• Hindi News
  • Business
  • Mutual Fund ; Record Investment Of Rs 25,077 Crore In Equity Funds In December

निवेशकों को रास आ रहे इक्विटी म्यूचुअल फंड्स:दिसंबर में इक्विटी फंड्स में 25,077 करोड़ रुपए का रिकॉर्ड निवेश

नई दिल्ली4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बीते दिसंबर में निवेशकों ने इक्विटी म्यूचुअल फंड्स में 25,076.71 करोड़ रुपए निवेश किया। यह म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री के इतिहास में किसी एक महीने में इक्विटी फंड में आया सबसे बड़ा निवेश है। इसी महीने SIP से 11,305 करोड़ रुपए का रिकॉर्ड निवेश भी हुआ।

एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (AMFI) की रिपोर्ट के मुताबिक, बीते महीने इक्विटी फंड्स के अलावा एक्सचेंज ट्रेडेफ फंड्स (ETF) में भी 18,702 करोड़ रुपए का भारी-भरकम निवेश आया। हालांकि, डेट फंड्स में हुई 49,154 करोड़ रुपए की निकासी के चलते दिसंबर में म्यूचुअल फंड कंपनियों का औसत असेट अंडर मैनेजमेंट (AUM) 37.91 लाख करोड़ रुपए रह गया। यह नवंबर में रिकॉर्ड 38.45 लाख करोड़ रुपए था। AMFI के मुताबिक, दिसंबर में 12.54 लाख नए एसआईपी खाते खुले और इनकी कुल संख्या बढ़कर 4.91 करोड़ हो गई। यह नवंबर 2021 में 4.78 करोड़ थी।

बीते साल औसत AUM 22.46% बढ़ा
AMFI के चीफ एक्जीक्यूटिव एनएस वेंकटेश कहते हैं कि बीते साल म्यूचुअल फंड्स में निवेश पसंदीदा जरिए बना है। एनएफओ के जरिए म्यूचुअल फंड में रिकॉर्ड इक्विटी निवेश हुआ। दिसंबर 2020 में म्यूचुअल फंड कंपनियों का औसत AUM 30.96 लाख करोड़ रुपए था, जो बीते दिसंबर में बढ़कर 37.72 करोड़ रुपए हो गया।

SIP का योगदान 11305 करोड़ रुपए
आंकड़ों के अनुसार, AUM दिसंबर के अंत में 37.72 लाख करोड़ रुपए रही, जो नवंबर के अंत में 37.34 लाख करोड़ रुपए थी। मासिक SIP योगदान दिसंबर में 11,305 करोड़ रुपए रहा, जो नवंबर में 11,005 करोड़ रुपए था। साथ ही SIP खातों की संख्या 4.78 करोड़ से बढ़कर 4.91 करोड़ पहुंच गई।

SIP निवेश का पसंदीदा तरीका रहा
AMFI के मुख्य कार्यपालक अधिकारी एन एस वेंकटेश ने कहा कि SIP आम आदमी के लिए निरंतर निवेश और बचत के अनुशासित तरीके का पसंदीदा माध्यम रहा है। यह बढ़ते खातों की संख्या से स्पष्ट है।

AUM में 7 लाख करोड़ का इजाफा
बता दें कि म्यूचुअल फंड कंपनियों ने 2021 में निवेश के साधन के रूप में निवेशकों का भरोसा जीतने के साथ ही अपने AUM में सात लाख करोड़ रुपए का इजाफा किया। भारतीय कंपनियों ने 2021 में इक्विटी और कर्ज के जरिए नौ लाख करोड़ रुपए से अधिक राशि जुटाई।