• Hindi News
  • Business
  • On October 15, The Country Will Get A New Gift, 7 New Companies Will Be Launched

आत्मनिर्भर भारत अभियान:15 अक्टूबर को देश को मिलेगी बड़ी सौगात, 7 नई कंपनियां होंगी लॉन्च

नई दिल्ली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

देश के लिए गोला-बारूद से लेकर टैंक और तोप बनाने वाली ऑर्डिनेंस फैक्ट्री बोर्ड (OFB) के कॉरपोरेटाइजेशन के बाद अब 15 अक्टूबर यानी दशहरा के दिन OFB की 7 अलग-अलग कंपनियां का शुभारंभ किया जाएगा। इन कंपनियों को तीनों सेनाओं और अर्धसैनिक बलों से 65,000 करोड़ रुपए के ऑर्डर मिले हैं।

OFB की कुल 41 फैक्ट्रियां और 70 हजार कर्मचारी हैं, जो अब एक बोर्ड की बजाए सात कंपनियों यानि डिफेंस-पीएसयू (पब्लिक सेक्टर यूनिट) से जुड़े होंगे।

41 फैक्ट्रियों को 7 कंपनियों में बांटा
सभी 41 फैक्ट्रियों को जो 7 कंपनियों में बांटा गया है। इनमें गोला-बारूद से जुड़ी म्यूनेशन इंडिया लिमिटेड, राइफल, मशीनगन और तोप जैसे हथियार से जुड़ी एडवांस वैपन एंड इक्युपमेंट लिमिटेड, टैंक, BMP और ट्रक से जुड़ी आर्मर्ड व्हीकल्स ('अवनी'), सैनिकों की यूनिफॉर्म और टेंट से जुड़ी, ट्रूप कम्फर्ट लिमिटेड, ओप्टो-इलेक्ट्रोनिक्स से जुड़ी ऑपटिक्ल लिमिटेड, पैराशूट ग्रुप और एनसेलेरी-ग्रुप से जुड़ी यंत्र सि‌स्टम और लीडर्स इंडिया लिमिटेड हैं।

OFB का उत्पादन बढ़ेगा
रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, कॉरपोरेटाइजेशन से OFB की काम करने की शैली में बदलाव आएगा। इससे कंपनियों को अपने हिसाब से काम करने की आजादी मिलने के साथ साथ काम करने में दक्षता और जवाबहेदी भी तय होगी। इस कदम से OFB का उत्पादन बढ़ेगा और लाभदायक कंपनियां बनेंगी। इसके अलावा मार्केट में कॉम्पिटिशन भी बढ़ेगा।

कर्मचारी नियमों में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा
केंद्र सरकार ने कॉरपोरेटाइजेशन को मंजूरी देते हुए OFB के सभी 70 हजार सिविल-डिफेंस कर्मचारियों को भरोसा दिलाया है कि किसी की भी छंटनी नहीं की जाएगी। सभी 41 फैक्ट्रियों में काम करने वाले ए, बी और सी ग्रुप के कर्मचारियों को दो साल के लिए इन कॉर्पोरेट कंपनियों में डेप्यूटेशन पर भेज दिया जाएगा और कर्मचारी नियमों में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा।

दो साल पहले सरकार ने जब कॉरपोरेटाइजेशन की प्रक्रिया शुरू की थी तो OFB की सभी फैक्ट्रियां हड़ताल पर चली गई थी। लेकिन सरकार के भरोसा दिलाने पर वापस काम पर लौट आई थीं।

खबरें और भी हैं...