• Hindi News
  • Business
  • Mutual Funds May Witness Their First Monthly Net Outflows In More Than Four Years As Investors Faces Credit Crunch

एक्सपर्ट्स ने जताई आशंका:इक्विटी म्यूचुअल फंड से जुलाई में हो सकती है सबसे बड़ी मासिक निकासी, टूट सकता है चार साल का रिकॉर्ड

नई दिल्लीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोनावायरस के कारण कैश का संकट होने से बढ़ी निकासी
  • जुलाई महीने में 1 हजार करोड़ रुपए की निकासी का अनुमान

कोरोनावायरस महामारी के कारण पैदा हुए क्रेडिट संकट के चलते जुलाई महीने में इक्विटी म्यूचुअल फंड से निकासी बढ़ सकती है। यदि ऐसा होता है तो मासिक निकासी का चार साल का रिकॉर्ड टूट सकता है।

कोटक महिंद्रा एसेट मैनेजमेंट कंपनी के एमडी और एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड इन इंडिया (AMFI) के चेयरमैन नीलेश शाह का कहना है कि जुलाई में इक्विटी म्यूचुअल फंड से 1 हजार करोड़ रुपए की निकासी हो सकती है। शाह के मुताबिक, यदि ऐसा होता है तो मार्च 2016 के बाद की यह सबसे बड़ी मासिक निकासी होगी। AMFI का जुलाई महीने का डाटा अगले महीने की शुरुआत में जारी होगा।

प्रॉफिट बुकिंग और कैश संकट के लिए बढ़ रही निकासी

शाह का कहना है कि कई लोग शेयर बाजारों में दोबारा उछाल आने के बाद प्रॉफिट बुकिंग के चलते इक्विटी म्यूचुअल फंड से निकासी कर रहे हैं। वहीं कई लोग बैंकों से फाइनेंस नहीं मिलने के कारण कारोबार में पैदा हुए कैश संकट से निपटने के लिए इक्विटी म्यूचुअल फंड की बिक्री कर रहे हैं। शाह के मुताबिक, इक्विटी फंड में ग्रॉस इन-फ्लो बढ़ा है लेकिन निकासी में कमी नहीं आई है। इस कारण जुलाई में नेट आउटफ्लो बढ़ सकता है।

फंड फ्लो में गिरावट शेयर बाजारों के लिए चेतावनी

फंड फ्लो में आई यह गिरावट 1.9 ट्रिलियन डॉलर की वैल्यू वाले भारतीय शेयर बाजारों के लिए चेतावनी है। भारतीय शेयर बाजार पिछले अनुमानों से सबक लेते हुए अपने मार्च के निम्नतम स्तर से 40 फीसदी बढ़ चुका है। घरेलू निवेश लगातार खरीदारी कर रहे हैं, वहीं विदेशी निवेशकों ने अब तक रिकॉर्ड 8.4 बिलियन डॉलर की निकासी की है। यदि जुलाई में निकासी का ट्रेंड शुरू हो जाता है कि भविष्य में इस समस्या से निपटने के लिए फंड उपलब्ध नहीं होगा।

शेयर बाजार में तेजी से बढ़ी निकासी

चेन्नई की सुंदरम एसेट मैनेजमेंट कंपनी के एमडी सुनील सुब्रमण्यम का मानना है कि इस महीने में जब से बाजार में तेजी आई है, तभी से म्यूचुअल फंड से निकासी में बढ़ी है। सुनील के मुताबिक, कुछ निवेशक बाजारों में तेजी को भुना रहे हैं। चेन्नई के प्राइम इन्वेस्टर डॉट इन की को-फाउंडर विद्या बाला का कहना है कि इस अनिश्चित समय में निवेशकों को पैसे की जरूरत है। ऐसे में बाजार के अच्छे रहने के बावजूद निवेश प्रॉफिट बुक कर रहे हैं। जुलाई में अब तक बीएसई में 9 फीसदी तक का उछाल आ गया है।

खबरें और भी हैं...