• Hindi News
  • Business
  • Investors' Wealth Increased By 75 Lakh Crores, Share Market, Share Price, HDFC Bank, Reliance, Flomic, Adani

सेंसेक्स इस साल में 24% बढ़ा:निवेशकों की संपत्ति 75 लाख करोड़ बढ़ी, रिटर्न देने में बड़ी कंपनियां रहीं फिसड्‌डी

मुंबई6 महीने पहलेलेखक: अजीत सिंह
  • कॉपी लिंक

कोरोना के साए के बीच इस साल भारतीय शेयर बाजार ने अच्छी खासी बढ़त हासिल की है। दुनिया भर के शेयर बाजारों की तुलना में भारत का बाजार लगातार बढ़ता गया। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) का सेंसेक्स जनवरी से लेकर अब तक 24% बढ़ा, जबकि इसी दौरान निवेशकों की संपत्ति में 75 लाख करोड़ रुपए का इजाफा हुआ। हालांकि बड़ी कंपनियां रिटर्न देने के मामले में फिसड्‌डी साबित हुई हैं।

जनवरी में सेंसेक्स 46,285 पर था

जनवरी में सेंसेक्स 46,285 पर था जबकि अक्टूबर में यह 59,306 का हाई बनाकर बंद हुआ था। हालांकि 19 अक्टूबर को सेसेक्स 62,245 का ऐतिहासिक स्तर हासिल किया। इसी दौरान इसका मार्केट कैप 274 लाख करोड़ रुपए को भी पार किया। जनवरी में इसका मार्केट कैप 186 लाख करोड़ रुपए था जो अब 264 लाख करोड़ रुपए हो गया है। सेंसेक्स इस समय 58 हजार के पार कारोबार कर रहा है। यह अपने हाई से करीबन 8% नीचे है।

सेंसेक्स ने 24% का रिटर्न दिया

सेंसेक्स ने 24% का रिटर्न तो दिया, पर बड़ी कंपनियां जैसे रिलायंस, टाटा कंसल्टेंसी (TCS), HDFC बैंक जैसे शेयर ने बहुत अच्छा फायदा नहीं दिया। टॉप 10 कंपनियों में जो सबसे ज्यादा फायदा देनेवाली रहीं, उसमें ट्राइडेंट सबसे आगे रही। इसका शेयर एक साल पहले 7.84 रुपए था जो अब 53.40 रुपए है। यानी 5.16 गुना का रिटर्न इसने एक साल में दिया है। दूसरे नंबर पर पूनावाला फिनकॉर्प रही। इसने 4.17 गुना का रिटर्न दिया है। इसका शेयर एक साल पहले 35.65 रुपए था जो अब 201 रुपए है।

KPIT रिटर्न देने के मामले में तीसरे नंबर पर रही

KPIT रिटर्न देने के मामले में तीसरे नंबर पर रही। इसका शेयर एक साल में 105 से बढ़कर 512 रुपए हो गया। यानी इसने 3.79 गुना का फायदा दिया है। गुजरात फ्लोरोकेमिकल ने भी अच्छा फायदा निवेशकों को दिया है। इसका शेयर 525 से बढ़कर 2,293 रुपए पर पहुंच गया है। इसने 3.14 गुना का फायदा दिया है।

अडाणी एंटरप्राइज ने भी दिया फायदा

अडाणी ग्रुप का एक शेयर भी इस लिस्ट में रहा है। अडाणी एंटरप्राइज का शेयर 417 से बढ़कर 1,670 रुपए पर आ गया है। इसने 2.88 गुना का फायदा दिया है। यानी एक लाख का निवेश 3.88 लाख रुपए हो गया है। दिवालिया कंपनियों के मालिक अनिल अंबानी की भी एक कंपनी इस लिस्ट में है। रिलायंस पावर का शेयर एक साल में 3 रुपए से बढ़कर 13 रुपए पर पहुंच गया है। इसने 2.83 गुना का रिटर्न दिया है। हालांकि यह टी ग्रुप का शेयर इस समय बन गया है।

टाटा एलेक्सी ने भी दिया ढाई गुना का लाभ

टाटा ग्रुप के टाटा एलेक्सी के शेयर ने 2.52 गुना का रिटर्न दिया है। इसका शेयर का भाव 1,505 से बढ़कर 5,472 रुपए पर कारोबार कर रहा है। परसिस्टेंट सिस्टम के शेयर का भाव इस समय 4,572 रुपए है जो एक साल पहले 1,248 रुपए पर था। इसने 2.47 गुना का फायदा दिया है।

बोरोसिल रिन्यूएबल ने 2.82 गुना का फायदा दिया

बोरोसिल रिन्यूएबल के शेयर ने एक साल में 2.82 गुना का फायदा दिया। इसका शेयर 172 से बढ़कर 651 रुपए पर कारोबार कर रहा है। इसी तरह इंडियन एनर्जी एक्सचेंज का शेयर 67 से बढ़कर 255 रुपए हो गया। यानी इसने 2.73 गुना का रिटर्न दिया है। केमिकल कंपनी बालाजी अमाइंस का शेयर 3,215 रुपए पर है। एक साल पहले यह 850 रुपए पर था। इसका फायदा 2.67 गुना का रहा है। KPR मिल के शेयर ने 2.67 गुना का रिटर्न दिया है। यह शेयर 162 से बढ़कर 606 रुपए हो गया है।

सस्ते शेयर्स का ज्यादा रिटर्न

हालांकि पेन्नी स्टॉक यानी वे शेयर जो एकदम सस्ते होते हैं और अचानक बढ़ते और गिरते रहते हैं, उन्होंने काफी ज्यादा फायदा दिया है। उदाहरण के तौर पर इक्विप सोशल नाम के शेयर ने एक साल में 29,175% का फायदा दिया है। 35 पैसे का यह शेयर अब 117 रुपए पर है। सिंपलेक्स पेपर्स का शेयर इसी दौरान 88 पैसे से बढ़कर 102 रुपए पर पहुंच गया है। इसका रिटर्न 12,120% का रहा है। फ्लोमिक ग्लोबल भी इसी तरह का शेयर है।

फ्लोमिक ग्लोबल ने दिया 10,385% का फायदा

फ्लोमिक ग्लोबल का भाव एक साल पहले 1.80 रुपए था जो अब 10,385% बढ़कर 185 रुपए पर पहुंच गया है। सूरज इंडस्ट्रीज का शेयर 154 रुपए पर है। यह एक साल पहले 1.95 रुपए पर था। डिग्जाम का शेयर 3.45 रुपए से बढ़कर 184 रुपए जबकि ब्राइटकॉम ग्रुप का शेयर 4.20 रुपए से बढ़कर 195 रुपए पर पहुंच गया है। इन दोनों ने 4 हजार % से ज्यादा का फायदा निवेशकों को दिया है। रघुवीर सिंथेटिक्स का शेयर 931 रुपए पर है। इसने भी 4 हजार पर्सेंट का फायदा दिया है। एक साल पहले यह स्टॉक 17 रुपए पर था।

अगले साल के बारे में उम्मीद है कि बाजार अच्छा प्रदर्शन करेगा। जानकारों का कहना है कि पहले तो यह अगरे अपने पिछले हाई तक पहुंचता है तो इसका मतलब कि 8% की बढ़त हो जाएगी। साथ ही उसके बाद इसमें 10% की और बढ़त दिख सकती है। हालांकि काफी कुछ बजट पर निर्भर होगा।