पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

आरबीआई का तोहफा:अब सोना गिरवी रखने पर आपको मिलेगा 15% ज्यादा पैसा, 31 मार्च 2021 तक उठा सकते हैं छूट का लाभ

नई दिल्ली3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आरबीआई ने बैंकों को 90 फीसदी तक गोल्ड लोन देने की मंजूरी दी
  • गोल्ड लोन देने वाली एनबीएफसी को नहीं मिलेगा फैसले का फायदा

कोविड-19 महामारी को देखते हुए भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने सोना गिरवी रखकर लोन लेने वालों को बड़ा तोहफा दिया है। आरबीआई ने गोल्ड ज्वैलरी के बदले उसके मूल्य के 90 प्रतिशत तक लोन देने की वाणिज्यिक बैंकों को मंजूरी दी है। मौजूदा नियमों के अनुसार, गोल्ड ज्वैलरी पर बैंक उसके मूल्य के 75 फीसदी तक ऋण दे सकते हैं। आरबीआई ने अब यह सीमा बढ़ाकर 90 प्रतिशत करने का फैसला किया है। आरबीआई के इस फैसले का गोल्ड लोन देने वाली एनबीएफसी पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

31 मार्च 2021 तक मिलेगा लाभ

केंद्रीय बैंक ने मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक के बाद जारी विकास एवं नियामक नीति संबंधी बयान में कहा है कि आम गृहस्थों, नए उद्यमियों और छोटे कारोबारियों पर कोविड-19 के आर्थिक प्रभाव को कम करने के उद्देश्य से गोल्ड ज्वैलरी के बदले दिए जाने वाले गैर-कृषि लोन की सीमा मौजूदा 75 प्रतिशत से बढ़ाकर मूल्य का 90 प्रतिशत करने का फैसला किया गया है। यह छूट 31 मार्च 2021 तक उपलब्ध होगी। आरबीआई की ओर से जारी दिशा-निर्देशों के मुताबिक, 01 अप्रैल 2021 से गोल्ड ज्वैलरी पर दिए जाने वाले नए ऋण की सीमा फिर उसके मूल्य के 75 प्रतिशत के बराबर रह जाएगी।

आम आदमी को ऐसे मिलेगा लाभ

कोविड-19 के कारण बड़ी संख्या में लोगों के सामने आर्थिक संकट पैदा हो गया है। इससे निपटने के लिए आम आदमी घर में रखी गोल्ड ज्वैलरी पर लोन ले रहा है। अभी तक यानी 6 अगस्त तक 1 लाख के गोल्ड पर 75 हजार रुपए का लोन मिल रहा है। आरबीआई के फैसले के बाद कल यानी 7 अगस्त से 1 लाख के गोल्ड पर 90 हजार रुपए का लोन मिलेगा। यानी अब 1 लाख रुपए के गोल्ड पर 15 हजार रुपए का अतिरिक्त लोन मिल जाएगा। आरबीआई के इस फैसले से आम आदमी को ज्यादा लोन के लिए कम गोल्ड गिरवी रखना होगा।

गोल्ड लोन देने वाले 10 प्रमुख बैंक/एनबीएफसी की ब्याज दरें

बैंक/एनबीएफसीब्याज दर
मुथूट फाइनेंस12 से 26%
आईआईएफएल9.24 से 24%
एचडीएफसी बैंक11 से 16%
आईसीआईसीआई बैंक11 से 19.76%
केनरा बैंक9.85 से 9.95%
एक्सिस बैंक14%
मन्नापुरम फाइनेंस12 से 29%
फेडरल बैंक9.50%
बैंक ऑफ बड़ौदाएमसीएलआर आधारित
एसबीआई9.15%

आरबीआई के फैसले से बैंकिंग सेक्टर के शेयरों में तेजी

आरबीआई के गोल्ड लोन की राशि बढ़ाने के फैसले से बैंकिंग सेक्टर के शेयरों में तेजी दर्ज की गई है। आरबीआई की घोषणा के बाद बीएसई बैंकेक्स में 500 से ज्यादा अंकों की बढ़त दर्ज की गई और यह 24,930.76 अंकों तक पहुंच गया। हालांकि, कुछ देर बाद ही यह नीचे आ गया। दोपहर 01.37 बजे बीएसई बैंकेक्स 320.04 अंकों की तेजी के साथ 24,750.09 अंकों पर कारोबार कर रहा है।

बीएसई में बैंकिंग सेक्टर का हाल

बैंकबढ़त
सिटी यूनियन बैंक2.58%
आईसीआईसीआई बैंक2.13%
एचडीएफसी बैंक1.98%
कोटक बैंक1.72%
इंडसइंड बैंक0.85%
एसबीआई0.76%
फेडरल बैंक0.38%
आरबीएल बैंक0.31%
एक्सिस बैंक0.01%

गोल्ड लोन देने वाली कंपनियों के शेयरों में मिलाजुला रुख

आरबीआई के फैसले का लाभ नहीं मिलने से गोल्ड लोन देने वाली एनबीएफसी के शेयरों में मिलाजुला रुख देखने को मिला है। गोल्ड लोन देने वाली प्रमुख एनबीएफसी मुथूट फाइनेंस के शेयर 2.37 फीसदी की गिरावट के साथ 1227.55 रुपए प्रति शेयर पर कारोबार कर रहे हैं। वहीं मन्नाप्पुरम फाइनेंस लिमिटेड के शेयर 0.60 फीसदी की तेजी के साथ 160.20 रुपए प्रति शेयर पर कारोबार कर रहे हैं। आईआईएफएल फाइनेंस लिमिटेड के शेयर 2.76 फीसदी की तेजी के साथ 70.75 रुपए प्रति शेयर पर कारोबार कर रहे हैं।

आरबीआई एमपीसी के फैसलों से जुड़ी अन्य खबरें

आरबीआई की नई पहल:बैंक खाते पर कैश या ओवरड्राफ्ट की सुविधा लेने वाले ग्राहक नहीं खुलवा सकेंगे करंट अकाउंट, धोखाधड़ी पर कसेगी लगाम

आरबीआई एमपीसी का फैसला:नीतिगत दरों में कोई बदलाव नहीं, रेपो रेट 4% पर बरकरार, नाबार्ड-एनएचबी को 10 हजार करोड़ की अतिरिक्त लिक्विडिटी

आरबीआई के फैसले का असर:दरों में कटौती न होने से डेट म्यूचुअल फंड के निवेशकों को होगा फायदा, अक्टूबर तक कर सकते हैं इंतजार​​​​​​​

लोन नहीं चुका पाने वालों को राहत:​​​​​​​स्ट्रेस्ड लोन को एनपीए घोषित किए बिना उसकी रीस्ट्र्रक्चरिंग कर सकेंगे बैंक, आरबीआई ने दी सुविधा​​​​​​​

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज समय बेहतरीन रहेगा। दूरदराज रह रहे लोगों से संपर्क बनेंगे। तथा मान प्रतिष्ठा में भी बढ़ोतरी होगी। अप्रत्याशित लाभ की संभावना है, इसलिए हाथ में आए मौके को नजरअंदाज ना करें। नजदीकी रिश्तेदारों...

और पढ़ें