पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Business
  • Mukesh Ambani Health Update; Reliance (RIL) Shares News, M Cap Reduced By 70 Thousand Crores

रिलायंस इंडस्ट्रीज का शेयर 8% टूटा:एमकैप आज 1.09 लाख करोड़ और एक हफ्ते में 1.36 लाख करोड़ घटा

मुंबईएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
ब्रोकरेज हाउसेज मैक्वायरी का कहना है कि रिलायंस का शेयर 1195 तक गिर सकता है।- प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar
ब्रोकरेज हाउसेज मैक्वायरी का कहना है कि रिलायंस का शेयर 1195 तक गिर सकता है।- प्रतीकात्मक फोटो।
  • इसी साल 12 मई को एक दिन में यह शेयर 7% टूटा था
  • मार्च में यह 862 रुपए के निचले स्तर पर पहुंच गया था

देश की सबसे बड़ी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) के शेयरों में आज 8% तक की गिरावट आ गई। साथ ही शेयर अब 1,900 रुपए से भी नीचे पहुंच गया है। यह 1885 रुपए पर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) पर कारोबार कर रहा है।

आज रिलायंस के मार्केट कैपिटलाइजेशन में 1 लाख 9 हजार करोड़ रुपए की कमी आई है। यह 13.89 लाख करोड़ से घटकर 12.80 लाख करोड़ रुपए पर आ गया है। एक हफ्ते में कंपनी का एमकैप 1.36 लाख करोड़ रुपए घटा है। इससे पहले 12 मई को एक दिन में शेयर 7% टूटा था।

शेयर में 42 पर्सेंट गिरावट की आशंका

मैक्वायरी ने आरआईएल के शेयरों में 42 पर्सेंट की गिरावट की रेंटिग दे दी है। इस ब्रोकरेज हाउस ने कहा कि शेयर यहां से अंडर परफार्म करेगा और आगे 1,195 रुपए तक जा सकता है। शुक्रवार के स्तर से यह करीबन 42 पर्सेंट नीचे जाएगा। एडलवाइस और एमके ग्लोबल ने शेयर का लक्ष्य हालांकि 2,105 रुपए और 1,970 रुपए रखा है। दोनों ने इसे होल्ड करने की सलाह दी है।

यह भी पढ़ें-

कुछ ब्रोकरेज हाउस कहते हैं कि फ्यूचर रिटेल की डील और शनिवार को कंपनी के खराब रिजल्ट की वजह से शेयरों पर दबाव है। कुछ ब्रोकरेज हाउस कहते हैं कि रिजल्ट इतना खराब नहीं है कि शेयर 6% टूट जाए।

हिस्सेदारी बिकने से शेयर नई ऊंचाई पर पहुंचा था

वैसे हाल में जियो टेलीकॉम में और रिटेल सेगमेंट में हिस्सेदारी बिकने की वजह से RIL के शेयरों में तेजी बनी हुई थी। जबकि इसके पहले यह शेयर कई सालों तक अंडर परफार्म था। कोरोना की वजह से कंपनी की पहली तिमाही का प्रदर्शन भले अच्छा न रहा हो, लेकिन दूसरी तिमाही में इसने ठीक-ठाक प्रदर्शन किया। दूसरी तिमाही में इसका शुद्ध लाभ 15% घटकर 9,500 करोड़ रुपए रह गया। हालांकि, इसका रेवेन्यू भी 1.48 लाख करोड़ रुपए से घटकर 1.28 लाख करोड़ रुपए रह गया है।

खबरें और भी हैं...