वी शेप रिकवरी:2020 में सिर्फ चीन की GDP ग्रोथ पॉजिटिव, दिसंबर क्वॉर्टर में आई 6.5% की उछाल

10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

2020 में कोविड-19 के चलते भारत सहित दुनिया की कमोबेश सभी अर्थव्यवस्थाएं घुटनों पर आ गईं। कोरोनावायरस के कहर के बीच पिछले साल बड़ी इकोनॉमी में सिर्फ चीन की जीडीपी ग्रोथ पॉजिटिव रही। दिसंबर क्वॉर्टर में इसका जीडीपी पिछले दो साल में सबसे ज्यादा 6.5% बढ़ा, लेकिन बाकी बड़ी इकोनॉमी की स्थिति इसके जितनी अच्छी नहीं है।

भारत की ग्रोथ FY21 में शून्य से 7.7% नीचे रहने का अनुमान

जहां तक दुनिया की पांच बड़ी अर्थव्यवस्थाओं की बात है तो अभी अमेरिका, जापान, जर्मनी वगैरह के 2020 के GDP के आंकड़े अभी नहीं आए हैं। पिछले गुरुवार को जारी सरकारी अनुमान के मुताबिक भारत की आर्थिक वृद्धि दर वित्त वर्ष 2020-21 में शून्य से 7.7% नीचे रह सकती है। एशिया की तीसरी और दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी इकोनॉमी की GDP ग्रोथ पिछले वित्त वर्ष में 4.2% रही थी।

US की रियल GDP ग्रोथ शून्य से 4.3% नीचे रह सकती है

IMF के मुताबिक मौजूदा वित्त वर्ष में अमेरिका की रियल जीडीपी ग्रोथ शून्य से 4.3% नीचे रह सकती है। वर्ल्ड बैंक ने अमेरिकी इकोनॉमी की ग्रोथ 2020 में शून्य से 3.6% नीचे रहने का अनुमान दिया है। उसके मुताबिक 2020 में यूरोजोन की ग्रोथ शून्य से 7.4% नीचे रह सकती है। वर्ल्ड बैंक के मुताबिक दुनिया की आर्थिक वृद्धि दर शून्य से 4.3% नीचे रह सकती है।

जर्मनी की रियल ग्रोथ शून्य से 6% नीचे रहने की संभावना

एशिया की दूसरी सबसे बड़ी आर्थिक शक्ति जापान की हालत 2020 में ठीक नहीं रही है। बैंक ऑफ जापान ने मौजूदा वित्त वर्ष में देश की रियल ग्रोथ शून्य से 5.5% कम रहने का अनुमान दिया है। IMF के मुताबिक वित्त वर्ष 2020-21 में जापान की रियल जीडीपी ग्रोथ शून्य से 5.3% कम रह सकती है। उसने जर्मनी की रियल ग्रोथ इससे बदतर यानी शून्य से 6% नीचे रहने का अनुमान दिया है।

खबरें और भी हैं...