रियल एस्टेट मार्केट रिपोर्ट:बीते साल दो तिहाई मकान सर्विस क्लास ने खरीदे, बड़े मकान ज्यादा बिके

नई दिल्लीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

देश के हाउसिंग सेक्टर में बीते वित्त वर्ष नौकरीपेशा लोगों की बदौलत तेजी आई। 2021-22 के दौरान मकानों की कुल खरीदारी में सबसे ज्यादा 68% हिस्सेदारी सर्विस क्लास की रही। 26% हिस्सेदारी के साथ डॉक्टर, वकील और CA जैसे प्रोफेशनल्स दूसरे स्थान पर रहे।

देश के 7 बड़े शहरों में 40 लाख से 1.5 करोड़ तक बिकने वाले 79% मकान
बीते वित्त वर्ष मझोले और बड़े आकार के मकानों की मांग सबसे ज्यादा रही। मंगलवार को जारी रियल एस्टेट सर्विसेज कंपनी एनारॉक की एक रिपोर्ट के मुताबिक, ‘मिड-टु-हाई-एंड’ सेगमेंट के मकानों की डिमांड 79% देखी गई। 38% डिमांड 2-BHK मकानों की रही, जबकि कुल मांग में 3-BHK मकानों की हिस्सेदारी 26% दर्ज की गई। यह रिपोर्ट देश के 7 बड़े शहरों, दिल्ली-NCR, मुंबई महानगर क्षेत्र (MMR), चेन्नई, कोलकाता, बेंगलुरू, हैदराबाद और पुणे में हाउसिंग ट्रेंड्स के आधार पर तैयार की गई है।

बड़े शहरों में हैदराबाद में लग्जरी मकानों की डिमांड सबसे ज्यादा
एनारॉक ग्रुप के चीफ बिजनेस ऑफिसर राहुल फोंडगे ने कहा, ‘चेन्नई और पुणे में मझोले आकार के मकानों की मांग सबसे ज्यादा क्रमश: 60% और 59% रही। दूसरी तरफ देश के IT हब बेंगलुरू में करीब 56% डिमांड हाई-एंड मकानों की निकली। सबसे ज्यादा 17% लग्जरी मकानों की और 8% अल्ट्रा-लग्जरी मकानों की डिमांड हैदराबाद में देखी गई।’

दिल्ली-NCR में 4-BHK मकानों की बिक्री सबसे ज्यादा
रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) में 4-BHK मकानों की बिक्री सबसे ज्यादा 17% हुई। इसके अलावा कुल बिक्री में 16% हिस्सेदारी स्टूडियो कैटेगरी के मकानों की रही। मुंबई में सबसे ज्यादा 46% मकान मिड-रेंज के बिके, जबकि कुल बिक्री में हाई-एंड मकानों की हिस्सेदारी 39% रही। उधर बेंगलुरु में करीब 16% मकान लंबी अवधि के निवेश के नजरिये से खरीदे गए।