पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Business
  • JM Financial Vice President Settles Insider Trading With SEBI For Rs 15 Lakh

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नियमों का उल्लंघन:जे एम फाइनेंशियल के वाइस प्रेसीडेंट ने इनसाइडर ट्रेडिंग को सेबी के साथ 15 लाख रुपए में किया सेटलमेंट

मुंबई4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जे एम फाइनेंशियल के कर्मचारी का सेटलमेंट आवेदन सेबी ने 8 जून को स्वीकार किया
  • सेबी ने 2013 से 2016 के बीच मामले की जांच की थी
  • सेबी ने इस मामले में कारण बताओ नोटिस जारी किया

जे एम फाइनेंशियल के वाइस प्रेसीडेंट अतुल सराओगी ने 7 साल पुराने एक मामले में सेबी के साथ सेटलमेंट कर लिया है। इसके एवज में सराओगी ने सेबी को 15 लाख 5 हजार रुपए सेटलमेंट चार्ज के रूप में चुकाया। यह जानकारी सेबी ने गुरुवार को एक ऑर्डर में दी।

ऑफ मार्केट में कारोबार करने का आरोप

ऑर्डर के मुताबिक, इस मामले में सेबी ने जे एम फाइनेंशियल लिमिटेड के शेयरों में एक नवंबर 2013 से 31 दिसंबर 2016 के बीच अतुल सराओगी और उनकी सास विमला देवी कलंत्री की जांच की। जांच के दौरान सेबी ने पाया आवेदनकर्ता जे एम फाइनेंशियल के शेयरों में ऑफ मार्केट कारोबार किया। यह कारोबार नियमों के विपरीत था। इसमें जो खुलासे करने थे, वह खुलासा नहीं किया गया था।

41,246 शेयरों को किया गया ट्रांसफर

सेबी के मुताबिक जे एम फाइनेंशियल के कुल 41,246 शेयरों को ऑफ मार्केट में विमला देवी कलंत्री को 3 दिसंबर 2013 को ट्रांसफर किया गया। फिर यह शेयर विमला देवी कलंत्री ने 21 अक्टूबर 2014 को ट्रांसफर कर दिया। जांच के दौरान जे एम फाइनेंशियल ने 4 अक्टूबर 2018 को सेबी को बताया कि आवेदनकर्ता कंपनी में वाइस प्रेसीडेंट है।

वाइस प्रेसीडेंट ने नहीं लिया क्लीयरेंस

सेबी ने जांच में पाया कि सराओगी ने 3 दिसंबर 2013 और 21 अक्टूबर 2014 को 41,246 इक्विटी शेयरों को विमलादेवी को ट्रांसफर किया। सराओगी ने ट्रांसफर से पहले जे एम फाइनेंशियल से कोई क्लीयरेंस नहीं लिया। सेबी ने जांच के बाद जब सराओगी को कारण बताओ नोटिस जारी किया तो सराओगी ने इस मामले में सेटलमेंट फाइल किया।

सेटलमेंट फाइल होने के बाद सेबी ने इस मामले को 8 जून 2020 को स्वीकार किया। इसके बाद सेबी ने इस मामले में 15 लाख 5 हजार रुपए का सेटलमेंट चार्ज लगाया। इस चार्ज को सराओगी ने 10 जुलाई को भर दिया।

सोनाटा सॉफ्टवेयर में 3 लाख रुपए का सेटलमेंट चार्ज

उधर एक दूसरे सेटलमेंट के मामले में सेबी ने सोनाटा सॉफ्टवेयर में इनसाइडर ट्रेडिंग में मोहम्मद अजमल की जांच की थी। अजमल ने इस मामले में 3 लाख रुपए भरकर मामले का सेटलमेंंट कर लिया है। अजमल ने सोनाटा सॉफ्टवेयर के शेयरों में जुलाई-सितंबर 2018 के बीच शेयरों की खरीद फरोख्त की। इस मामले में उन्होंने नियमों का उल्लंघन किया। इसके बाद सेबी ने जांच की। जिसमें अंत में तीन लाख रुपए का सेटलमेंट चार्ज लगाकर मामले को बंद कर दिया गया। 

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर के बड़े बुजुर्गों की देखभाल व उनका मान-सम्मान करना, आपके भाग्य में वृद्धि करेगा। राजनीतिक संपर्क आपके लिए शुभ अवसर प्रदान करेंगे। आज का दिन विशेष तौर पर महिलाओं के लिए बहुत ही शुभ है। उनकी ...

और पढ़ें