• Hindi News
  • Business
  • loksabha election 2019, crores on stake on bjp and congress win in lok sabha election

चुनाव नतीजों के दावं पर दस लाख करोड़ / शेयर बाजार का 8 लाख करोड़ और सट्टा बाजार का करीब 2 लाख करोड़ इधर से उधर होगा



loksabha election 2019, crores on stake on bjp and congress win in lok sabha election
X
loksabha election 2019, crores on stake on bjp and congress win in lok sabha election

  • लोकसभा चुनाव के नतीजों पर शेयर और सट्टा बाजार का दस करोड़ रुपए से अधिक दावं पर लगा
  • एग्जिट पोल आने से पहले शेयर मार्केट में भारी उछाल देखने को मिला था

Dainik Bhaskar

May 23, 2019, 07:53 AM IST

मुकेश कौशिक. चुनाव नतीजे से करीब 12 घंटे पहले मनी मार्केट के आपरेटर दिल थाम कर बैठ गए हैं। लोकसभा चुनाव के नतीजों पर शेयर और सट्टा बाजार का 10 लाख करोड़ रुपए से अधिक दांव पर लगा है। नतीजों की सुईं उम्मीद से थोड़ा भी इधर से उधर होने पर शेयर और सट्टा बाजार में तबाही मच सकती है। 

शेयर बाजार पहले ही उछला
एग्जिट पोल आने से पहले ही शेयर मार्केट में शुक्रवार को जोरदार उछाल दिखा। इस दिन निफ्टी में 1400 अंकों का उछाल आया। शनिवार और रविवार को बाजार बंद रहा। रविवार को एग्जिट पोल के नतीजों में मोदी सरकार की वापसी का संकेत आया और सोमवार को मनी मार्केट पूरे उत्साह के साथ खुला। शेयर सूचकांक ने भी 900 अंकों की उछाल दर्ज की। इस तरह सूचकांक कुल 2300 अंकों से ऊपर निकल गया। 

मंगलवार की गिरावट ने निराश किया
बाजार विशेषज्ञों का कहना है कि इतने अंकों के उछाल का मतलब यह है कि शेयर मनी आठ से साढ़े आठ लाख करोड़ रुपए बढ़ गई है। मंगलवार को करीब 400 अंकों की गिरावट ने इस उत्साह में फिर से निवेशकों का दिल कमजोर किया। 

जानकार सट्टा बाजार का आंकड़ा देने से कतरा रहे
दूसरी ओर मनी मार्केट पर निगाह रखने वाले सट्टा बाजार का तय आंकड़ा देने से कतरा रहे हैं। एक अनुमान के अनुसार चुनाव नतीजों को लेकर इंटरनेशनल सट्टा बाजार में करीब 2 लाख करोड़ रुपए लग चुका है। एग्जिट पोल के नतीजों को देखते हुए अधिकांश पैसा मोदी सरकार की वापसी पर ही लगा है। यदि चुनाव नतीजे इसके विपरीत गए तो सट्टा बाजार में कोहराम मच जाएगा। 

एनडीए की सीटें 300 से नीचे रहीं तो बाजार बेअसर रहने का अनुमान
एचडीएफसी सिक्योरिटीज के प्राइवेट क्लाइंट ग्रुप के प्रमुख वीके शर्मा का मानना है कि अगर एनडीए सरकार की वापसी होती है तो शेयर बाजार यहीं का यहीं रहेगा, क्योंकि एग्जिट पोल के पॉजिटिव सेंटीमेंट का असर पहले ही हो चुका है। शेयर मार्केट अब तभी ऊपर जाएगा जब भाजपा 300 के पार जा रही होगी, लेकिन भाजपा की सीटें घटने या बहुमत से बहुत पीछे पहुंचने से मार्केट लुढ़क जाएगा और ऐसे में निवेशकों को भारी नुकसान उठाना पड़ेगा। 

मझोले निवेशकों को मोदी सरकार आने की आस
शेयर बाजार में पैसा लगाने वाले मनीष चोपड़ा ने कहा कि ज्यादातर छोटे और मझोले निवेशकों की आस इस बात पर टिकी है कि मोदी सरकार आएगी और मनी मार्केट मजबूत होगा। लेकिन डर यह है कि अगर इसका उलट हुआ तो सरकार बनाने में अस्थिरता का दौर शुरू होगा और मार्केट को संभलने में कम से एक महीना लग जाएगा, लेकिन तब तक लाखों करोड़ रुपए का नुकसान हो चुका होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले सप्ताह भाजपा मुख्यालय में संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा था कि 17 मई 2014 को सटोरियों के लाखों करोड़ रुपए डूब गए थे। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना