• Hindi News
  • Business
  • Newly Listed Companies Add Rs 3.63 Lakh Crore To Market Cap, Zomato Contributes Rs 1 Lakh Crore, LIC , Devyani, Initial Public Offer

नई कंपनियों का जलवा:नई लिस्टेड कंपनियों ने मार्केट कैप में 3.63 लाख करोड़ रुपए जोड़ा, जोमैटो का 1 लाख करोड़ का योगदान

मुंबई2 महीने पहलेलेखक: अजीत सिंह
  • कॉपी लिंक
  • चार IPO इस हफ्ते बंद हुए हैं जबकि चार पिछले हफ्ते बंद हुए थे
  • मैक्रोटेक दूसरे नंबर पर है। इसका मार्केट कैप 38,731 करोड़ है

इस साल जनवरी के बाद से शेयर बाजार में लिस्ट हुई नई कंपनियों का कुल मार्केट कैप 3.63 लाख करोड़ रुपए रहा है। इसमें अकेले जोमैटो का 1.06 लाख करोड़ रुपए का योगदान है। आज बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) में लिस्टेड कुल कंपनियों का मार्केट कैप 238.49 लाख करोड़ रुपए रहा है।

28 नई कंपनियां हुई हैं लिस्ट

आंकड़ों के मुताबिक, जनवरी से अब तक कुल 28 कंपनियां बाजार में लिस्ट हुई हैं। जबकि अगले हफ्ते 8 और कंपनियां लिस्ट होंगी। इसमें चार कंपनियों के IPO पिछले हफ्ते बंद हुए थे और चार के IPO इस हफ्ते बंद हुए हैं। इन 8 कंपनियों का कुल संभावित मार्केट कैप 50 हजार करोड़ रुपए के करीब हो सकता है। इस तरह से BSE के कुल मार्केट कैप में नई लिस्टेड कंपनियों का योगदान 4 लाख करोड़ रुपए का हो सकता है।

जोमैटो 1.06 लाख करोड़ के साथ पहले नंबर पर

नई लिस्टेड कंपनियों में जोमैटो 1.06 लाख करोड़ रुपए के साथ पहले नंबर पर है। मैक्रोटेक दूसरे नंबर पर है। इसका मार्केट कैप 38,731 करोड़ रुपए है। तीसरे नंबर पर सरकारी कंपनी इंडियन रेलवे फाइनेंस है। इसका मार्केट कैप 31,037 करोड़ रुपए है। 28,724 करोड़ रुपए के साथ सोना BLW चौथे नंबर पर है जबकि पांचवें पर क्लीन लाइफ साइंस है। इसका मार्केट कैप 16,632 करोड़ रुपए है। GR इंफ्रा छठें नंबर पर है। इसका मार्केट कैप 16 हजार करोड़ रुपए है।

ये 8 कंपनियां होंगी लिस्ट

जो 8 नई कंपनियां लिस्ट होने वाली हैं, उसमें क्रष्णा डायग्नोस्टिक्स, देवयानी इंटरनेशनल, विंडलास बायो, एक्सारो, कार ट्रेड, नुवोको विस्टा, केमप्लास्ट और अप्टस हाउसिंग वैल्यू हैं। इन सभी ने मिलकर 20 हजार करोड़ रुपए बाजार से जुटाया है। इसमें सबसे बड़ा IPO नुवोको विस्टा का रहा है। इसका साइज 5 हजार करोड़ रुपए का रहा है।

जनवरी से मार्च के बीच 17 कंपनियां लिस्ट हुई हैं

जनवरी से मार्च के दौरान कुल 17 कंपनियां लिस्ट हुई थीं। इनका मार्केट कैप 1.14 लाख करोड़ रुपए था। जबकि नए वित्त वर्ष यानी अप्रैल से लेकर अब तक कुल 11 कंपनियां लिस्ट हुई हैं। इनका मार्केट कैप 2.49 लाख करोड़ रुपए रहा है। इसमें सबसे कम मार्केट कैप डोडला डेयरी का रहा है जो 3,534 करोड़ रुपए रहा है।

पेटीएम के आने से और बढ़ेगा मार्केट कैप

बाजार के जानकारों का मानना है कि मार्केट कैप में पेटीएम के आने से और बढ़त होगी। पेटीएम 16,600 करोड़ रुपए का इश्यू लेकर आ रही है। ऐसे में बाजार मेँ इसकी एंट्री बहुत जबरदस्त हो सकती है। साथ ही इसके शेयर का भाव 3,500 रुपए हो सकता है। हालांकि यह वित्त वर्ष भारतीय बाजार के लिए एक ऐतिहासिक और रिकॉर्ड वित्त वर्ष हो सकता है।

इस साल ज्यादा कंपनियां लिस्ट होंगी

ऐेसा इसलिए क्योंकि एक तो बड़ी-बड़ी कंपनियां लिस्ट हो रही हैं साथ ही इस साल ज्यादा कंपनियां लिस्ट होंगी। अभी तक बाजार में 40 के करीब कंपनियां आई हैं और इन्होंने 60 हजार करोड़ रुपए के करीब रकम जुटाई है। देखने वाली बात तब होगी जब एलआईसी का IPO आएगा। इसके आने से मार्केट कैप पर तो असर होगा साथ ही करोड़ों की संख्या में नए डीमैट अकाउंट भी खुलेंगे।