• Hindi News
  • Business
  • India's YoY FDI Inflow Rises Over 11 Percent In Apr Oct To 46.8 Billion Dollar

DPIIT डाटा:अप्रैल-अक्टूबर के दौरान 3.42 लाख करोड़ रुपए का FDI आया, यह पिछले साल के मुकाबले 11% ज्यादा

नई दिल्ली10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
DPIIT ने 2020 में FDI के 26 आवेदनों का निपटारा किया है। - Dainik Bhaskar
DPIIT ने 2020 में FDI के 26 आवेदनों का निपटारा किया है।
  • अप्रैल-अक्टूबर 2019 के दौरान 3.07 लाख करोड़ रु. का FDI आया था
  • चालू वित्त वर्ष के पहले 7 महीनों में इक्विटी में 2.58 लाख करोड़ का FDI इनफ्लो

चालू वित्त वर्ष में देश में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) में वार्षिक आधार पर 11% की बढ़ोतरी हुई है। डिपार्टमेंट फॉर प्रमोशन ऑफ इंडस्ट्री एंड इंटरनल ट्रेड (DPIIT) के डाटा में यह बात कही गई है। डाटा के मुताबिक, अप्रैल-अक्टूबर 2020 के दौरान देश में 46.82 बिलियन डॉलर करीब 3.42 लाख करोड़ रुपए का FDI आया है। एक साल पहले समान अवधि में 42.06 बिलियन डॉलर करीब 3.07 लाख करोड़ रुपए का FDI आया था।

इक्विटी में FDI इनफ्लो 21% बढ़ा

DPIIT के डाटा के मुताबिक, वित्त वर्ष 2021 के पहले सात महीनों में इक्विटी में FDI इनफ्लो में 21% की बढ़ोतरी हुई है। इस अवधि में 35.33 बिलियन डॉलर करीब 2.58 लाख करोड़ रुपए का FDI आया है। एक साल पहले समान अवधि में 29.31 बिलियन डॉलर करीब 2.14 लाख करोड़ रुपए का FDI आया था। DPIIT ने 2020 में FDI के 26 आवेदनों का निपटारा किया है।

मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने के लिए PLI स्कीम लॉन्च की

वाणिज्य मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि देश में मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने 13 सेक्टर्स के लिए प्रोडक्शन-लिंक्ड इन्सेंटिव (PLI) स्कीम लॉन्च की है। इस स्कीम में 3 सेक्टर्स को मार्च में और 10 सेक्टर्स को नवंबर में शामिल किया गया था। इस योजना के तहत सरकार अगले पांच साल में 1.97 लाख करोड़ रुपए का इन्सेंटिव देगी।

इन्वेस्टर्स को फ्रेंडली इकोसिस्टम देने के लिए कई कदम उठाए

बयान में कहा गया है कि कोविड-19 महामारी के दौरान भारत में निवेश करने वाले निवेशकों को सपोर्ट, सुविधा और इन्वेस्टर फ्रेंडली इकोसिस्टम देने के लिए मंत्रालयों और विभागों में एम्पावर्ड ग्रुप ऑफ सेक्रेटरीज (EGoS) और प्रोजेक्ट डेवलपमेंट सेल (PDCs) की स्थापना की गई है। वाणिज्य मंत्रालय का कहना है कि यह इंस्टीट्यूशन केंद्र और राज्य सरकारों के साथ को-ऑर्डिनेशन बनाकर निवेश की प्रक्रिया में तेजी लाते हैं।