काम की बात:टर्म इंश्योरेंस लेने से पहले कवर की रकम का सही अनुमान लगाना जरूरी, ये 3 तरीके करेंगे आपकी मदद

नई दिल्ली8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

टर्म इंश्योरेंस आपके न रहने पर आपके परिवार को वित्तीय सुरक्षा देता है। अगर आप चाहते हैं कि आपके न रहने पर आपके परिवार को पैसों की समस्या का सामना न करना पड़े तो आप टर्म इंश्योरेंस ले सकते हैं।

हालांकि, आमतौर ये देखा जाता है कि इश्योरेंस लेने से पहले आमतौर पर लोगों के मन से सबसे बड़ सवाल यही रहता है कि कितने का टर्म इंश्योरेंस कवर लेना चाहिए। इसके लिए एक्सपर्ट ने कई फार्मूले दिए हैं। इनकी मदद से आप इंश्योरेंस की रकम का अनुमान लगा सकेंगे। आज हम आपको इनके बारे में बता रहे हैं।

ह्यूमन लाइफ वैल्यू कॉन्सेप्ट
ह्यूमन लाइफ वैल्यू (HLV) कॉन्सेप्ट में उस टोटल इनकम का कैलकुलेशन किया जाता है जो एक शख्स अपने कामकाजी जीवन काल में कमा सकता है। फिर उसे अनुमानित इन्फ्लेशन रेट (महंगाई दर) के साथ डिस्काउंट किया जाता है। दूसरे शब्दों में उस शख्स की फ्यूचर इनकम को आज के दाम के हिसाब से कैलकुलेट किया जाता है। इस वैल्यू को इंडिविजुअल पर होने वाले खर्च से यह पता करने के लिए निकाला लिया जाता है कि परिवार में उस शख्स की क्या इकोनॉमिक वैल्यू होगी।

उदाहरण के लिए मान लीजिए अगर रमेश 40 साल का व्यक्ति है जो सालाना 5 लाख रुपए कमाता है। इसमें से वो अपने पर्सनल खर्चों पर 1 लाख 30 हजार रुपए खर्च करता है। बाकी 3 लाख 70 रुपए परिवार पर खर्च करता है। यहां 3 लाख 70 हजार रमेश की इकोनॉमिक वैल्यू होगी। यानी, उसके न होने पर भी उसके परिवार को सालाना 3 लाख 70 हजार रुपए के जरूरत होगी। आपको इस जरूरत के हिसाब से ही टर्म इंश्योरेंस कवर चुनना चाहिए।

इनकम रिप्लेसमेंट वैल्यू कॉन्सेप्ट
यह आपके जीवन बीमा कवरेज की जरूरतों की गणना करने का एक मूल तरीका है और यह आपकी सालाना आय पर आधारित है। इसके अनुसार आवश्यक बीमा कवरेज अपनी सालाना आय और रिटायरमेंट के बचे सालों का गुणक होता है। यानी आवश्यक बीमा कवरेज= सालाना आय x सेवानिवृत्ति के लिए सालों की संख्या।

उदाहरण के लिए मान लीजिए आपकी सालाना इनकम 4 लाख रुपए है और आपकी उम्र 30 साल है और 30 साल बाद यानी 60 साल की उम्र में रिटायर होने की योजना बना रहे हैं। इस मामले में, आपका आवश्यक जीवन बीमा कवरेज 1.2 करोड़ रुपए (4,00,000 x 30) होना चाहिए।

अंडर राइटर्स थंब रूल
इसके तहत, बीमित राशि का योग आयु के आधार पर सालाना इनकम के गुणकों में होना चाहिए। उदाहरण के लिए, 20 से 30 साल की उम्र के व्यक्तियों के पास उनकी सालाना आय का 25 गुना जीवन बीमा कवरेज होना चाहिए। जबकि, 40-50 साल से अधिक आयु वालों के पास उनकी सालाना आय का 20 गुना जीवन बीमा कवरेज होना चाहिए।

अगर लोन ले रखा है तो उसका भी ध्यान रखें
अगर आपके ऊपर लोन या कर्ज है तो इसे भी ध्यान में रखना चाहिए। ऐसे में अगर आपने 50 लाख का होम लोन ले रखा है तो टर्म इंश्योरेंस कवर में इसे भी शामिल करना चाहिए। अगर आपके ऊपर और भी लोन या कर्ज हैं तो उन्हें भी ध्यान में रखकर इंश्योरेंस कवर तय करना चाहिए।

टर्म इंश्योरेंस क्या है?
टर्म इंश्योरेंस एक तरह की जीवन बीमा पॉलिसी है जो एक तय अवधि के लिए आपको कवरेज देता है। यदि पॉलिसी की अवधि के दौरान बीमित व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है तो कवर की राशि नॉमिनी को दी जाती है। यह परिवार को बीमित व्यक्ति की मृत्यु होने पर वित्तीय सुरक्षा देती करती है।