पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Business
  • Ramnavmi ; Financial Tips : Ramayan ; Lord Ram ; It Is Important To Always Be Ready To Deal With Bad Times, These 6 Financial Tips Can Be Learned From Lord Ram

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रामनवमी स्पेशल:बुरे समय से निपटने के लिए हमेशा तैयार रहना जरूरी, भगवान राम से सीख सकते हैं फाइनेंशियल प्लानिंग से जुड़ी ये 6 बातें

नई दिल्ली15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

आज पूरे देश में रामनवमी मनाई जा रही है। इस दिन भगवान विष्णु के सातवें अवतार भगवान राम का जन्म हुआ था। भगवान राम से कई तरह के लाइफ और मनी मैनेजमेंट टिप्स लिए जा सकते हैं। भगवान राम से सीखा जा सकता है कि किस तरह सही योजना बनाकर बड़ी से बड़ी समस्या से निपटा जा सकता है। आज रामनवमी के अवसर पर हम आपको ऐसी 6 बातों के बारे में बता रहे हैं जो आप भगवान राम के जीवन से सीख सकते हैं।

हेल्थ इंश्योरेंस है जरूरी
लक्ष्मण जी को जब तीर (शक्ति) लगा था, तब हनुमान जी उनके लिए संजीवनी बूटी लेकर आए थे। जिससे लक्ष्मण जी की जान बची थी। लेकिन आपके पास हनुमान जी नहीं है इसीलिए आप जितनी जल्दी हो सके, हेल्थ इश्योरेंस ले लें। कोरोना जैसी बीमारी होने पर आपको सही इलाज मिल सके, इसके लिए आपके पास हेल्थ इंश्योरेंस होना बहुत जरूरी है। ये आपके बुरे समय में काम आता है और बीमारी की हालत में आपकी सेविंग्स को इलाज पर खत्म होने से भी बचाता है। हेल्थ इंश्योरेंस आपको सही इलाज दिलाने में मदद करेगा।

बुरे वक्त से निपटने के लिए इमरजेंसी फंड तैयार करें
भगवान राम को अचानक अपनी सभी सुख सुविधाओं को त्याग कर 14 साल के लिए वनवास जाना पड़ा था, लेकिन आज के जमाने में अपनी सुख सुविधाओं के बिना रहना किसी के बस में नहीं है। इससे हमें सीखना चाहिए कि हमेशा नौकरी जाने जैसी आपातकालीन स्थितियों के लिए तैयार रहना चाहिए। इसके लिए आपको एक इमरजेंसी फंड तैयार करना चाहिए। यह इमरजेंसी फंड आपके कम से कम 5 से 6 महीने के वेतन के बराबर होना चाहिए। इससे आपको कोरोना काल जैसे बुरे वक्त से निपटने में मदद मिलेगी।

फाइनेंशियल बजट तैयार करें
लक्ष्मण रेखा की तरह आपको भी फाइनेंशियल बजट की रेखा बनानी चाहिए और इस रेखा को पार नहीं करना चाहिए। रेखा पार करने पर आप भी मुसीबत में फंस सकते हैं। किसी भी तरह की वित्तीय समस्या से निपटने के लिए वित्तीय अनुशासन बहुत जरूरी है।

वित्तीय अनुशासन के लिए आपको अपने मासिक खर्चों के लिए एक बजट तैयार करना चाहिए और महीने के अंत में वास्तविक खर्चों के साथ बजट की तुलना करनी चाहिए। यह तुलना आपको एहसास कराएगी कि आपने उस महीने में क्या फिजूल खर्च किया है। इससे आप अपने फिजूल खर्चों को कंट्रोल कर सकेंगे। इससे आपको ज्यादा बचत करने में मदद मिलेगी।

दूरदर्शिता और संयम जरूरी
वनवास के दौरान राम जी को कई समस्याओं का सामना करना पड़ा था। जैसे सीता माता के हरण के समय भगवान राम ने धैर्य के साथ काम लिया और दूरदर्शिता के साथ योजना बनाकर रावण को मारकर सीता माता को आजाद कराया। ऐसे ही आपको भी वित्तीय परेशानी में घबराना नहीं चाहिए, संयम के साथ काम करके उससे निपटने की कोशिश करनी चाहिए। इसके अलावा आपका दूरदर्शी होना आपको कई परेशानियों से बचा सकता है।

बुरे समय को भुलाकर आगे बढ़ें
भगवान राम को रावण के साथ 14 दिनों तक युद्ध करना पड़ा था। इसके बाद भगवान राम को विजय प्राप्त हुई थी। युद्ध के दौरान राम भगवान को कई परेशानियों का सामना करना पड़ा, लेकिन भगवान राम ने 14 साल के बाद वापस अयोध्या जाकर अपने बुरे समय को भुलाकर राजपाट संभाला। इसी तरह आपको भी अपने बुरे समय को भुलाकर आगे बढ़ना चाहि। इसके अलावा अपने गलत फैसलों से सीखना भी जरूरी है।

एक ही जगह इन्वेस्टमेंट न करें
भगवान राम जब सीता माता के कहने पर हिरण को पकड़ने गए तो उनके वापस न आने पर सीता माता ने लक्ष्मण जी को भी उनके पीछे भेज दिया था। इससे रावण को मौका मिल गया और उसने सीता जी का हरण कर लिया। इससे हमें सीख लेनी चाहिए कि कभी भी अपना पूरा पैसा एक ही जगह निवेश नहीं करना चाहिए। आपको अपने पोर्टफोलियो में विविधता रखनी चाहिए, क्योंकि जरूरी नहीं कि आपने जहां पैसा लगाया है, वो आपको रिटर्न दे ही।

मान लीजिए आप दो जगह 100-100 रुपए निवेश करते हैं। पहले से आपको 10% का रिटर्न मिला और दूसरी जगह से 5% का नुकसान हुआ। तो ऐसे में भी आप फायदे में ही रहेंगे। वहीं अगर पहले से आपको 10% का नुकसान और दूसरी जगह से 5 फीसदी का फायदा हुआ। तो ऐसे में भी दूसरी जगह से हुआ फायदा आपके नुकसान को कम कर देगा।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

और पढ़ें