उम्मीद में निवेश:जेट एयरवेज की उड़ान अभी बाकी है, पर शेयरों में उछाल, अपर सर्किट के साथ 79 पर पहुंचा

मुंबई10 महीने पहले
  • मंगलवार को अपर सर्किट लगने के बाद जेट के शेयरों में बुधवार को भी अपर सर्किट लगा
  • एक महीने पहले यह 47 रुपए पर था। तब से यह 50 पर्सेंट और एक हफ्ते में 18 पर्सेंट बढ़ा

जेट एयरवेज की अभी उड़ान शुरू नहीं हुई है। पर इसके शेयर उड़ने लगे हैं। यानी शेयरों में अच्छी खासी बढ़त देखने को मिल रही है। मंगलवार को अपर सर्किट लगने के बाद इसमें बुधवार को भी अपर सर्किट लगा। 4.96% की बढ़त के साथ यह 79.35 रुपए पर पहुंच गया।

अगले साल गर्मी तक उड़ने की संभावना

विश्लेषक कहते हैं कि दरअसल जेट की अगले साल गर्मी तक उड़ान को लेकर जो संभावना है, उसी पर शेयरों में खरीदारी हो रही है। निवेशक जमकर खरीदारी कर रहे हैं। यहां तक कि बुधवार को जेट एयरवेज के शेयरों में एक भी शेयर की बिक्री नहीं रही। पूरी तरह से खरीदारी ही रही। जेट एयरवेज के शेयरों की बात करें तो मार्च में यह 13 रुपए पर कारोबार कर रहा था। तब से अब तक 6 गुना बढ़ चुका है।

एक महीने में 50 पर्सेंट बढ़ा शेयर

एक महीने पहले यह 47 रुपए पर था। तब से इसमें 50 पर्सेंट से ज्यादा बढ़ा है। एक हफ्ते में यह 67 से करीबन 18 पर्सेंट बढ़ा है। इसका मार्केट कैप 901 करोड़ रुपए हो गया है। दिसंबर 2018 के बाद से इस कंपनी ने अपना वित्तीय रिजल्ट पेश नहीं किया है। दिसंबर 2018 में इसका घाटा 587 करोड़ रुपए का रहा है। कंपनी घाटे और पैसे न होने की वजह से बंद हो गई। इसके मालिक नरेश गोयल को बोर्ड से हटा दिया गया। जेट एयरवेज पूरी तरह से जमीन पर आ गई। इसके स्लॉट किसी और कंपनी को दिए गए।

कैलरॉक कैपिटल ने जीता था बोली

पर एक बार इसमें फिर उम्मीद जगी, जब इसी साल कैलरॉक कैपिटल और अन्य मिलकर इसकी बोली लगाई। जेट एयरवेज के नए मालिक कंपनी को स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टेड रखेंगे। बता दें कि नए कंसोर्टियम ने 1,000 करोड़ रुपए का बिड किया था, जिसके बाद उसे जेट एयरवेज को दे दिया गया। हालांकि अन्य पार्टी एफएसटीसी, बिग चार्टर और इंपीरियल कैपिटल ने भी जेट के लिए ऑफर किया था, पर उन कंपनियों का ऑफर प्राइस काफी कम था।

3 नवंबर को कैलरॉक कैपिटल- मुरारी लाल जालान कंसोर्टियम ने 150 करोड़ रुपए के परफार्मेंस सिक्योरिटीज बांड को सबमिट किया था।

17 हजार कर्मचारी थे

बता दें कि साल 2019 में जेट एयरवेज बंद होने के बाद इसके करीब 17 हजार कर्मचारी सड़कों पर आ गए थे। जेट के बेड़े में एक समय 120 विमान थे, जो इसके बंद होने के समय सिर्फ 16 रह गए थे। फंड की समस्या की वजह से कंपनी को संचालन बंद करना पड़ा। कंपनी जून 2019 में कॉर्पोरेट दिवाला समाधान प्रक्रिया के तहत चली गई। इसका घाटा मार्च 2019 को समाप्त वित्त वर्ष में बढ़कर 5,535.75 करोड़ रुपए हो गया।

सबसे बेहतर रिटर्न जेट एयरवेज के शेयर का

यह शेयर दुनिया में सबसे अच्छा रिटर्न देने वाला एयरलाइंस शेयर बन गया है। जेट के शेयरों ने इस साल निवेशकों को 150% का रिटर्न दिया है। खास बात यह है कि कंपनी ने आखिरी उड़ान पिछले साल अप्रैल में भरी थी। रिटेल इन्वेस्टर्स को उम्मीद है कि कंपनी रिस्ट्रक्चरिंग के जरिए बैंकरप्सी से बाहर आने में सफल हो सकती है। निवेशक इसी उम्मीद से खरीदारी कर रहे हैं।

यस बैंक का शेयर भी भागा

उधर पिछले दो दिनों से यस बैंक के शेयरों ने भी उड़ान भरी है। इसका शेयर कल 5 पर्सेंट बढ़ने के बाद आज 10 पर्सेंट बढ़ गया है। यह 19 रुपए के पार कारोबार कर रहा है। इसका मार्केट कैप 47,754 करोड़ रुपए हो गया है। इसकी रेटिंग अपग्रेड होने की खबर से शेयरों में तेजी है। यह शेयर भी निवेशकों को भारी घाटा दिया है। पिछले साल यह 400 रुपए पर कारोबार कर रहा था। एक महीने में इसमें 50 पर्सेंट का उछाल आया है। एक हफ्ते में 25 पर्सेंट बढ़ा है।