• Hindi News
  • Business
  • LIC IPO Investment Update: Life Insurance Policyholders Get Discount On Shares

LIC के IPO में निवेश:आपके पास है LIC की पॉलिसी तो आपको सस्ते में मिलेंगे शेयर, यहां जानें इससे जुड़ी जरूरी बातें

नई दिल्ली2 महीने पहले

लाइफ इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (LIC) का IPO 4 मई को खुलेगा। ये देश का सबसे बड़ा IPO होगा। IPO के जरिए सरकार LIC की 3.5% हिस्सेदारी बेचने जा रही है। इससे 21,000 करोड़ रुपए जुटाने की योजना है। अगर आपके पास LIC की पॉलिसी है तो आपको प्रति शेयर 60 रुपए का डिस्काउंट मिलेगा। ऐसे में अगर आपके पास LIC की पॉलिसी है तो हम आपको बता रहे हैं कि IPO में पैसा लगाने पर आपको कैसे और कितना फायदा होगा। इसके अलावा IPO से जुड़े आपके कई सवालों के जवाब भी देंगे।

क्या पॉलिसी होल्डर्स को अलग से फायदा दिया गया है?
हां। DRHP के अनुसार, रिजर्वेशन हिस्से के तहत LIC पॉलिसी होल्डर्स के लिए 10% (2.21 करोड़ शेयर) शेयर रिजर्व रहेगा। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार IPO में पॉलिसीधारकों को 60 रुपए की छूट मिलेगी।

क्या पॉलिसी होल्डर्स का जो हिस्सा रिजर्व है, उसका कोई लॉक-इन पीरियड भी है?
नहीं, रिटेल निवेशकों के लिए कभी कोई लॉक-इन पीरियड नहीं होता है। पॉलिसी होल्डर्स शेयर्स के लिस्ट होने के तुरंत बाद इसे बेच सकते हैं।

इसमें कम से कम कितने पैसे निवेश करने होंगे और पॉलिसीधारकों को कितना फायदा होगा?

  • LIC IPO का प्राइस बैंड 902 से 949 रुपए के बीच है और 15 शेयर का लॉट साइज रखा गया है।
  • अगर आप पॉलिसी धारक कोटे से IPO में अप्लाई करते हैं तो फिर (949-60=889×15= 13,335 रुपए), कम से कम 13,335 रुपए लगाने होंगे।
  • जबकि एक आम निवेशक को अपर प्राइस बैंड के मुताबिक 14,235 रुपए लगाने होंगे।
  • इस तरह से पॉलिसी धारक को एक लॉट IPO के अप्लाई पर कुल 900 रुपए का डिस्काउंट मिलेगा।
  • वहीं अगर आप पॉलिसी धारक कोटे से IPO में लोअर प्राइस बैंड के हिसाब से (902-60=842×15= 12,630 रुपए), कम से कम 12,635 रुपए लगाने होंगे।
  • जबकि आम निवेशक को अपर प्राइस बैंड के मुताबिक 13,530 रुपए लगाने होंगे।

डिस्काउंट मिलने से क्या फायदा होगा? आप पॉलिसी धारक कोटे में अप्लाई करते हैं और आपको अपर प्राइस बैंड के हिसाब से 1 लॉट मिल जाता है। ऐसे में अगर शेयर मार्केट में शेयर 949 रुपए में भी लिस्टेड होता है तब भी आपको प्रति शेयर 60 रुपए का फायदा तो मिलेगा ही। बाकी अगर ये 949 से ऊपर लिस्ट होता है तो वो फायदा अलग मिलेगा। इसके अलावा अगर ये शेयर 60 रुपए तक कम कीमत पर भी लिस्ट होता है तब भी आपको नुकसान नहीं उठाना पड़ेगा।

क्या शेयर खरीदने के लिए पॉलिसी होल्डर्स के पास डीमैट खाता होना जरूरी है?
हां। सेबी नियमों के मुताबिक किसी भी कंपनी के इक्विटी शेयर केवल डीमैट रूप में ही जारी होते हैं। इसलिए कोई भी, चाहे पॉलिसी होल्डर्स हो या रिटेल निवेशक, उसके पास एक डीमैट खाता होना जरूरी है।

क्या कोई पॉलिसी होल्डर्स अपने पति या पत्नी या बेटे या किसी रिश्तेदार के डीमैट खाते से आवेदन कर सकता है?
नहीं, पॉलिसी होल्डर्स के पास उसके नाम पर डीमैट खाता होना चाहिए।

डीमैट खाता कैसे खोलना होगा?
आप इसे दो डिपॉजिटरी के पास खोल सकते हैं। एनएसडीएल और सीडीएसएल। इसे हम डीमैट अकाउंट कहते हैं। इसके बाद आपको किसी ब्रोकरेज हाउस के पास ट्रेडिंग अकाउंट खोलना होगा। हालांकि आप ब्रोकरेज हाउस के पास ट्रेडिंग खाता खोलेंगे तो डीमैट वाला काम वह ब्रोकर ही कर देगा। डीमैट अकाउंट खोलने के लिए PAN, एक बैंक अकाउंट, आपका आइडेंटिटी कार्ड और एड्रेस प्रूफ का डॉक्यूमेंट आपको लगाना होगा।

मेरी एक जॉइंट लाइफ पॉलिसी है। मैं और मेरी पत्नी दोनों रिजर्वेशन के पात्र होंगे या नहीं?
पॉलिसी होल्डर्स रिजर्वेशन हिस्से के तहत इक्विटी शेयर्स के लिए दो में से केवल एक ही आवेदन कर सकता है। ऑफर में बोली लगाने वाले आवेदक (आप या आपके जीवनसाथी) का पैन नंबर पॉलिसी रिकॉर्ड में अपडेट किया जाना चाहिए। आवेदक का अपने नाम पर एक डीमैट खाता होना चाहिए। यदि डीमैट खाता जॉइंट है, तो आवेदक को डीमैट खाता का प्राइमरी होल्डर होना चाहिए।

मेरे पास LIC की एक लैप्स पॉलिसी है। क्या मैं पॉलिसी होल्डर्स रिजर्वेशन के तहत शेयर्स खरीद सकता हूं?
सभी पॉलिसी जो मैच्योरिटी, सरेंडर या पॉलिसी होल्डर्स की मृत्यु होने से LIC के रिकॉर्ड से बाहर नहीं हुई हैं, वे सभी पॉलिसी होल्डर्स रिजर्वेशन हिस्से के तहत पात्र हैं।

सबसे बड़ा IPO होगा
LIC का इश्यू भारतीय शेयर बाजार में अब तक का सबसे बड़ा IPO होगा। सरकार LIC की 3.5% हिस्सेदारी बेचकर 21,000 करोड़ रुपए जुटा सकती है। लिस्ट होने के बाद LIC का मार्केट वैल्यूएशन टॉप कंपनियों को टक्कर देगा। इसके पहले Paytm का इश्यू सबसे बड़ा था और कंपनी ने पिछले साल IPO से 18,300 करोड़ रुपए जुटाए थे।