पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Business
  • Petrol Diesel May Become Cheaper In The Coming Days, OPEC Plus Countries Will Increase Crude Oil Production

राहत की खबर:आने वाले दिनों में सस्ते हो सकते हैं पेट्रोल डीजल, ओपेक प्लस देश बढ़ाएंगे कच्चे तेल का उत्पादन

नई दिल्ली8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

ओपेक प्लस देशों ने उन 5 देशों में कच्चे तेल के उत्पादन को बढ़ाने की मंजूरी दी है, जिन पर पहले इसको लेकर रोक लगाई गई थी। रविवार को एक बयान में कहा गया कि इराक, कुवैत, रूस, सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात (UAE) अपना उत्पादन बढ़ाएंगे। कुछ दिनों पहले UAE ने उत्पादन बढ़ाने की मांग की थी, जिसके बाद पेट्रोलियम निर्यातक देशों के संगठन में विवाद पैदा हो गया था। इसके बाद समूह की होने वाली बैठक को टाल दिया गया था।

ओपेक प्लस देशों ने अगस्त से ऑयल सप्लाई बढ़ाने का फैसला किया है। इससे आने वाले दिनों में कच्चे तेल की कीमत में कमी आ सकती है। अभी कच्चे तेल की कीमत 75 डॉलर प्रति बैरल के करीब बनी हुई है, इससे पेट्रोल-डीजल के दाम 100 रुपए लीटर के पार निकल गए हैं। देश में लॉकडाउन खुलने से पेट्रोलियम पदार्थों की मांग बढ़ रही है। वहीं प्रोडक्शन लिमिटेड होने के कारण इसी महीने कच्चे तेल का भाव इंटरनेशनल मार्केट में ढ़ाई साल के उच्चतम स्तर पर पहुंच चुका है। 6 जुलाई को ये 78 डॉलर पर पहुंच गया था।

1 करोड़ बैरल की कटौती की गई थी
कोरोना संकट के बीच ओपेक प्लस देशों ने पिछले साल रोजाना आधार पर 1 करोड़ बैरल प्रोडक्शन में कटौती का फैसला किया था। धीरे-धीरे इसमें तेजी आई लेकिन रोजाना आधार पर अभी भी इसमें 58 लाख बैरल की कटौती है। आज की बैठक में फैसला लिया गया कि ओपेक प्लस देश मिलकर हर महीने रोजाना आधार पर 4 लाख बैरल प्रोडक्शन बढ़ाएंगे। इसकी शुरुआत अगस्त महीने से होगी।

सितंबर में अभी के मुकाबले 8 लाख बैरल रोजाना प्रोडक्शन बढ़ेगा। इस कैलकुलेशन के हिसाब से रोजाना आधार पर अक्टूबर में 12 लाख बैरल, नवंबर में 16 लाख बैरल रोजाना और दिसंबर में 20 लाख बैरल प्रोडक्शन रोजाना आधार पर ज्यादा होगा। UAE और सऊदी अरब के बीच सहमति के बाद ही आज प्रोडक्शन बढ़ाने का फैसला किया गया है।

बीते 1 साल में 43 से 73 डॉलर पर आया कच्चा तेल
19 जुलाई 2020 को बच्चे के तेल के भाव 43 डॉलर प्रति बैरल के करीब थे लेकिन उत्पादन घटने और मांग बढ़ने के कारण इसकी कीमतों में लगातार बढ़ोतरी हुई। आज की बात करें तो अभी ये 73 डॉलर के करीब चल रहा है।

हम अपनी जरूरत का 85% आयात करते हैं
हम अपनी जरूरत का 85% से ज्यादा कच्चा तेल बाहर से खरीदते हैं। इसकी कीमत हमें डॉलर में चुकानी होती है। ऐसे में कच्चे तेल की कीमत बढ़ने और डॉलर मके मजबूत होने से पेट्रोल-डीजल महंगे होने लगते हैं। कच्चा तेल बैरल में आता है। एक बैरल यानी 159 लीटर बच्चा तेल होता है।

अगस्त में 2 से 3 रुपए तक सस्ते हो सकते हैं पेट्रोल-डीजल
IIFL सिक्योरिटीज के वाइस प्रेसिडेंट (कमोडिटी एंड करेंसी) कहते हैं कि कच्चे तेल का उत्पादन बढ़ने से अगस्त में इसका दाम कम होकर 65 डॉलर प्रति बैरल तक आ सकते हैं। इससे पेट्रोल-डीजल के दाम में 2 से 3 रुपए तक की कमी आ सकती है।

21 राज्यों में पेट्रोल और 4 राज्यों में डीजल 100 के पार
देश के 21 राज्यों में पेट्रोल 100 रुपए प्रति लीटर पर पहुंच गया है। मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, कर्नाटक, मणिपुर, तेलंगाना, पंजाब, सिक्किम, उड़ीसा, केरल, दिल्ली, तमिलनाडु और राजस्थान के सभी जिलों में पेट्रोल 100 रुपए पर पहुंचा गया है। वहीं जम्मू-कश्मीर, चंडीगढ़, पश्चिम बंगाल, पांडिचेरी, त्रिपुरा, नागालैंड और लद्दाख में भी कई जगहों पर पेट्रोल 100 रुपए लीटर के पार निकल गया है। वहीं डीजल की बात करें तो ये उड़ीसा, आंध्र प्रदेश, राजस्थान और मध्य प्रदेश में 100 रुपए से भी ऊपर निकल गया है।

देश के प्रमुख शहरों में पेट्रोल-डीजल के दाम

शहरपेट्रोल (रुपए/लीटर)डीजल (रुपए/लीटर)
श्रीगंगानगर113.21103.15
अनूपपुर112.78101.05
परभणी110.1398.18
भोपाल110.2098.67
जयपुर108.7199.02
मुंबई107.8397.45
दिल्ली101.8489.87