• Hindi News
  • Business
  • Petrol Diesel Price Hike ; Petrol diesel May Become Costlier By Rs 2 In The Coming Days, Crude Oil Crosses $ 70

राहत की उम्मीद नहीं:आने वाले दिनों में और बढ़ सकते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम, कच्चा तेल 70 डॉलर के पार पहुंचा

नई दिल्ली5 महीने पहले

कोरोना महामारी के कहर के कम होने के साथ अब महंगाई का कहर बढ़ने लगा है। देश के कई राज्यों में पेट्रोल के दाम 100 रुपए प्रति लीटर के पार निकल गए हैं। आने वाले दिनों में इसके और बढ़ने की उम्मीद है। पेट्रोल-डीजल की कीमतें कच्चे तेल के महंगे होने के कारण बढ़ रही हैं। कच्चे तेल की कीमत 70 डॉलर प्रति बैरल के पार निकल गई है।

बढ़ रही कच्चे तेल की मांग
IIFL सिक्योरिटीज के वाइस प्रेसिडेंट (कमोडिटी एंड करेंसी) अनुज गुप्ता कहते हैं कि अमेरिकी अर्थव्यवस्था लगभग खुल चुकी है। इसके साथ ही यूरोपीय देशों में भी जीवन सामान्य हो रहा है। इससे पेट्रोलियम पदार्थों की मांग बढ़ रही है। कल कच्चे तेल की कीमतें खूब चढ़ीं और यह दो साल के उच्चतम स्तर पर आ गया।

आने वाले दिनों 2 रुपए तक महंगा हो सकते हैं पेट्रोल-डीजल
अनुज गुप्ता के अनुसार इस महीने के आखिर तक कच्चे तेल के दाम 73 डॉलर प्रति बैरल के पार जा सकते हैं। इससे आने वाले दिनों में पेट्रोल-डीजल के दाम 2 रुपए प्रति लीटर तक बढ़ सकते हैं।

क्यों महंगा हो रहा कच्चा तेल?
कई देशों में लॉकडाउन खुलने से कच्चे तेल की डिमांड बढ़ गई है। इसके अलावा ईरान पर कच्‍चा तेल निर्यात करने को लेकर लगा प्रतिबंध हटता नहीं दिख रहा है। इस कारण भी कच्चे तेल के दाम लगातार बढ़ रह हैं। भारत ने ईरान पर तत्कालीन ट्रंप प्रशासन की पाबंदी के बाद 2019 के मध्य से ईरान से तेल आयात करना बंद कर दिया था।

1 साल में पेट्रोल 23.23 और डीजल 15.99 रुपए महंगा हुआ

बीते 1 साल में अगर पेट्रोल-डीजल की बात करें तो 2 जून 2020 को पेट्रोल 71.26 और डीजल 69.39 पर था, जो अब 94.49 और 85.38 रुपए प्रति लीटर पर है। यानी बीते 1 साल में ही पेट्रोल 23.23 और डीजल 15.99 रुपए महंगा हुआ है।

पेट्रोल-डीजल महंगा होने से बढ़ रही थोक महंगाई
पिछले महीने यानी अप्रैल में थोक महंगाई दर का सूचक यानी होलसेल प्राइस इंडेक्स (WPI) 10.49% रहा है। जबकि मार्च में यह 7.39% था। वाणिज्य मंत्रालय मंत्रालय के ताजा डाटा के मुताबिक, एक महीने में WPI में 3.1% की बढ़ोतरी हुई है। मंत्रालय के बयान में कहा गया है कि महंगे क्रूड पेट्रोलियम और मिनरल ऑयल्स यानी पेट्रोल-डीजल के कारण वस्तुओं की थोक कीमतों में बढ़ोतरी हो रही है।

GST के दायरे में लाने पर कम हो सकते हैं पेट्रोल डीजल के दाम
अगर पेट्रोल-डीजल आधे दाम में मिलने लगे तो आपकी खुशी का ठिकाना नहीं रहेगा। ये संभव हो सकता है, अगर पेट्रोल-डीजल को GST के दायरे में लाया जाए। हालांकि सरकार ऐसा करने के मूड में नहीं है। ऐसा होता है तो इससे सरकार की टैक्स से होने वाली कमाई घट जाएगी। अगर इस समय पेट्रोल-डीजल पर GST लागू होती तो पेट्रोल 81 और डीजल 74 रुपए प्रति लीटर के हिसाब से बिक रहा होता।

खबरें और भी हैं...