• Hindi News
  • Business
  • LIC Housing Finance Limited Home Loan Interest Rate Hike | Important Updates

होम लोन लेना हुआ महंगा:LIC हाउसिंग फाइनेंस ने ब्याज दरों में बढ़ोतरी की, अब 7.50% पर मिलेगा लोन

नई दिल्ली5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

LIC हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड ने होम लोन की ब्याज दरों में 60 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोतरी की है। इस फैसले के बाद से अब होम लोन पर 7.50% के हिसाब से ब्याज चुकाना होगा। नई ब्याज दर 20 जून से लागू हो गई हैं। इससे पहले SBI, ICICI और HDFC सहित अन्य बैंक भी होम लोन की ब्याज दरों में बढ़ोतरी कर चुके हैं।

यहां समझें अब कितना ज्यादा ब्याज और किस्त देनी होगी

लोन अमाउंट (रु. में)अवधिब्याज दर (% में)किस्त (EMI)कुल ब्याज (रु. में)कुल रकम जो चुकानी होगी (रु. में)
10 लाख20 साल6.907,6938.46 लाख18.46 लाख
10 लाख20 साल7.508,0569.33 लाख19.33 लाख

यहां समझें अब कितना ज्यादा ब्याज और किस्त देनी होगी

लोन अमाउंट (रु. में)अवधिब्याज दर (% में)किस्त (EMI रु. में)कुल ब्याज (रु. में)कुल रकम जो चुकानी होगी (रु. में)
20 लाख20 साल6.9015,38616.92 लाख36.92 लाख
20 लाख20 साल7.5016,11218.66 लाख38.66 लाख

नोट: यह कैलकुलेशन LIC हाउसिंग फाइनेंस के EMI कैलकुलेटर पर आधारित है।

अन्य बैंक किस ब्याज दर पर दे रहे लोन

बैंकब्याज दर (%)
कोटक महिंद्रा7.50
SBI7.55
ICICI7.60
HDFC बैंक7.55
एक्सिस7.60
यूनियन बैंक ऑफ इंडिया7.40
पंजाब नेशनल बैंक7.40
बैंक ऑफ बड़ौदा7.45

होम लोन लेते समय इन 4 बातों का रखें ध्यान

कम रकम के लिए करें अप्लाई
कम लोन-टु-वैल्‍यू (LTV) रेश्यो आपके लिए लोन लेना आसान कर सकता है। इसका मतलब है कि घर खरीदने के लिए आपको अपना कॉन्ट्रिब्‍यूशन ज्‍यादा रखना होगा। कम LTV रेश्यो चुनने से प्रॉपर्टी में खरीदार का कॉन्ट्रिब्‍यूशन बढ़ जाता है। इससे बैंक का जोखिम कम होता है। इससे आपको लोन मिलने के चांस बढ़ जाएंगे। आमतौर पर बैंक प्रॉपर्टी की कीमत का 75-90% तक का लोन देता है। ऐसे में शेष राशि को लोन लेने वाले को डाउनपेमेंट या मार्जिन कॉन्ट्रिब्यूशन के रूप में चुकाना होता है। इसके बिना आपको लोन नहीं मिलेगा।

फिक्स ऑब्लिगेशन टु इनकम रेश्यो का रखें ध्यान
जब हम बैंक में लोन के लिए अप्लाई करते हैं तो बैंक फिक्स ऑब्लिगेशन टु इनकम रेश्यो (FOIR) भी देखता है। इससे पता चलता है कि आप हर महीने लोन की कितने रुपए तक की किस्त दे सकते हैं। FOIR से पता चलता है कि आपकी पहले से जा रही EMI, घर का कि‍राया, बीमा पॉलि‍सी और अन्‍य भुगतान मौजूदा आय का कि‍तना फीसदी है। अगर लोन दाता को आपके ये सभी खर्च आपकी सैलरी के 50% तक लगते हैं तो वह आपकी लोन एप्‍लि‍केशन को रि‍जेक्‍ट कर सकता है। इसीलिए यह ध्यान भी रखें कि लोन की रकम इससे ज्यादा न हो।

प्री-पेमेंट पेनल्टी की जानकारी जरूर लें
कई बैंक समय से पहले लोन अदा करने पर पेनल्टी लगाते हैं। ऐसे में बैंकों से इस बारे में पूरी डिटेल ले लें, क्योंकि समय से पहले लोन चुकाने पर बैंकों को उम्मीद के मुताबिक कम ब्याज मिलता है। ऐसे में उनकी ओर से कुछ टर्म एडं कंडीशन लगाए जाते हैं। इसलिए होम लोन लेते वक्त इस बारे में पूरी जानकारी हासिल कर लें।

संबंधित बैंक से लें लोन
अगर आप होम लोन लेने के बारे में सोच रहे हैं तो उसी बैंक से लें, जहां आपका अकाउंट हो, या जहां से आप फिक्स्ड डिपॉजिट या क्रेडिट कार्ड की सेवा ले रहे हैं, क्योंकि बैंक अपने रेगुलर कस्टमर्स को आसानी से और उचित ब्याज दर पर लोन उपलब्ध कराते हैं।