LIC IPO का पहला दिन:16.2 करोड़ शेयरों में से 10 करोड़ से ज्यादा पर बिडिंग, पॉलिसी होल्डर्स का कोटा करीब 2 गुना भरा

नई दिल्ली2 महीने पहले

LIC IPO को अपने पहले ही दिन बुधवार को बंपर ओपनिंग मिली। देश का अब तक का सबसे बड़ा IPO सुबह 10 बजे सब्सक्रिप्शन के लिए खुला और अब तक ये 64% सब्सक्राइब हो चुका है। पॉलिसी होल्डर्स के लिए रिजर्व किया गया (कुल शेयर्स का 10%) हिस्सा ओवरसब्सक्राइब्ड हो गया। इसका मतलब है कि इस कोटे के तहत 1.9 गुना बोली लगाई जा चुकी है।

16 करोड़ 20 लाख 78 हजार 67 शेयर बिक्री के लिए रखे गए हैं। अब तक 10 करोड़ से ज्यादा शेयर्स के लिए बोली मिल चुकी है। कर्मचारियों के लिए रिजर्व हिस्सा भी पूरा सब्सक्राइब्ड हो चुका है।वहीं रिटेल निवेशकों का 57% हिस्सा सब्सक्राइब हो चुका है। निवेशकों को 9 मई तक पैसा लगाने का मौका मिलेगा।

आज से खुला LIC का IPO, 9 मई तक कर सकेंगे अप्लाय; यहां जानें पूरी प्रोसेस

कंपनी के शेयर IPO के बंद होने के एक सप्ताह बाद 17 मई को शेयर बाजारों में लिस्टेड होंगे। केंद्र सरकार को LIC के IPO से 21,000 करोड़ रुपए मिलने की उम्मीद है। IPO के तहत सरकार कंपनी में अपने 22.13 करोड़ शेयरों की बिक्री कर रही है। इसके लिए मूल्य दायरा 902 से 949 रुपए प्रति शेयर तय किया गया है।

आपके पास है LIC की पॉलिसी तो आपको सस्ते में मिलेंगे शेयर, यहां जानें इससे जुड़ी जरूरी बातें

IPO में पैसा लगाने के लिए डीमैट खाता होना जरूरी
सेबी नियमों के मुताबिक किसी भी कंपनी के इक्विटी शेयर केवल डीमैट रूप में ही जारी होते हैं। इसलिए कोई भी, चाहे पॉलिसी होल्डर्स हो या रिटेल निवेशक, उसके पास एक डीमैट खाता होना जरूरी है।

पैसे लगाएं या नहीं और क्या सभी को शेयर अलॉट होंगे? जानिए LIC IPO से जुड़े हर सवाल का जवाब

LIC के IPO में पैसे लगाए या नहीं?
ज्यादातर मार्केट एनालिस्ट इसमें पैसा लगाने की सलाह दे रहे हैं। IPO में शॉर्ट टर्म और लॉन्ग टर्म दोनों में पैसा बन सकता है। हालांकि एनालिस्ट इसमें लॉन्ग टर्म तक बने रहने की सलाह दे रहे हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि इंश्योरेंस कंपनियों का बिजनेस मॉडल लॉन्ग टर्म का होता है। अगर आप पॉलिसी धारक कोटे में अप्लाई करते हैं, तो आपको पहले ही 60 रुपए का डिस्काउंट मिल जाएगा और अगर शेयर 949 रुपए पर भी लिस्ट होता है, तब भी आपको प्रति शेयर 60 रुपए का फायदा मिलेगा।

कहानी LIC की:एक समय बैलगाड़ी से घर-घर पहुंचते थे एजेंट, आज 65% हिस्सेदारी के साथ देश की सबसे बड़ी इंश्योरेंस कंपनी