
चीफ इकोनॉमिस्ट (बैंक ऑफ बड़ौदा) मदन सबनवीस कहते हैं कि 2021-22 में 9.2% GDP ग्रोथ का अंदाजा वित्त वर्ष 2020-21 के मुकाबले है। 2019-20 से तुलना करेंगे तो यह आंकड़ा सिर्फ 1.3% रह जाएगा। इस हिसाब से हम कोविड के चलते हुए नुकसान की सिर्फ भरपाई कर पाए हैं।

वास्तव में (2019-20 की स्थिति के मुकाबले) ट्रेड और ट्रांसपोर्ट अब भी कम हो रहे हैं। हालांकि, सालाना आधार पर इसमें 11.9% ग्रोथ संभव है। महामारी से पहले वाली स्थिति यानी 2019-20 से तुलना करें तो मैन्युफैक्चरिंग में ग्रोथ 12.5% से घटकर 4.5% रह गई है। पूंजी निर्माण की स्थिति अच्छी नहीं है। एक तरफ निजी निवेश में कमी आई है, वहीं दूसरी तरफ राज्य सरकारें खर्च घटा रही हैं। जाहिर है, इस मामले में अनुमानित 29.6% ग्रोथ हासिल करना मुश्किल होगा।

GDP क्या है?
GDP इकोनॉमी की हेल्थ को ट्रैक करने के लिए उपयोग किए जाने वाले सबसे कॉमन इंडिकेटर्स में से एक है। GDP देश के भीतर एक स्पेसिफिक टाइम पीरियड में प्रड्यूज सभी गुड्स और सर्विस की वैल्यू को रिप्रजेंट करती है। इसमें देश की सीमा के अंदर रहकर जो विदेशी कंपनियां प्रोडक्शन करती हैं उसे भी शामिल किया जाता है। जब इकोनॉमी हेल्दी होती है, तो आमतौर पर बेरोजगारी का लेवल कम होता है।

दो तरह की होती है GDP
GDP दो तरह की होती है। रियल GDP और नॉमिनल GDP। रियल GDP में गुड्स और सर्विस की वैल्यू का कैल्कुलेशन बेस ईयर की वैल्यू या स्टेबल प्राइस पर किया जाता है। फिलहाल GDP को कैल्कुलेट करने के लिए बेस ईयर 2011-12 है। यानी 2011-12 में गुड्स और सर्विस के जो रेट थे उस हिसाब से कैल्कुलेशन। वहीं नॉमिनल GDP का कैल्कुलेशन करेंट प्राइस पर किया जाता है।

कैसे कैल्कुलेट की जाती है GDP?
GDP को कैल्कुलेट करने के लिए एक फॉर्मूले का इस्तेमाल किया जाता है। GDP=C+G+I+NX, यहां C का मतलब है प्राइवेट कंजम्पशन, G का मतलब गवर्नमेंट स्पेंडिंग, I का मतलब इन्वेस्टमेंट और NX का मतलब नेट एक्सपोर्ट है।

GVA क्या है ?
ग्रॉस वैल्यू ऐडेड यानी जीवीए, साधारण शब्दों में कहा जाए तो GVA से किसी अर्थव्यवस्था में होने वाले कुल आउटपुट और इनकम का पता चलता है। यह बताता है कि एक तय अवधि में इनपुट कॉस्ट और कच्चे माल का दाम निकालने के बाद कितने रुपए की वस्तुओं और सेवाओं का उत्पादन हुआ। इससे यह भी पता चलता है कि किस खास क्षेत्र, उद्योग या सेक्टर में कितना उत्पादन हुआ है।

नेशनल अकाउंटिंग के नजरिए से देखें तो मैक्रो लेवल पर GDP में सब्सिडी और टैक्स निकालने के बाद जो आंकड़ा मिलता है, वह GVA होता है। अगर आप प्रोडक्शन के मोर्चे पर देखेंगे तो आप इसको नेशनल अकाउंट्स को बैलेंस करने वाला आइटम पाएंगे।